महाराष्ट्र में कोविड-19 के 5092 नए मामले, 8232 मरीज ठीक हुए, 110 की मौत

मुंबई महानगर में रविवार को 1003 नये मामले सामने आए और 23 लोगों की मौत हो गई जिससे संक्रमितों की संख्या 2,64,545 हो गई है
मुंबई महानगर में रविवार को 1003 नये मामले सामने आए और 23 लोगों की मौत हो गई जिससे संक्रमितों की संख्या 2,64,545 हो गई है

Maharashtra Coronavirus Cases: महाराष्ट्र में कोरोना वायरस से उबरने की दर 91.71 फीसदी है, जबकि मृत्यु दर 2.63 फीसदी है. राज्य में वर्तमान में 96,372 मरीजों का उपचार जारी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 9, 2020, 8:46 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में रविवार को कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के 5092 नए मामले सामने आए जिससे राज्य में कुल संक्रमित लोगों की संख्या 17,19,858 हो गई. यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग ने दी. विभाग ने बताया कि वायरस से 110 और लोगों की मौत हो गई जिससे मृतकों की कुल संख्या 45,250 हो गई है. विभाग ने एक बयान में बताया कि दिन में बीमारी से ठीक होने के बाद 8232 मरीजों को छुट्टी दे दी गई जिससे ठीक होने वालों की संख्या 15,77,322 हो गई है.

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस से उबरने की दर 91.71 फीसदी है, जबकि मृत्यु दर 2.63 फीसदी है. राज्य में वर्तमान में 96,372 मरीजों का उपचार जारी है. बयान में बताया गया कि राज्य भर में अभी तक करीब 94,40,535 लोगों की जांच हुई है. इनमें से 62,004 नमूनों की जांच रविवार को हुई. मुंबई मेट्रोपोलिटन क्षेत्र (एमएमआर) में 1771 मामले आए और 40 लोगों की मौत हुई. इसके साथ ही एमएमआर में कुल मामलों की संख्या 5,96,523 हो गई है और मृतकों की संख्या 18,056 हो गई है. एमएमआर में मुंबई और इसके सैटेलाइट शहर आते हैं.

ये भी पढ़ें- भारतीय सीमा के पास सिचुआन-तिब्बत रेल परियोजना के निर्माण में आएगी तेजी, शी जिनपिंग ने दिया आदेश



मुंबई में अब तक 10,446 मौतें
मुंबई महानगर में रविवार को 1003 नये मामले सामने आए और 23 लोगों की मौत हो गई जिससे संक्रमितों की संख्या 2,64,545 हो गई है और मृतकों की संख्या 10,445 हो गई है. नासिक में दिन के दौरान 185 मामले सामने आए, पुणे में 216, पिंपरी चिंचवड़ में 111, औरंगाबाद में 104 और नागपुर में 378 नए मामले सामने आए.

वहीं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) ने रविवार को धार्मिक उपासना स्थलों को फिर से खोलने का संकेत देते हुए कहा कि दिवाली (Diwali) के बाद भीड़ से बचने और शारीरिक दूरी (Social Distancing) को सुनिश्चित करने के लिए एक मानक संचालन प्रक्रिया तैयार की जाएगी. एक वेबकास्ट में, ठाकरे ने कहा कि धार्मिक उपासना स्थलों को फिर से खोलने में जल्दबाजी न करने के लिए उनकी आलोचना की जारी रही है.

ये भी पढ़ें- CM अमरिंदर ने गृह मंत्री से कहा- सभी रेल ट्रैक खाली, संचालन के लिए स्थिति ठीक

उन्होंने कहा, ‘‘अगर इससे नागरिकों का अच्छा स्वास्थ्य और सुरक्षा सुनिश्चित होती है, तो मैं आलोचना झेलने के लिए तैयार हूं. उपासना स्थलों पर भीड़ से बचने और शारीरिक दूरी सुनिश्चित करने के लिए काम किया जाएगा और दिवाली के बाद एक मानक संचालन प्रक्रिया का मसौदा तैयार किया जाएगा."

उपासना स्थलों पर मास्क होगा अनिवार्य
मुख्यमंत्री ने कहा, "हम प्रार्थना करने में इतने मगन हो जाते हैं कि कोविड-19 के सुरक्षा प्रोटोकॉल की उपेक्षा कर सकते हैं. क्या होगा अगर कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति उपासना स्थल जाने वाले हमारे परिवार के वरिष्ठ नागरिकों को संक्रमित कर दे."

ठाकरे ने कहा कि उपासना स्थलों पर मास्क लगाना अनिवार्य होगा. उन्होंने लोगों से सार्वजनिक स्थानों पर पटाखे फोड़ने से बचने की भी अपील की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज