अपना शहर चुनें

States

युवती का दोस्‍त ही निकला हत्‍यारा, पुलिस की जांच में हुआ हैरान करने वाला खुलासा

30 वर्षीय स्वाति भट्ट का दोस्‍त सुखविंदर खनूजा ही निकला हत्यारा.
30 वर्षीय स्वाति भट्ट का दोस्‍त सुखविंदर खनूजा ही निकला हत्यारा.

उज्‍जैन में 30 वर्षीय स्वाति भट्ट (Swati Bhatt) नामक युवती की मौत के मामले में नया मोड़ आ गया है. इस मामले में युवती का दोस्‍त सुखविंदर खनूजा (Sukhwinder Khanuja) ही हत्यारा निकला है, जो कि शिव सेना (Shiv Sena) का जिलाध्‍यक्ष भी रह चुका है.

  • Share this:
उज्‍जैन. मध्‍य प्रदेश के उज्जैन थाना महाकाल अंतर्गत चिंतामन बाईपास पर 30 वर्षीय स्वाति भट्ट (Swati Bhatt) नामक युवती की मौत के मामले में नया मोड़ आ गया है. दरअसल, स्वाति को अस्पताल तक पहुंचाने वाला सुखविंदर खनूजा (Sukhwinder Khanuja) ही हत्यारा निकला है. 15 नवंबर को पुलिस (Polic) को सूचना मिली थी कि एक युवती की एक्सीडेंट में मौत हो गई है. जबकि इस मामले में शक होने पर पुलिस ने अपनी कार्रवाई जारी रखी और आज बड़ा खुलासा किया है.

पुलिस अधीक्षक ने किया खुलासा
उज्जैन पुलिस अधीक्षक सचिन अतुलकर (Superintendent of Police Sachin Atulkar) ने आज प्रेस ब्रीफिंग में बड़ा खुलासा करते हुए बताया कि 15 नवंबर को दुर्घटना में स्वाति भट्ट नामक युवती की मौत कोई दुर्घटना नहीं थी बल्कि सोची समझी साजिश के तहत की गई हत्या थी. हत्या करने वाला कोई और नहीं बल्कि स्वाति का दोस्त सुखविंदर खनूजा ही है, जो कि शिवसेना का जिला अध्यक्ष भी रह चुका है. 15 नवंबर को पुलिस को सूचना मिली थी कि सीएचएल अस्पताल में एक अज्ञात युवक किसी युवती को घायल अवस्था में छोड़कर चला गया है. पुलिस अस्पताल पहुंची उससे पहले ही युवती की मौत हो चुकी थी.

पुलिस को जांच पड़ताल में पता चला कि युवती का नाम स्वाति भट्ट है और उसे अस्पताल पहुंचाने वाला युवक सुखविंदर खनूजा है, जिस पर स्वाति ने 2014 में बलात्कार का आरोप लगाया था. यही नहीं, इस मामले में खनूजा को जेल भी हुई थी, लेकिन बाद दोनों पक्षों में समझौता हो गया और सुखविंदर जेल से बाहर आ गया था. पुलिस इस पूरे मामले को शुरुआत से ही शक की नजर से देख रही थी और यह दुर्घटना कम और हत्या का मामला ज्यादा दिखाई दे रहा था. पुलिस ने जांच की तो पता चला कि स्वाति सुखविंदर से फिर से मिलने लगी थी, जिससे वह परेशान हो गया था. पुलिस ने जांच में पाया कि मैजिक चलाने वाला इंदौर का वाहिद नाम का इस मामले में जुड़ा हुआ है और जब पुलिस ने सख्ती दिखाते उससे पूछताछ की तो उसने सारे राज खोल के रख दिए.
इतने में तय हुआ था सौदा


सुखविंदर ने इंदौर के ही रहने वाले पंकज से सौदा तय किया था. पंकज ने पत्नी उमा और संजय को इस सौदे में शामिल किया और फिर वहीद और समीर को भी साथ कर लिया. जबकि इंदौर में रहने वाले 20 वर्षीय मैजिक चालक वहीद ने ₹100000 के सौदे तहत 15 नवंबर को स्वाति को इनर रिंग रोड पर बुलाकर ना सिर्फ उसके साथ मारपीट बल्कि उस पर मैजिक गाड़ी चढ़ा दी थी. हालांकि हत्‍या के मामले में फिलहाल पुलिस ने सभी 6 षड्यंत्रकारियों को गिरफ्तार किया है. इस मामले के खुलासे के बाद हर कोई पुलिस की तारीफ कर रहा है.

ये भी पढ़ें-

आजादVsअर्जुन: राजभवन पहुंचा प्रतिमा विवाद, चंद्रशेखर आजाद के रिश्‍तेदारों ने दी ये चेतावनी

पिता की डांट से नाराज होकर 10वीं की छात्रा ने कर ली खुदकुशी, SSP ने कही ये बात
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज