Home /News /madhya-pradesh /

अनोखा स्कूल! केवल 2 बच्चों को पढ़ाने के लिए आते हैं टीचर, वेतन पर खर्च एक लाख रुपये

अनोखा स्कूल! केवल 2 बच्चों को पढ़ाने के लिए आते हैं टीचर, वेतन पर खर्च एक लाख रुपये

Narsinghpur News: नरसिंहपुर जिले के चिरचिटा गांव में सिर्फ भाई-बहन के पढ़ने के लिए खोला गया सरकारी स्कूल.. (प्रतीकात्मक फोटो)

Narsinghpur News: नरसिंहपुर जिले के चिरचिटा गांव में सिर्फ भाई-बहन के पढ़ने के लिए खोला गया सरकारी स्कूल.. (प्रतीकात्मक फोटो)

Madhya Pradesh News: नरसिंहपुर जिले में एक ऐसा अनोखा स्कूल है जो सिर्फ दो बच्चों को पढ़ाने के लिए खुलता है. खबर थोड़ा अटपटी जरूर लग सकती लेकिन सच यही है. ये स्कूल ये अनोखा स्कूल गोटेगांव विकासखंड के चिरचिटा गांव में है. दरअसल, संकुल केंद्र सर्रा के अंतर्गत आने वाले इस स्कूल में दो शिक्षक हैं. दर्ज बच्चों की संख्या भी केवल दो ही है. यही वजह है कि इन बच्चों को पढ़ाने के लिए टीचर जंगलों तक के चक्कर लगा आते हैं. दो बच्चों को पढ़ाने के लिए सरकार हर महीने करीब एक लाख रुपए वेतन और अन्य चीजों में खर्च कर रही है.

अधिक पढ़ें ...

    नरसिंहपुर. ‘पढ़ेगा इंडिया तभी तो आगे बढ़ेगा इंडिया’ इस लाइन को मध्य प्रदेश  (Madhya Pradesh) के एक गांव का स्कूल जीवंत कर रहा है. नरसिंहपुर जिले में एक ऐसा स्कूल मौजूद है जो सिर्फ दो बच्चों को पढ़ाने के लिए खुलता है. ये खबर पढ़ने में थोड़ा अटपटा जरूर लग सकता लेकिन सच यही है. इतना ही नहीं जब ये बच्चे पढ़ने नहीं आते हैं तो स्कूल के टीचर उन्हें जंगल या गांव से खोज कर पढ़ाने के लिए लाते हैं. प्रशासन इन दोनों बच्चों की जिन्दगीको संवारने के लिए स्कूल  (Schools) को संचालित रखने में किसी भी तरह की कमी नहीं छोड़ रहा है. इन दो बच्चों को पढ़ाने के लिए सरकार हर महीने करीब एक लाख रुपए वेतन और अन्य चीजों में खर्च कर रही है.

    यह अनोखा स्कूल गोटेगांव विकासखंड के चिरचिटा गांव में है. दरअसल, संकुल केंद्र सर्रा के अंतर्गत आने वाले इस स्कूल में दो शिक्षक हैं. दर्ज बच्चों की संख्या भी केवल दो ही है. यही वजह है कि इन बच्चों को पढ़ाने के लिए टीचर जंगलों तक के चक्कर लगा आते हैं. बच्चों के घर की आर्थिक स्थिति बेहद दयनीय है इसी वजह से उन्हें बकरिया चराने भी जाना पड़ता है. तो ऐसे में जब कभी वो स्कूल नहीं आ पाते हैं तो स्कूल के टीचर उन्हें खोज कर पढ़ाने के लिए लाते हैं. गांव के निवासी भरतलाल ठाकुर दोनों बच्चे स्कूल में पढ़ते हैं. मनीषा चौथी कक्षा और दीपेश पहली कक्षा में है.

    बता दें कि आज भी दूर दराज के क्षेत्र में ऐसे स्कूल मौजदू है जहां पढ़ाने के लिए स्कूल के शिक्षकों को मुश्किल रास्तों से होकर गुजरना पड़ता है. वहीं बच्चों को भी काफी शिक्षा हासिल करने के लिए काफी परेशानियों को झेलना पड़ता है.

    एमपी में स्कूल खोलने को लेकर लिया गया बड़ा फैसला

    मध्य प्रदेश सरकार ने स्कूल खोलने को लेकर बड़ा निर्णय लिया है. अब मध्य प्रदेश में स्कूल 100% की बजाय 50% क्षमता के साथ खोले जाएंगे. यह फैसला कल से ही लागू हो जाएगा. सरकार ने कोरोना के नए वेरिएंट की आशंका के चलते यह निर्णय लिया है. हालांकि ऑनलाइन कक्षाएं जारी रहेंगी. सरकार द्वारा जारी सूचना के अनुसार 1 दिन 50% छात्र और अगले दिन बाकी 50% छात्र स्कूल आएंगे. इससे पहले मध्य प्रदेश सरकार ने 100 फीसदी क्षमता के साथ स्कूल खोलने का निर्णय लिया था. जिसके लिए सरकार ने गाइडलाइन भी जारी की थी.

    Tags: Madhya pradesh news, Madhya pradesh news live, Narsinghpur news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर