डेल्टा प्लस वेरिएंट से देश के पहले मरीज की उज्जैन में हुई मौत, 2 साल की बच्ची में मिला वायरस

उज्जैन में जिस मरीज की डेल्टा प्लस वेरियंट से मौत हुई उसने वैक्सीन नहीं लगवाया था.

Ujjain News- डेल्टा प्लस वेरिएंट (Delta Plus variant) ने सरकार के माथे पर चिंता की लकीरें खींच दी हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय ने मध्य प्रदेश सहित अन्य राज्यों को सतर्क रहने की सलाह दी है. उज्जैन में डेल्टा प्लस वेरिएंट मई में ही दस्तक दे चुका था.

  • Share this:
उज्जैन. उज्जैन (Ujjain) में कोरोना वायरस के सबसे खतरनाक रूप डेल्टा प्लस वेरिएंट (Delta Plus variant) से एक मरीज की मौत हो चुकी है. संभवत: इस वायरस से मरने वाला ये देश का पहला मरीज है. कलेक्टर ने इसकी पुष्टि की है. यहां डेल्टा प्लस वेरिएंट से संक्रमित दो मरीज मिले थे उनमें से एक मरीज़ की मौत हो गयी है. उससे ज़्यादा ध्यान देने वाली बात ये है कि जिस मरीज की कोरोना के इस म्यूडेट वायरस से मौत हुई है उसने वैक्सीन नहीं लगवाया था. जबकि दूसरे मरीज को वैक्सीन लग चुका था. वो ठीक होकर घर जा चुका है.

देश में जानलेवा कोरोना वायरस के डेल्टा प्लस वेरिएंट ने सरकारों के माथे पर चिंता की लकीरें खींच दी हैं. स्वास्थ्य मंत्रायल ने मध्य प्रदेश सहित अन्य राज्यों को सतर्क रहने की सलाह दी है. उज्जैन में में भी डेल्टा प्लस वेरिएंट मई में ही दस्तक दे चुका था. इसकी पुष्टि उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह ने अब की है. आशीष सिंह ने कहा मई माह में जब कोरोना अपने चरम पर था तब उज्जैन में दो मरीजों में कोरोना के डेल्टा प्लस वेरियंट मिलने की जानकारी मिली थी. इसे हल्के में ना लें लेकिन वैक्सीन कितना जरूरी है ये इस बात से समझिए की वैक्सीन लगाने वाला संक्रमित बच गया और जिसने वैक्सीन नहीं लगवाया था उसकी मौत एक हफ्ते के अंदर ही हो गयी थी.



खतरनाक डेल्टा प्लस वेरियंट
उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह ने बताया मई माह में 2 मरीजों में डेल्टा प्लस वेरियंट मिला था. उन दोनों संक्रमित मरीजों की कॉन्टैक्ट हिस्ट्री निकाली गयी और उनके परिवार से मिलने वालों पर नजर बनाये हुए हैं. कांट्रैक्ट में आने वालो की टेस्टिंग भी कराई गयी और ये अच्छी बात रही कि कोई भी डेल्टा प्लस वेरियंट से संक्रमित नहीं मिला. इधर नोडल अधिकारी डॉ रौनक ने बताया कि 17 मई को संक्रमित मिले मरीज में डेल्टा प्लस वेरियंट मिला था. मात्र 6 दिन बाद उस मरीज की मौत हो गयी. उसके बाद 18 मई को डेल्टा प्लस वेरियंट से संक्रमित दूसरा मरीज मिला लेकिन वो ठीक होकर घर पर जा चुका है. बड़ी बात ये है कि मरने वाले मरीज ने वैक्सीन नहीं लगवाया था जबकि जो मरीज स्वस्थ हुआ वो वैक्सीन लगवा चुका था. इसलिए वैक्सीन बहुत जरूरी है और आने वाले नये वेरियंट में भी ये वैक्सीन कारगर है.

डेल्टा प्लस वेरियंट के लिए अलग से गाइड लाइन नहीं
देश में अब तक डेल्टा प्लस वेरियंट के 35 से अधिक केस मिल चुके हैं. ये केस 8 राज्यों महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, केरल, पंजाब, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, जम्मू और कर्नाटक में मिले हैं. इसलिए राज्यों को सतर्क रहने की जरूरत है. ये वेरियंट खतरानक इसलिए है क्योंकि इसका फैलाव बहुत ज्यादा डराने वाला है. इस बीच उज्जैन में महाकाल मंदिर 28 जून से खुलने जा रहा है. वहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु अलग अलग राज्यों से दर्शन करने उज्जैन आएंगे. इसको लेकर उज्जैन कलेक्टर ने साफ़ कर दिया है कि डेल्टा वेरियंट के लिए अलग से गाइड लाइन जारी नहीं की है. लेकिन वैक्सीन सर्टिफिकेट और 24 घंटे पहले की कोरोना निगेटिव रिपोर्ट लाने वाले श्रद्धालु को ही मंदिर में प्रवेश दिया जाएगा.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.