लाइव टीवी

महाराष्ट्र में सामने आए कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा केस, सरकार ने उठाए ये बड़े कदम
Maharashtra News in Hindi

News18Hindi
Updated: March 16, 2020, 10:50 AM IST
महाराष्ट्र में सामने आए कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा केस, सरकार ने उठाए ये बड़े कदम
महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए साल 1897 के इपिडेमिक डिजीज़ क़ानून को अमल में ला दिया है.

महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) ने कोरोना वायरस (Coronavirus) के प्रसार को रोकने के लिए साल 1897 के इपिडेमिक डिजीज़ क़ानून को अमल में ला दिया है. ये कानून सरकार को बीमारी का प्रसार रोकने के लिए लोगों को अलग-थलग करने और इलाकों में आवाजाही पर प्रतिबंध लगाने जैसी शक्तियां प्रदान करता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 16, 2020, 10:50 AM IST
  • Share this:
मुंबई. चीन से दुनियाभर में फैल चुका कोरोना वायरस (Coronavirus) भारत में भी तेजी से फैल रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, अब तक कोरोना वायरस के 110 मामलों की पुष्टि हुई है. इनमें से सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र (Maharashtra) में मिले हैं. इस राज्य में कोरोना के अब तक 33 मामलों की पुष्टि हुई है. स्वास्थ्य विभाग के अनुसार रविवार को राज्य के विभिन्न अस्पतालों में कोरोना वायरस के 95 संदिग्ध मामले दर्ज किए गए. ऐसे में महाराष्ट्र सरकार ने इस स्थिति से निपटने के लिए स्वास्थ्य सुविधाएं भी बढ़ा दी हैं.

महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए साल 1897 के एपिडेमिक डिजीज़ क़ानून को अमल में ला दिया है. ये कानून सरकार को बीमारी का प्रसार रोकने के लिए लोगों को अलग-थलग करने और इलाकों में आवाजाही पर प्रतिबंध लगाने जैसी शक्तियां प्रदान करता है. इसके अलावा उद्धव सरकार ने शैक्षणिक संस्थाओं, थिएटर, मॉल, पार्क, स्विमिंग पूल और जिम आदि को भी बंद कर दिया है.

बता दें कि इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बीते शनिवार को महाराष्ट्र में कोरोना वायरस से निपटने के लिए की जा रही स्थितियों का जायजा लेने के लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से बात कर चुके हैं, जिसके बाद उद्धव सरकार की स्वास्थ्य विभाग की ओर से कई कदम उठाए गए.



महाराष्ट्र सरकार ने उठाए ये कदम:-



>> मुंबई के कस्तुरबा सरकारी अस्पताल में सैंपल कलेक्शन लैब की क्षमता बढ़ाकर 350 सैंपल प्रति दिन कर दी गई है. पहले इसकी क्षमता 100 सैंपल प्रति दिन थी.
>> उद्धव सरकार इसके साथ ही अगले दो दिन के अंदर केईएम अस्पताल में सैंपल कलेक्शन लैब खोलने वाली है.
>> एक नया लैब जेजे अस्पताल में भी खोला जाना है. इसपर काम शुरू हो चुका है.
>>पुणे में भी अगले दो हफ्तों के अंदर कोरोना वायरस सैंपल कलेक्शन लैब खोला जाएगा.
>>महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना के मरीजों के लिए 450 वेंटिलेटर सुरक्षित रखे हैं
>>वहीं, सभी टेस्टिंग सेंटर्स में बेड की क्षमता भी बढ़ाई जाएगी.

स्कूल-कॉलेज मॉल मल्टीप्लेक्स 31 मार्च तक बंद

कोरोना वायरस के कारण महाराष्ट्र सरकार ने 31 मार्च तक सभी स्कूल-कॉलेज, मॉल्स और मल्टीप्लेक्स को बंद रखने का आदेश दिया है. राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते सभी मॉल्स को 31 मार्च बंद रखा जाएगा. हालांकि रोजमर्रा की चीजें बेच रही किराने की दुकाने खुली रहेंगी.

महाराष्ट्र सरकार के एक अन्य आदेश के मुताबिक, पहली से लेकर नौवीं तक की परीक्षाएं अगर चल रही हैं तो उसे स्थगित किया जाएगा, केवल दसवीं और बारहवीं की बोर्ड की परीक्षाएं निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार होंगी.

महाराष्ट्र में कोरोना की जांच की लिए यहां बनाए गए हैं सेंटर:-

>> टेस्टिंग सेंटर
- इंदिरा गांधी गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज, नागपुर
- संक्रामक रोगों के लिए कस्तूरबा अस्पताल, मुंबई

>> सैंपल कलेक्शन लैब
- गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज, मिराज, सांगली
- सेठ जीएस मेडिकल कॉलेज और केईएम अस्पताल, मुंबई
- गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज, नागपुर
-गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज, औरंगाबाद
-वीएम गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज, सोलापुर
-श्री भाऊसाहेब हायर गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज, धुले
-गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल एंड सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल, अकोला

ये भी पढ़ें: कोरोना: महाराष्ट्र में स्कूल-कॉलेज 31 तक बंद, सिर्फ खुलेंगी किराना दुकानें

COVID-19: महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा कोरोना वायरस के मामले, 33 लोग पाए गए पॉजिटिव, 93 संदिग्ध

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए महाराष्ट्र से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 16, 2020, 9:25 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading