Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    Vocal for Local: दीपावली पर आदिवासी महिलाओं द्वारा बनाए गई लाइट्स से जगमगाएगा महाराष्ट्र का राजभवन

    इस साल फरवरी में राज्यपाल ने पालघर जिले के भालीवली में विवेक ग्रामीण विकास केंद्र की बांस परियोजना का दौरा किया था.
    इस साल फरवरी में राज्यपाल ने पालघर जिले के भालीवली में विवेक ग्रामीण विकास केंद्र की बांस परियोजना का दौरा किया था.

    स्थानीय स्वदेशी उत्पादों की मदद करने के लिए राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी राजभवन के सभी कर्मचारियों को आदिवासी महिलाओं द्वारा निर्मित और बांस से बनी ईको-फ्रेंडली स्काई लालटेन भेंट की.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 12, 2020, 11:20 PM IST
    • Share this:
    मुंबई. देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) अक्सर अपने भाषणों में लोकल फॉर वोकल (Vocal for Local) का जिक्र कर रहे हैं. उनका कहना है कि विदेशी उत्पादों को छोड़कर हमें भारतीय संसाधनों द्वारा तैयार किए गए प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करना चाहिए. पीएम के इस संदेश को हर कोई अपना रहा है. इस संदेश को अपनाते हुए महाराष्ट्र के राज्यपाल ने दीपावली के मौके पर राजभवन को आदिवासी महिलाओं द्वारा तैयार किए गए आकाश कैंडिल (Akash kandils) से सजाने का फैसला लिया है.

    स्थानीय स्वदेशी उत्पादों की मदद करने के लिए राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी राजभवन के सभी कर्मचारियों को आदिवासी महिलाओं द्वारा निर्मित और बांस से बनी ईको-फ्रेंडली स्काई लालटेन भेंट की. कोश्यारी ने कहा, 'राज्यपाल राजभवन में आते हैं और चले जाते हैं, लेकिन स्थायी कर्मचारी यहां रहते हैं. इसलिए, राजभवन को सुंदर और स्वच्छ रखने के साथ-साथ अच्छी सरकारी सेवा प्रदान करना सभी की जिम्मेदारी है.'

    फरवरी में राज्यपाल ने किया था पालघर जिले का दौरा
    बता दें कि इस साल फरवरी में राज्यपाल ने पालघर जिले के भालीवली में विवेक ग्रामीण विकास केंद्र की बांस परियोजना का दौरा किया था. इस दौरान उन्होंने आदिवासी महिलाओं को प्रमाण पत्र दिया था, जिन्होंने उस स्थान पर बांस की हस्तशिल्प प्रशिक्षण पूरा किया था. कोशियारी ने कहा था कि वह राजभवन से शुरुआत करेंगे, यह सुझाव देंगे कि अधिक से अधिक लोगों को आदिवासी भाइयों द्वारा बनाए गए उत्पादों को खरीदना चाहिए.
    इस दौरान कोश्यारी ने विवेक ग्रामीण विकास केंद्र को आकाश लालटेन प्रदान करने का निर्देश दिया. केंद्र के माध्यम से, पालघर जिले के भवाली, बॉट, दुर्वेश और गोज की आदिवासी महिलाओं ने लालटेन बनाई और इसे राजभवन भेजा और आज दीवाली के अवसर पर राज्यपाल ने अपने कर्मचारियों और पुलिस कर्मियों को दिया. इस दौरान उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस बार दीपावली प्रदूषण मुक्त मनानी चाहिए.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज