महाराष्‍ट्र के 1 ही जिले में 8000 बच्‍चे कोरोना संक्रमित, तीसरी लहर से निपटने की तैयारी तेज

महाराष्‍ट्र के अहमदनगर में 8000 बच्‍चे मई में हुए संक्रमित. (File pic)

महाराष्‍ट्र के अहमदनगर में 8000 बच्‍चे मई में हुए संक्रमित. (File pic)

Coronavirus in Maharashtra: महाराष्‍ट्र के अहमदनगर में मई में 8000 से अधिक बच्‍चे कोरोना संक्रमित पाए गए हैं.

  • Share this:

मुंबई. देश में इन दिनों कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के नए मामलों में कमी आ रही है. लेकिन विशेषज्ञ देश में तीसरी लहर (Corona Third Wave) आने की भी आशंका जता रहे हैं. तीसरी लहर में बच्‍चों के अधिक संक्रमित होने की बात कही जा रही है. ऐसे में महाराष्‍ट्र भी कोरोना संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित रहा है. वहीं महाराष्‍ट्र (Maharashtra) के अहमदनगर जिले (Ahmednagar) में मई महीने में ही 8000 हजार से अधिक बच्‍चे कोरोना से संक्रमित हुए हैं. इसके बाद राज्‍य सरकार कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए पूरी तैयारी में जुटी है.

इन्‍हीं प्रयासों के तहत महाराष्‍ट्र के सांगली में सिर्फ बच्‍चों के लिए ही स्‍पेशल कोविड 19 वार्ड बनाया गया है. मौजूदा समय में यहां 5 बच्‍चों का इलाज चल रहा है. साथ ही इस वार्ड को और अधिक मरीजों के लिए तैयार किया जा रहा है.

इस बाबत कॉरपोरेटर अभिजीत भोसले का कहना है, 'हम लगातार बच्‍चों के लिए कोविड वार्ड तैयार कर रहे हैं. ताकि अगर कभी भी कोरोना की तीसरी लहर आए तो हम पूरी तरह तैयार रहें. साथ ही बच्‍चों को यह भी न लगे कि वे अस्‍पताल में हैं. बल्कि उन्‍हें यह लगे कि वे स्‍कूल या नर्सरी में हैं.'

अहमदनगर में जबसे 8000 बच्‍चे कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं तबसे ही प्रशासनिक अमला पूरी तरह से तैयारियों में जुटा है. जिले में मई में आए कुल कोरोना केस में इनकी हिस्‍सेदारी 10 फीसदी है.


इसके साथ ही जिला प्रशासन बच्‍चों के डॉक्‍टर्स के पास भी जाकर यह सुनिश्चित कर रहा है कि वे कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए तैयार रहें. विधायक संग्राम जगतप का कहना है कि कोरोना की दूसरी लहर में हमारे पास बेड और ऑक्‍सीजन की कमी थी. तो ऐसे में अब हमें कोरोना की संभावित तीसरी लहर के लिए पूरी तरह से तैयार रहना होगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज