• Home
  • »
  • News
  • »
  • maharashtra
  • »
  • एक वकील को अपनी मुवक्किल की शिकायतों को उठाना चाहिए न कि अपनी समस्याओं को : कोर्ट

एक वकील को अपनी मुवक्किल की शिकायतों को उठाना चाहिए न कि अपनी समस्याओं को : कोर्ट

अदालत ने कहा कि वकील के तर्कों से ऐसा प्रतीत होता है कि वह टीकाकरण के खिलाफ है.(फाइल फोटो)

अदालत ने कहा कि वकील के तर्कों से ऐसा प्रतीत होता है कि वह टीकाकरण के खिलाफ है.(फाइल फोटो)

अदालत ने कहा कि अधिवक्ता ने यह भी कहा है कि टीकाकरण (Vaccination) को अनिवार्य बनाये जाने के खिलाफ उच्च न्यायालय (High Court) में भी याचिका दाखिल कर रखी है. जिसमें कहा है कि टीका कोरोना वायरस (Coronavirus) से सुरक्षा नहीं देता.

  • Share this:

    मुंबई: यहां स्थित एक स्थानीय अदालत (local court) ने एक आरोपी के कथित तौर पर जबरन कोरोना वायरस रोधी टीकाकरण (Coronavirus Vaccination) से संबंधित एक याचिका को खारिज करते हुए कहा कि एक वकील को अपने मुवक्किल की शिकायतों को उठाना होता है न कि अपनी.

    आवेदक ने अपने वकील के माध्यम से अदालत में अर्जी दाखिल कर उसे यहां जेल ले जाने से पहले जबरन टीका लगाने के लिए पुलिस और डॉक्टरों के खिलाफ कार्रवाई का अनुरोध किया. पिछले हफ्ते जब याचिका पर सुनवाई हुई तो सत्र अदालत के न्यायाधीश एस जे घरत ने इसे खारिज कर दिया. विस्तृत अदालती आदेश शुक्रवार को उपलब्ध कराया गया.

    आदेश में, न्यायाधीश ने कहा, ‘मैंने आरोपी से टीकाकरण की शिकायत के बारे में पूछताछ की. आरोपी ने कहा कि उसने कुछ वीडियो देखे और इसलिए, वह टीका नहीं लगवाना चाहता था.’ जब अदालत ने आरोपी से पूछा कि क्या वह यह शिकायत संबंधित पुलिसकर्मी या टीकाकरण स्टाफ के संज्ञान में लाया, तो आरोपी ने नहीं में जवाब दिया.

    यह भी पढ़ें- कार डिजाइनर दिलीप छाबड़िया का बेटा धोखाधड़ी मामले में गिरफ्तार, कपिल शर्मा ने की थी शिकायत

     अदालत ने कहा कि इसलिए ऐसा प्रतीत होता है कि आरोपी की जब आरटी-पीसीआर जांच और टीकाकरण किया तो उसने कोई आपत्ति नहीं की. इसलिए, आवेदन में दिया गया तर्क ‘सुनवाई योग्य नहीं’ है. वकील का जिक्र करते हुए, जिसने आरोपी की ओर से दलील दी थी, अदालत ने कहा कि वकील के तर्कों से ऐसा प्रतीत होता है कि वह टीकाकरण के खिलाफ है.

    अदालत ने कहा कि उन्होंने (अधिवक्ता ने) यह भी कहा है कि टीकाकरण को अनिवार्य बनाये जाने के खिलाफ उच्च न्यायालय में भी याचिका दाखिल कर रखी है. जिसमें कहा है कि टीका कोरोना वायरस से सुरक्षा नहीं देता. अदालत ने कहा कि इसलिए मुवक्किल की शिकायतों को उठाया जाना चाहिए न कि अधिवक्ता की. पक्षकारों के अधिकारों की रक्षा के लिए प्रावधान उपलब्ध हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज