लाइव टीवी

राजस्व आयुक्त के रवैये से नाराज़ वेटिंग लिस्ट पटवारी, अब हाईकोर्ट का सहारा

Ranjana Dubey | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 20, 2020, 8:00 PM IST
राजस्व आयुक्त के रवैये से नाराज़ वेटिंग लिस्ट पटवारी, अब हाईकोर्ट का सहारा
वोटिंग लिस्ट पटवारियों ने राजस्व आयुक्त पर असहयोग करने का आरोप लगाया है

वेटिंग लिस्ट वाले पटवारियों (Patwari) का आरोप है कि मंत्री के आदेश के बाद भी राजस्व आयुक्त (Revenue Commisioner) ने विभाग के 1435 रिक्त पदों को 1385 वेटिंग लिस्ट उम्मीदवारों से भरने से इंकार कर दिया है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश के वेटिंग लिस्ट वाले पटवारियों को राहत मिलती दिखाई नहीं दे रही है. वेटिंग लिस्ट (Waiting list) वाले पटवारी खाली पदों को लेकर जहां काउंसलिंग (Counselling) की मांग कर रहे हैं तो वहीं राजस्व विभाग के अधिकारी काउंसलिंग से इनकार कर रहे हैं. वेटिंग लिस्ट वाले उम्मीदवारों का कहना है कि राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत (Govind Singh Rajput) के पत्र लिखने के बाद भी राजस्व आयुक्त ने खाली पदों को वेटिंग लिस्ट वाले उम्मीदवारों से भरने से साफ इनकार कर दिया है. अब इन उम्मीदवारों की आस केवल हाईकोर्ट से है.

राजस्व मंत्री ने दिया आश्वासन
वेटिंग लिस्ट वाले पटवारी राजस्व मंत्री के बंगले के चक्कर लगा रहे हैं. राजस्व मंत्री ने रविवार को पटवारियों से मुलाकात कर राजस्व विभाग के आयुक्त को पत्र लिखकर जल्द खाली पदों को भरने की बात कही है. उन्होंने वेटिंग लिस्ट वाले पटवारियों को राजस्व आयुक्त से भी मुलाकात करने को कहा था लेकिन दोपहर में मुलाकात करने पहुंचे पटवारियों से राजस्व आयुक्त ने कहा कि हमारे पास तो सिर्फ 350 पद ही खाली बचे हैं. उन्होंने कहा कि, '1400 खाली पद जिस भी आय़ुक्त ने आपको बोला है उसी आय़ुक्त के पास जाकर नियुक्ति करवा लो. मेरे पास पटवारियों की नियुक्ति का कोई भी डाटा उपलब्ध नहीं है जिसे मैं ऑनलाइन डाल सकूं.'

'रूलबुक के हिसाब से कुछ भी नहीं चलेगा.'

उम्मीदवारों का कहना है कि जब हमने कहा कि त्यागपत्र वाले पदों को भी इसमें काउंट नहीं किया गया है जबकि रूलबुक में लिखा है कि त्यागपत्र देने वालों की जगह को वेटिंग लिस्ट वाले पटवारियों से भरा जा सकता है. इस पर संबंधित अफसर ने उन्हें बड़ा रूखा जवाब दिया. उम्मीदवारों के मुताबिक, 'अधिकारी ने कहा कि रूलबुक हमने ही बनाई है. हम जब चाहे जो चाहें वह नियम बना सकते हैं. रूलबुक के हिसाब से कुछ भी नहीं चलेगा.'

'नियुक्ति देकर अहसान कर रहे हैं'
पटवारियों ने कहा कि वेटिंग लिस्ट वाले पदों की वैद्यता सिर्फ 10 फरवरी तक ही है तो अधिकारी ने कहा कि, 'हमें लिखित में आदेश शासन से मिलेगा तो हम वैद्यता की तारीख आगे बढ़ा सकते हैं, वैसे भी हम काउंसलिंग करते-करते थक गए हैं. 6 महीने से लगातार काउंसलिंग कर रहे हैं. अब कोई भी काउंसलिंग नहीं करेंगे वहीं हम तो आपके उपर अहसान कर रहे है नियुक्ति देकर.''10 फरवरी तक ही है मिल सकता है मौका'
वेटिंग लिस्ट वाले पटवारियों की कहना है कि हमारे एक्जाम की वैद्यता सिर्फ 10 फरवरी तक ही बची है. जिसके बाद हमें फिर से परीक्षा देनी होगी. अगर अभी काउंसलिंग होती है तो हमें खाली पदों पर नियुक्ति मिल सकती है. पटवारियों का कहना है कि प्रदेश भर में 9235 पदों पर पटवारियों की परीक्षा हुई थी, जिसमें 7800 पद भरे जा चुके हैं. वहीं 1435 पद खाली हैं. 1385 वेटिंग लिस्ट वाले उम्मीदवार बचे हैं. ऐसे में खाली पदों पर काउंसिलिंग के जरिए वेटिंग लिस्ट वाले उम्मीदवारों को ऱखा जा सकता है. लेकिन अब तक 7 बार काउंसलिंग हो चुकी है जिसमें महज 100 वेटिंग लिस्ट वाले उम्मीदवारों को ही बुलाया गया है. अब 10 फरवरी को परीक्षा की वैद्यता खत्म होने से पहले हम लोगों ने हाईकोर्ट का सहारा लिया है. हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई है. अब हाईकोर्ट से ही न्याय की आस है.

ये भी पढ़ें -
राजगढ़ थप्पड़ कांड पर बीजेपी हमलावर : कलेक्टर के खिलाफ FIR कराने जाएंगे नेता
CAA के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे लोगों को थप्‍पड़ जड़ने वालीं डिप्‍टी कलेक्‍टर का परिवार करता है ये काम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 20, 2020, 8:00 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर