शिप्रा नदी विस्फोट: ONGC ने शुरू की जांच, नहीं मिली किसी तरह की गैस, जल्द सौंपेगी रिपोर्ट

ओएनजीसी की दो सदस्यों की टीम ने शिप्रा से सैंपल ले लिए हैं.

ओएनजीसी की दो सदस्यों की टीम ने शिप्रा से सैंपल ले लिए हैं.

शिप्रा नदी विस्फोट: ONGC की दो सदस्यीय टीम आज उज्जैन पहुंची. टीम ने सैंपल लिए. टीम को कहीं भी गैस का कोई नामोनिशान नहीं मिला. देहरादून की ये टीम 15 दिन में अपनी रिपोर्ट कलेक्टर को सौंपेगी.

  • Last Updated: March 14, 2021, 5:22 PM IST
  • Share this:

उज्जैन. ONGC ने मध्य प्रदेश के उज्जैन में शिप्रा नदी में हुए विस्फोटों की जांच शुरू कर दी है. रविवार को देहरादून से ONGC जनरल मैनेजर (कैमेस्ट्री) अमित सक्सेना और सीनीयर जियोलॉजिस्ट अजय एन लाल यहां पहुंचे. दोनों अफसरों ने कई जगहों से नदी के अंदर की मिट्टी और पानी के सैंपल लिए. हालांकि, इस टीम को नदी में किसी भी तरह का गैस रिसाव नहीं मिला है. इस टीम को अपनी जांच रिपोर्ट 15 दिन के अंदर कलेक्टर कौ सौंपनी है.

जियोलॉजिस्ट अजय एन लाल ने बताया कि फिलहाल सैंपल कलेक्ट किए हैं. इसलिए किसी नतीजे पर पहुंचना जल्दबाजी होगा. जांच के बाद तथ्य सामने आएंगे, तभी कुछ कहा जा सकेगा. उन्होंने कहा कि अभी तक जो भी स्पॉट देखे गए वहां पानी में न तो बुलबुले निकल रहे हैं और न ही किसी तरह की गैस का रिसाव दिखाई दिया है. इसलिए फिलहाल कुछ नहीं कहा जा सकता.

GSI की रिपोर्ट नहीं हुई सार्वजनिक

नदी में हो रहे विस्फोट की जांच जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (GSI) भोपाल की टीम भी कर चुकी है. कुछ दिनों पहले ही GSI की टीम ने नदी से गाद और पानी के सैंपल लिए थे. उनकी जांच रिपोर्ट अभी सार्वजनिक नहीं हुई है.
प्रशासनिक अमले में मचा था हड़कंप

गौरतलब है कि फरवरी के आखिरी और मार्च के पहले हफ्ते में धमाके होने की सूचना मिलने से प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गया था. आनन-फानन में उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह ने भूगर्भीय जानकारों की मदद लेने और जांच करने को लेकर  GSI की टीम को मेल किया था. इसके बाद GSI ने अपनी जांच में मीथेन और इथेन गैस की संभावना जताई थी. इसके तुरंत बाद कलेक्टर ने ONGC उत्तराखंड देहरादून  की टीम को जांच के लिए बुलाया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज