Assembly Banner 2021

क्षिप्रा नदी में धमाके : ONGC की टीम करेगी जांच, ज़मीन के अंदर गैस है या कुछ और!

क्षिप्रा नदी में 26 फरवरी से लगातार धमाके हो रहे हैं.

क्षिप्रा नदी में 26 फरवरी से लगातार धमाके हो रहे हैं.

Ujjain.13 मार्च को शनि अमावस्या का नहान है.नहान और विस्फोट वाली जगह पास होने के कारण प्रशासन ने इस बार एहतियात के तौर पर त्रिवेदी घाट पर स्नान पर रोक लगा दी है.पूरे घाट को सील कर दिया गया है.

  • Share this:
उज्जैन.उज्जैन (Ujjain) में क्षिप्रा नदी के नीचे मीथेन या इथेन गैस का भंडार होने की संभावना है. इसकी जांच के लिए आयी जिओलॉजीकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम ने अपनी रिपोर्ट में ऐसी संभावना जताई है.उसकी रिपोर्ट के बाद अब जांच के लिए ऑयल एंड नेचरल गैस कॉर्पोरेशन (ONGC) की टीम उज्जैन आएगी.

उज्जैन में क्षिप्रा नदी के त्रिवेणी घाट स्टॉप डेम के पास बने नये घाट पर 26 फरवरी से लगातार धमाके होने की सूचना मिली थी.खबर मिलते ही प्रशासन हरकत में आया और कलेक्टर आशीष सिंह ने ज़ियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया को इसकी सूचना दी.उसके बाद तीन सदस्यों की टीम ने उज्जैन आकर मौके का निरीक्षण.टीम एक दिन वहां रुकी और विस्फोट वाली जगह के करीब 6 सैम्पल लिए थे.टीम ने अपनी जांच रिपोर्ट कलेक्टर को सौंप दी है.उसमें उसने मीथेन और इथेन गैस होने संभावना जताई है.

ONGC करेगी जांच 
जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम ने नदी के अंदर दो तरह की गैस होने की संभावना जताई है.ये बताया गया है कि वहां मीथेन और इथेन गैस हो सकती है.हो सकता है इस वजह से धमाके हो रहे हों या फिर मंदिर का अपशिष्ट एक जगह इकट्ठा हो रहा हो. जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की इस रिपोर्ट के बाद अब कलेक्टर ने ऑयल एंड नेचरल गैस कॉर्पोरेशन की टीम को जांच के लिए बुलाया है.
रिपोर्ट में खुलासा


जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि जहां विस्फोट हो रहा है वहां संभवतः मीथेन या ईथेन गैस हो सकती है.एक दूसरा कारण ये हो सकता है कि घाट के पास शनि मंदिर है.वहां जमा पूजन सामग्री में विस्फोट हो रहा हो.अप स्ट्रीम और डाउन स्ट्रीम में पानी स्थिर और जमा हुआ है.टीम ने सुझाव दिया है की अपशिष्ट पदार्थो को यहां नदी में फेंकने पर रोक लगायी जाना चाहिए.यहां सफाई की जरूरत है.समय समय पर इसकी देख रेख करना होगी और पूजन सामग्री,अपशिष्ट पदार्थ से बचने के लिए विशेष ध्यान रखना होगा.रही बात नदी के अंदर गैस होने की बात तो इसकी जांच के लिए ऑयल एंड नेचरल गैस कॉर्पोरेशन की टीम बुलवाकर उसकी जांच की जाए.

त्रिवेणी घाट पर नहान पर रोक
13 मार्च को शनि अमावस्या का नहान है.हर बार त्रिवेणी घाट में नहान के लिए  बड़ी संख्या में श्रद्धालु उज्जैन पहुंचते हैं. शनि मंदिर में पूजन अर्चन भी करते हैं.नहान और विस्फोट वाली जगह पास होने के कारण प्रशासन ने इस बार एहतियात के तौर पर त्रिवेदी घाट पर स्नान पर रोक लगा दी है.पूरे घाट को सील कर दिया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज