Video: रुपए निकालने रातभर बैंक के बाहर सो रहे किसान, जानिए उनकी क्यों हुई ऐसी हालत

मध्य प्रदेश के विदिशा जिले में किसानों को बैंक से पैसे निकालने रातभर जागना पड़ रहा है.

मध्य प्रदेश के विदिशा जिले में किसानों को बैंक से पैसे निकालने रातभर जागना पड़ रहा है.

मध्य प्रदेश के विदिशा जिले में किसान बेहद परेशान हैं. उन्हें अपने रूपए निकालने के लिए रातभर बैंक के बाहर इंतजार करना पड़ा. बैंक कर्मचारी संक्रमित हो गए थे, इस वजह से बैंक बंद थी. कई दिनों बाद बैंक खुली तो भीड़ लग गई.

  • Share this:

विदिशा. मध्य प्रदेश के विदिशा जिले से अजीबो-गरीब वाकया सामने आया है. जिले के शमशाबाद में किसानों को बैंक से पैसे निकालने के लिए जबरदस्त मशक्कत करनी पड़ी. वे इसके लिए रातभर इंतजार करते रहे. यहां बाकायदा पासबुक की लंबी लाइन लगाई गई है.

गौरतलब है कि, शमशाबाद की जिला सहकारी बैंक के कई कर्मचारी कोरोना संक्रमित थे. इस वजह से बैंक कई दिनों तक बंद रही. बैंक 14 दिन बाद खुली, तो जबरदस्त भीड़ उमड़ पड़ी. भारी भीड़ देखते हुए बैंक प्रबंधन ने नीति बनाई. उसके हिसाब से एक दिन में बैंक से महज 150 लोगों को ही पैसे दिए जा रहे हैं. जबकि, बाकी किसानों को लौटना पड़ता है.

Youtube Video

इन वजहों से चाहिए किसानों को पैसा
यही वजह है कि किसान रात में बैंक के पास सोने को मजबूर हो गए, ताकि सुबह उनका नम्बर उन 150 में आ जाए. गौरतलब है कि किसी किसान के यहां शादी है तो किसी को खेती-बाड़ी का काम है और किसी को साहूकार की उधारी चुकाना है. किसी को अपनी बैंक का कर्ज जमा करना है.

कोरोना की वजह से बंद हो गए बैंंक

गौरतलब है कि कोरोना की वजह से प्रदेश के कई बैंक भी बंद कर दिए गए थे. अब जाकर धीरे-धीरे राहत मिल रही है. प्रदेश में कोरोना अब काबू में होता दिख रहा है. गुरुवार को सामने आए आंकड़ों के मुताबिक पॉजिटिविटी रेट  2.8% हो गया है. प्रदेश के सिर्फ दो जिलों भोपाल और इंदौर  ही ऐसे हैं जहां पॉजिटिव आने वाले मरीजों की संख्या 100 से ज्यादा है. बाकी सब जगह ये आंकड़ा 100 से नीचे है. यहां तक कि ग्वालियर और जबलपुर में भी अब कोरोना कंट्रोल में है. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटे में प्रदेश में कोरोना के 1977 नए केस आए हैं. प्रदेश का साप्ताहिक पॉजिटिविटी रेट 4% और आज का पॉजिटिविटी रेट 2.8% है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज