लाइव टीवी

देर रात उद्धव से मिले अहमद पटेल, दिल्ली पहुंचते ही सोनिया गांधी के घर रवाना

News18Hindi
Updated: November 13, 2019, 11:45 AM IST
देर रात उद्धव से मिले अहमद पटेल, दिल्ली पहुंचते ही सोनिया गांधी के घर रवाना
अहमद पटेल दिल्ली पहुंचते ही बुधवार सुबह कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के घर के लिए रवाना हो गए. बताया जा रहा है कि इस बैठक के दौरान ही शिवसेना को समर्थन देने की बात पर अंतिम मौहर लग सकती है. (फाइल फोटो)

मुंबई (Mumbai) में एनसीपी (NCP) में बैठकों का दौर जारी, वहीं शिवसेना (Shiv Sena) की ओर से सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में नई याचिका लगाने की बातों ने पकड़ा जोर.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 13, 2019, 11:45 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. महाराष्ट्र (Maharashtra) में चल रही सियासी खींचतान के बीच कांग्रेस (Congress) के कुछ वरिष्ठ नेता मंगलवार दोपहर को मुंबई (Mumbai) पहुंचे और एनसीपी (NCP) नेताओं से मुलाकात की. लेकिन, इस दौरान देर रात को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल (Ahmed Patel) ने एनसीपी नेताओं के अलावा भी एक बैठक की. यह बैठक शिवसेना (Shiv Sena) प्रमुख उद्धव ठाकरे (Udhav Thackeray) के साथ थी. सूत्रों ने बताया कि इसमें शिवसेना और एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन को लेकर बातचीत हुई. साथ ही तीनों पार्टियों के सरकार बनाने की स्थिति में कैबिनेट और सीएम पद को लेकर भी चर्चा की गई.

सीधे सोनिया गांधी के घर रवाना
अहमद पटेल दिल्ली पहुंचते ही बुधवार सुबह कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के घर के लिए रवाना हो गए. बताया जा रहा है कि इस बैठक के दौरान ही शिवसेना को समर्थन देने की बात पर अंतिम मुहर लग सकती है. वहीं, एनसीपी के साथ हुई चर्चा की भी जानकारी अहमद पटेल कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी को देंगे.


Loading...

शिवसेना नए सिरे से याचिका कर सकती है दायर
सूत्रों के अनुसार, शिवसेना अब सुप्रीम कोर्ट में नए सिरे से याचिका दायर करने की सोच रही है. बताया जा रहा है कि एनसीपी-कांग्रेस का समर्थन पत्र मिलने के बाद शिवसेना एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट में नए सिरे से याचिका दायर करेगी. हालांकि, शिवसेना के वकील सुनील फर्नांडिस ने कहा कि आज हम कोई भी याचिका सुप्रीम कोर्ट में दाखिल करने नहीं जा रहे हैं. इससे पहले मंगलवार को शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट में राज्यपाल की ओर से बहुमत सिद्ध करने के लिए 72 घंटे का समय न दिए जाने के खिलाफ याचिका दायर की थी.



एनसीपी में बैठकों का दौर जारी
मुंबई में एनसीपी के वरिष्ठ नेताओं की बैठकों का दौर बुधवार को भी जारी रहा. इस दौरान पार्टी के वरिष्ठ नेता अजीत पवार ने कहा कि यदि तीनों पार्टियां मिल जाएं और एक उम्मीदवार को चुन लें तो हमें कोई भी नहीं हरा सकता है.



एनसीपी-शिवसेना ने की थी कॉन्फ्रेंस
इससे पहले मंगलवार को मुंबई में एनसीपी और शिवसेना के वरिष्ठ नेताओं ने प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की थी. इस दौरान शरद पवार ने कहा था कि हमारी तरफ से कोई रुकावट नहीं है. आज स्पष्ट कहना ठीक नहीं. चूंकि शिवसेना ने बीजेपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था, इसलिए अभी शिवसेना के साथ मिलकर बात होगी. हमारे बीच सरकार बनाने के बाद क्या मामले आ सकते हैं, इस पर चर्चा करेंगे. वहीं कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा था कि देखिए जहां तक राज्यपाल का सवाल है, वो केन्द्र के इशारे पर चलते हैं. जब ये जाहिर था कि शिवसेना, बीजेपी के साथ नहीं जाना चाहती तो 9 दिन तक का इंतजार क्यों किया गया? ऐसे में कानून का क्या होगा, सिर्फ 24 घंटे का समय दिया गया. उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति शासन का मकसद हॉर्स ट्रेडिंग को बढ़ावा देना है. ये अनैतिक है. वहीं कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा कि जिस तरह से राष्ट्रपति शासन की सिफारिश की गई थी, मैं इसकी निंदा करता हूं. इस सरकार ने पिछले 5 वर्षों में कई अवसरों पर राष्ट्रपति शासन पर सुप्रीम कोर्ट के दिशानिर्देशों का उल्लंघन किया है. लोकतंत्र और संविधान का मजाक उड़ाने की कोशिश हुई. कांग्रेस को न्योता नहीं मिला ये गलत है. राष्ट्रपति शासन की जरूरत नहीं थी. सोमवार को शिवसेना ने अधिकृत तरीके से कांग्रेस को फोन किया गया. लेकिन एनसीपी से बात किये बिना फैसला नहीं ले सकते.

ये भी पढ़ेंः BJP पर बिफरी शिवसेना, बोली- कोई कुछ कहे लेकिन हमने नीलकंठ की तरह विषपान किया

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 10:59 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...