नागपुर में कोरोना का कहर जारी, वीकेंड पर रहेगा लॉकडाउन; स्कूल-कॉलेज भी बंद

शनिवार और रविवार को सिर्फ आवश्यकता की चीजों को ही खोलने की छूट दी गई जाएगी.

शनिवार और रविवार को सिर्फ आवश्यकता की चीजों को ही खोलने की छूट दी गई जाएगी.

lockdown in Nagpur: महाराष्ट्र के औरंगाबाद शहर में रात 11 बजे से सुबह छह बजे तक का कर्फ्यू (Aurangabad Night Curfew) लगा दिया गया है. नाइट कर्फ्यू आठ मार्च तक जारी रहेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 26, 2021, 11:42 PM IST
  • Share this:
रवि गुलकारी

वैक्सीनेशन के बीच देश के कई राज्यों में एक बार फिर कोरोना वायरस का कहर देखने को मिल रहा है. पहले ही तरह की एक बार फिर कोरोना संक्रमण ने महाराष्ट्र को अपनी चपेट में लेने को उतारू है. राज्य में लगातार बढ़ते कोरोना वायरस मामलों को देखते हुए उद्धव ठाकरे सरकार ने कई सख्त फैसले लिए हैं. महाराष्ट्र के नागपुर जिले में स्कूल, कॉलेज और कोचिंग संस्थान बंद कर दिए गए हैं, इसके साथ ही शनिवार और रविवार को प्रमुख बाजार बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं.

सरकार की ओर से जारी किए गए आदेश में कहा गया है कि वीकेंड यानि की शनिवार और रविवार को सिर्फ आवश्यकता की चीजों को ही खोलने की छूट दी गई जाएगी.



7 मार्च तक साप्ताहिक बाजार बंद
दरअसल, महाराष्ट्र के नागपुर में कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी से इजाफा हो रहा है. कोरोना पर काबू पाने के लिए सख्त नियमों को लागू किया गया है. जिले में शादी, फंक्शन या किसी भी अन्य बड़े कार्य में सिर्फ 50 लोगों की मौजूदगी की ही इजाजत होगी.

औरंगाबाद में 8 मार्च तक नाईट कर्फ्यू
औरंगाबाद शहर में रात 11 बजे से सुबह छह बजे तक का कर्फ्यू (Aurangabad Night Curfew) लगा दिया गया है. नाइट कर्फ्यू आठ मार्च तक जारी रहेगा. पुलिस आयुक्त निखिल गुप्ता ने बताया कि दिन में प्रशासनिक अधिकारियों की नागरिक निकाय एवं पुलिस के अधिकारियों के साथ बैठक हुई. उन्होंने बताया कि औद्योगिक क्षेत्र, मेडिकल एवं आपात सेवाओं तथा सार्वजनिक परिवहन को इससे छूट दी गई है.

राज्य में बढ़ रहे हैं कोरोना के मामले
स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी बताया है कि कोरोना के कुल मामलों की संख्या अब 21,38,154 हो गई है. उन्होंने कहा कि कोविड-19 से अब तक 52,041 मरीजों की मौत हो चुकी है. संक्रमण के नए मामलों में से 40 प्रतिशत मामले मुंबई, पुणे, नागपुर और अमरावती के हैं. राज्य में अब तक 20,17,303 लोग ठीक हो चुके हैं और अभी 67,608 मरीज उपचाराधीन हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज