Ujjain : अतिक्रमण हटाने गयी टीम पर पथराव, नगर निगम की महिला इंजीनियर घायल

UJJAIN-अतिक्रमणकारी स्मार्ट सिटी की जमीन पर कब्जा किये बैठे हैं.

Ujjain. -उपायुक्त का कहना है जिस मकान को हटाने टीम गयी थी उसे पंवासा क्षेत्र में बनी मल्टी में जगह दी गयी है लेकिन वो लोग वहां जाने के लिए तैयार नहीं हैं. पिछले दो तीन साल से वहां कब्जा जमाए बैठे हैं.

  • Share this:
उज्जैन. उज्जैन (Ujjain) के आगर रोड स्थित नजर अली मिल कम्पाउंड में नगर निगम परिसर के पास अवैध कब्जे हटाने गयी टीम पर पथराव (Pathrav) होने से हंगामा मच गया. निगम की एक महिला अधिकारी के सिर में चोट लगने के बाद जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया. पथराव कर रहे सात लोगों को हिरासत में ले लिया गया है.

उज्जैन शहर के मध्य स्थित नजरअली मिल की करोड़ों रुपये की बेशकीमती जमीन पर लोगों ने अतिक्रमण कर रखा है. नगर निगम और पुलिस की टीम इसे हटाने पहुंची थी. जैसे ही अवैध निर्माण तोड़े जाने लगे अतिक्रमणकारी लोग टीम पर टूट पड़े. यहां तक कि महिलाएं भी ईंट और पत्थर उठा कर मारने लगीं. अतिक्रमणकारियों ने पुलिस से झूमाझटकी भी की.
महिला अधिकारी के सिर में चोट
देखते ही देखते हंगामा मच गया. पथराव में नगर निगम के झोन क्रमांक 2 की उपयंत्री साधना चौधरी के सिर और पैर में पत्थर लग गया. इसमें उपयंत्री घायल हो गयीं. सेन्ट्रल कोतवाली पुलिस ने हंगामा कर रहे है कुल सात लोगों के खिलाफ शासकीय कार्य में बाधा डालने का मामला दर्ज किया है.

टीम पर पथराव
निगम उपायुक्त सुबोध जैन ने बताया कि स्मॉर्ट सिटी का काम जिस जमीन पर होना है वहां लोगों ने अतिक्रमण कर रखा है. एक मकान हटाने के लिए टीम पहुंची थी. उसे भारी विरोध का सामना करना पड़ा. पत्थर बाजी भी हुई जिसमें हमारी एक सब इंजीनियर घायल हो गयीं. उन्हे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. डेढ़ वर्ष पूर्व भी इस जगह अतिक्रमण हटाया गया था. वहां एक मकान रह गया था जिसे हटाने आज टीम गयी थी.

कार्रवाई रोकी
पथराव और महिला अधिकारी के घायल होने के बाद कुछ देर के लिए कार्रवाई रोक दी गई. उपायुक्त का कहना है जिस मकान को हटाने टीम गयी थी उसे पंवासा क्षेत्र में बनी मल्टी में जगह दी गयी है लेकिन वो लोग वहां जाने के लिए तैयार नहीं हैं. पिछले दो तीन साल से वहां कब्जा जमाए बैठे हैं.

भाग खड़ी हुई टीम
अतिक्रमणकारियों में से एक गुड्डू मेवाड़ा का कहना है उनके चार भाइयो के घर यहां थे. ये लोग करीब 50 वर्ष से अधिक समय से पट्टे में दी हुई जमीन पर घर बनाकर रहे हैं. हाईकोर्ट का स्टे होने के बावजूद भी हमारे घर तोड़ दिए गये. सात लोगों को हिरासत में लेने के बाद भी अतिक्रमणकारी पथराव और धमकाते रहे. हालात बिगड़ते देख टीम सहित पुलिस कर्मी भी वहां से भाग खड़े हुए. अतिक्रमण कर जमींन पर बने मकान को निगम की टीम ने गिरा दिया है.

बारिश बीतने का इंतजार करते
अतिक्रमणकारी परिवार की महिलाओं और बच्चों ने भी ज़बरदस्त हंगामा और पथराव किया. इन लोगों की पुलिस कर्मियों से झड़प भी हुई. विरोध कर रहे लोगों को हटाकर नगर निगम ने जेसीबी से अतिक्रमण हटा दिया. कई वर्षों से रह रहे लोगों का कहना था कि निगम की टीम बिना सूचना के पहुंची और घरों को तोड़ दिया. हमें बारिश खत्म होने तक का समय दिया जाना था. मकानों में रह रही कई महिलाएं महिला पुलिसकर्मियों से झूमा झटकी करने लगीं टूटे हुए अतिक्रमण पर बैठकर रोती रहीं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.