महाराष्ट्र में सियासी घमासान के बीच आज संजय राउत की डिनर पार्टी, BJP नेताओं को भी बुलावा

संजय राउत (PTI)

संजय राउत (PTI)

संजय राउत (Sanjay Raut) ने बुधवार को अपने आवास पर एक डिनर पार्टी (Dinner Party) रखी है. इसमें शिवसेना, कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) विधायकों-सांसदों को बुलावा भेजा गया है. खास बात ये है कि राउत ने बीजेपी के विधायकों और सांसदों को भी डिनर पर इनवाइट किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 7:30 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र की सियासत में फिर से घमासान मचा है. इस बार मामला मुंबई पुलिस (Mumbai Police) के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह (Parambir Singh) की एक चिट्ठी को लेकर है, जिसमें उन्होंने राज्य के गृहमंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) पर 100 करोड़ की वसूली समेत भ्रष्टाचार के संगीन आरोप लगाए हैं. परमबीर सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दी है. हालांकि, कोर्ट ने उनकी याचिका खारिज कर दी और पहले हाईकोर्ट जाने को कह दिया है. सियासी घमासान के बीच शिवसेना सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) की डिनर पार्टी की चर्चा हो रही है.

संजय राउत ने बुधवार को अपने आवास पर एक डिनर पार्टी रखी है. इसमें शिवसेना, कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) विधायकों-सांसदों को बुलावा भेजा गया है. खास बात ये है कि राउत ने बीजेपी के विधायकों और सांसदों को भी डिनर पर इनवाइट किया है. शिवसेना नेता का कहना है कि इस डिनर पार्टी का प्रोग्राम पहले से ही तय था. ऐसे में इसे मौजूदा सियासी घमासान से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए.

Youtube Video


परमबीर सिंह की अर्जी खारिज, SC ने कहा-आरोप गंभीर, पहले हाईकोर्ट जाएं
परमबीर सिंह की अर्जी में क्या है?

सुप्रीम कोर्ट में दायर अर्जी में परमबीर सिंह ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर पुलिस को 100 करोड़ रुपये की वसूली का टारगेट देने का आरोप लगाते हुए CBI जांच की मांग की थी. परमबीर ने अपना ट्रांसफर होमगार्ड डिपार्टमेंट में किए जाने को भी चुनौती दी थी. उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य सरकार का यह आदेश अवैध है. इसके साथ ही पूर्व कमिश्नर ने गृहमंत्री अनिल देशमुख के घर के बाहर लगे CCTV फुटेज को जब्त कर उसकी जांच करवाने की मांग की है. परमबीर सिंह ने कहा कि अगर उनके आरोपों की जांच जल्दी नहीं की गई, तो हो सकता है कि अनिल देशमुख सभी सबूतों को मिटा दें और CCTV फुटेज को डिलीट कर दें.

क्या है पूरा मामला?



दरअसल, कुछ दिन पहले मुंबई के पूर्व पुलिस प्रमुख परमबीर सिंह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पिछले हफ्ते पत्र लिखकर दावा किया था कि महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने पुलिस अधिकारियों को 100 करोड़ रुपये की मासिक वसूली करने को कहा है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे पत्र में सिंह ने कहा कि देशमुख ने पुलिस अधिकारी सचिन वाजे से कहा था कि उन्होंने बार, रेस्त्राओं और ऐसे ही अन्य प्रतिष्ठानों से हर महीने 100 करोड़ रुपये की वसूली करने का लक्ष्य रखा है. इनमें से आधी रकम शहर में चल रहे 1,750 बार, रेस्त्राओं और ऐसे ही अन्य प्रतिष्ठानों से वसूले जानी है.

परमबीर सिंह पहुंचे सुप्रीम कोर्ट, गृहमंत्री अनिल देशमुख पर लगाए आरोपों की CBI जांच की मांग

इस पत्र के बाद राज्य में सियासी तूफान आ गया. देशमुख ने इन आरोपों का खंडन किया है. सिंह ने पत्र में यह भी दावा किया था कि देशमुख चाहते थे कि लोकसभा सदस्य मोहन डेलकर को आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला मुंबई में दर्ज किया जाए. दादरा और नागर हवेली से सात बार के सांसद डेलकर 22 फरवरी को दक्षिण मुंबई में मरीन ड्राइव पर स्थित एक होटल में मृत पाए गए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज