कोरोना को हराना है! पुणे के अजय मुनोत ने पेश की मिसाल, 14 बार डोनेट कर चुके हैं प्‍लाज्‍मा

कोरोना वैक्‍सीन की तरह ही प्‍लज्‍मा को भी वरदान माना जा रहा है. (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना वैक्‍सीन की तरह ही प्‍लज्‍मा को भी वरदान माना जा रहा है. (सांकेतिक तस्वीर)

बता दें कि इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के मुताबिक प्लाज्मा डोनर (Plasma) का टाइटर रेट 1.640 से ज्यादा होना चाहिए. डॉ. जोशी ने बताया कि अजय मुनोत का टाइटर रेट आज की तारीख में 3 और 4 के बीच में है. पुणे इतनी बार प्‍लाज्‍मा दे चुके हैं कि उन्‍हें ‘चलता फिरता प्‍लाज्‍मा बैंक’ कहा जाने लगा है.

  • Share this:

मुंबई. कोरोना महामारी (Corona Epidemic) के इस दौर में कोरोना वैक्‍सीन (Corona Vaccine) की तरह ही प्‍लज्‍मा (Plasma) को भी वरदान माना जा रहा है. यही कारण है कि कोरोना (Corona) से ठीक हो चुके मरीजों को प्‍लज्‍मा दान करने के लिए कहा जा रहा है. कोरोना संक्रमण (Corona Infection) को देखते हुए पुणे (Pune) के एक शख्स ने पिछले नौ महीने में 14 बार प्लाज्मा दिया है. पुणे के इस शख्‍स का नाम अजय मुनोत है. पुणे इतनी बार प्‍लाज्‍मा दे चुके हैं कि उन्‍हें ‘चलता फिरता प्‍लाज्‍मा बैंक’ कहा जाने लगा है.

पुणे के रहने वाले अजय मुनोत की उम्र 50 साल है. अजय का कहना है कि उन्‍होंने मां से मिली प्रेरणा से ही शरीर में लगातार बनने वाली एंटीबॉडीज को प्‍लाज्‍मा के जरिए दान दिया है. मुनोत बताते हैं कि उनकी मां का ब्लड ग्रुप ‘O’ निगेटिव था, यूनिवर्सल डोनर होने की वजह से वो किसी भी ब्लड ग्रुप वाले को रक्त दान कर सकती थीं. यही कारण है कि उन्‍हें पुणे के आर्मी ऑफिस से कई बार फोन आते थे. मां को ऐसा करते देख मुनोत ने भी दूसरों की मदद के लिए कदम आगे बढ़ाया था.

Youtube Video

इसे भी पढ़ें :- Corona Vaccine: दुनिया में सबसे महंगी कोरोना वैक्सीन दे रहे हैं भारत के प्राइवेट सेंटर्स
बता दें कि अजय मुनोत जुलाई 2020 में कोरोना से संक्रमित होने के बाद रिकवर हुए थे. तब से वह लगातार शरीर में बनने वाली एंटीबॉडीज को प्‍लाज्‍मा के जरिए दान कर रहे हैं. जिस प्लाज्मा बैंक में अजय प्लाज्मा डोनेट करने जाते हैं, वहां की डॉक्‍टर जोशी ने बताया कि कोरोना संक्रमित अजय मनोत जब पूरी तरह से ठीक हो गए तब वह प्‍लाज्‍मा डोनेट करने के लिए आए थे. हर बार उनका टाइटर रेट का टेस्टिंग हाइटेक मशीन पर नापा गया. बता दें कि इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के मुताबिक प्लाज्मा डोनर का टाइटर रेट 1.640 से ज्यादा होना चाहिए. डॉ. जोशी ने बताया कि अजय मुनोत का टाइटर रेट आज की तारीख में 3 और 4 के बीच में है.

इसे भी पढ़ें :- महाराष्ट्र में धीमी हुई कोरोना की रफ्तार, 24 घंटे में संक्रमण के 48 हजार नए मामले

डॉ जोशी ने कहा कि अजय मनोत में एंटीबॉडी ज्‍यादा तेजी से बन रही हैं और उनका टाइटर रेट भी काफी बेहतर है. डॉ. स्मिता जोशी के मुताबिक अजय मुनोत अकेले नहीं है, जिन्होंने 14 बार प्लाज़्मा दान किया है. राम बांगर नाम के शख्स ने भी उनके ही बैंक में 14 बार प्लाज्मा दान किया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज