"कांग्रेस द्वारा गढ़े गए 'भगवा आतंक' शब्द के खिलाफ BJP का सत्याग्रह हैं साध्वी"

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कांग्रेस ने साजिश के तहत आतंकवाद के मुकाबले भगवा आतंकवाद और हिन्दू आतंकवाद का भूत खड़ा करने की कोशिश की, जिसकी शिकार साध्वी प्रज्ञा सिंह बनीं.

manoj sharma | News18 Madhya Pradesh
Updated: May 12, 2019, 11:11 AM IST
शिवराज सिंह चौहान (फाइल फोटो)
manoj sharma
manoj sharma | News18 Madhya Pradesh
Updated: May 12, 2019, 11:11 AM IST
मध्य प्रदेश में विदिशा लोकसभा क्षेत्र में मतदान से पहले बीजेपी नेता और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बातचीत में कहा कि भोपाल में साध्वी प्रज्ञा उम्मीदवार के रूप में कांग्रेस द्वारा गढ़े गए 'भगवा आतंक' के शब्द के खिलाफ बीजेपी का सत्याग्रह हैं.

शिवराज सिंह ने कहा कि साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का कहना है कि पहली बार हिन्दू और हिन्दुत्व को इंसाफ मिला है. शिवराज ने कहा कि मोदीजी की सरकार सबका साथ, सबका विकास के साथ आगे बढ़ रही है. साध्वी प्रज्ञा की हिन्दुत्व की अवधारणा यही है वसुधैव कुटुंबकम. साध्वी जी ने सही कहा है.



शिवराज ने कहा कि इस बार भगवा रंग इतना है कि बीजेपी कांग्रेस में फर्क करना मुश्किल हो गया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ढोंग करती है. वहीं भोपाल सीट से साध्वी के मैदान में उतरने से कांग्रेस के पांव के नीचे से जमीन खिसक गई है. तभी दिग्विजय सिंह, जो इंजीनियर हैं उन्होंने चुनाव में जनता के मुद्दे उठाने के बजाए मिर्ची का हवन फिर खप्पर सिर पर रखकर स्वाहा-स्वाहा मंत्रों का जाप कराने लगे. वो जान गए हैं कि जनता उनके साथ नहीं है, इसलिए इस तरह के टोटके और पाखंड कर रहे हैं.

आतंक के आरोपों के बावजूद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर बीजेपी की उम्मीदवार कैसे बन गई के सवाल पर शिवराज सिंह ने कहा कि भगवा आतंकवाद नाम की कोई चीज देश में नहीं है. कांग्रेस ने साजिश के तहत आतंकवाद के मुक़ाबले भगवा आतंकवाद और हिन्दू आतंकवाद का भूत खड़ा करने की कोशिश की, जिसकी शिकार साध्वी प्रज्ञा सिंह बनीं.

उन्होंने कहा कि साध्वी पूरे 9 साल जेल में रहीं. भगवा आतंकवाद जैसे शब्द गढ़ने के खिलाफ बीजेपी ने साध्वी प्रज्ञा सिंह को उम्मीदवार बनाकर सत्याग्रह किया है. शिवराज ने कहा कि राष्ट्रवाद में सब समाहित हैं. विकास जनता का कल्याण करना है. राष्ट्रवाद तभी होगा जब राष्ट्र में रहने वाले लोग खुश होंगे.

गौरतलब है कि "बटन दबाओ, देश बनाओ" के नारे के साथ लोकतंत्र के महापर्व को लेकर लोगों में खासा उत्साह है. लोग बढ़-चढ़कर इसमें हिस्सा ले रहे हैं.

ये भी पढ़ें:- किसकी होगी भोपाल सीट : बीजेपी बचा पाएगी अपना गढ़ या कांग्रेस का होगा सूख़ा ख़त्म 
Loading...

ये भी पढ़ें:- EVM में खराबी के कारण मुरैना में लेट से शुरू हुआ मतदान

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...