लाइव टीवी
Elec-widget

मध्य प्रदेश के पर्यटन को लग सकती है इन जंगली हाथियों की नज़र

Bijendra Tiwari | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 23, 2019, 7:57 PM IST
मध्य प्रदेश के पर्यटन को लग सकती है इन जंगली हाथियों की नज़र
जंगली हाथियों के निशाने पर बांधवगढ़ का पर्यटन

40 जंगली हाथियों (Elephants) का झुंड लंबे समय से बांधवगढ़ (Bandhavgarh) के आस पास के गावों में है. छिटपुट घटनाओं को छोड़ दें तो हाथियों का ये रौद्र रूप अब देखने में आया है. फसलें और किसानों की झोपड़ियां तो पहले ही तबाह हो चुकी हैं. समय रहते कदम नहीं उठाए गए तो बांधवगढ़ का पर्यटन (Tourism) भी खतरे में पड़ सकता है.

  • Share this:
उमरिया. झारखंड (Jharkhand) से आए जंगली हाथियों (Elephants) की दहशत में लकड़ी की आग के सहारे घर की रखवाली में बैठे किसानों (Farmers) का ये नजारा उमरिया (Umaria) जिले के महावन गांव का है, जहां पिछले 3 दिनों से जंगली हाथियों के आतंक ने पूरे गांव में दहशत फैला रखी है. महावन, गडपुरी, परासी, मरदरी सहित दर्जनों गांव में हाथियों ने अब तक किसानों के खलिहानों में रखा सैकड़ों क्विंटल धान (Dhan) बर्बाद कर दिया है, साथ ही खेतों में बनी झोपड़ियों को भी तोड़ दिया है.

शाम को गावों में आते हैं हाथी
झारखंड से आए जंगली हाथियों ने बांधवगढ़ पार्क के पास के गावों में डेरा डाल रखा है. दिन में हाथी जंगलों में छिप जाते हैं और शाम होते ही गांव की तरफ रुख कर लेते हैं, जिससे किसानों का जीना हराम हो गया है. हैरानी की बात तो ये है कि ये हाथी धान खाने के साथ धान से भरी बोरियों को भी अपने साथ ले जाते हैं. हाथियों के आतंक से इलाके के ग्रामीण परेशान हैं और खेती और गांव छोड़ने की बात करने लगे हैं.

News - ग्रामीण अपने साहस और सूझबूझ से जंगली हाथियों का मुकाबला कर रहे हैं.
ग्रामीण अपने साहस और सूझबूझ से जंगली हाथियों का मुकाबला कर रहे हैं.


हाथियों के निशाने पर बांधवगढ़ का पर्यटन
अपना सब कुछ गवांने के बाद भी इन गावों के किसान पटाखे व मशाल जलाकर हाथियों को दूर रखने की कोशिश कर रहे है. हाथियों को चकमा देने के लिए किसान तरह तरह के हथकंडे भी अपना रहे हैं. उड़ीसा होते हुए छत्तीसगढ़ के रास्ते बांधवगढ पहुंचे झारखंडी हाथियों ने साल भर पहले यहां दस्तक दी थी, जिसके बाद से उनका मूवमेंट बांधवगढ के आसपास ही रहा है, लेकिन छिटपुट घटनाओं को छोड़ दें तो हाथियों का उग्र रूप अब सामने आया है, जिसकी वजह से कई बार पर्यटन बंद भी करना पड़ा है.

News - शाम होते ही जंगली हाथी गांवों का रुख कर लेते हैं जिससे ग्रामीणों का जीना मुश्किल हो गया है, Bandhavgarh
शाम होते ही जंगली हाथी गांवों का रुख कर लेते हैं जिससे ग्रामीणों का जीना मुश्किल हो गया है.

Loading...

रात को बंद रहता है बांधवगढ से गुजरने वाला स्टेट हाइवे
हालात यहां तक बिगड़ चुके हैं कि बांधवगढ से गुजरने वाले स्टेट हाइवे को रात के समय बंद रखा जाता है, जिससे इलाके के सैकड़ों गांवों का आवागमन प्रभावित होता है. पार्क प्रबंधन हाथियों की सतत निगरानी में जुटा है, साथ ही अतिरिक्त चौकसी भी बढ़ाई गई है. हाथियों के झुंड में छोटे बड़े मिलाकर कुल 40 हाथियों के एक साथ होने की पुष्टि हुई है, इससे इलाके में किसानों के साथ साथ बांघवगढ़ का पर्यटन भी खतरे में है.

ये भी पढ़ें -
सरकारी नौकरी : अधिकतम आयु सीमा में बदलाव कर बेरोजगारी दूर करेगी कमलनाथ सरकार
हनीट्रैप में कितने 'लक्ष्मीकांत'! नेताओं-अफसरों के लीक हो रहे VIDEO की SIT कर रही है जांच

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उमरिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 23, 2019, 7:51 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...