अपना शहर चुनें

States

सेलेब्रिटी ट्वीट प्रकरण में जांच की मांग! शरद पवार के फोन के बाद महाराष्ट्र के गृहमंत्री की सफाई

देशमुख ने पवार से कहा कि किसी भी व्यक्तिगत सेलेब्रिटी की जांच नहीं होगी, बल्कि कुछ सेलेब्रिटी के ट्वीट के शब्द एक जैसे हैं. इसकी जांच की मांग की गई है. फाइल फोटो
देशमुख ने पवार से कहा कि किसी भी व्यक्तिगत सेलेब्रिटी की जांच नहीं होगी, बल्कि कुछ सेलेब्रिटी के ट्वीट के शब्द एक जैसे हैं. इसकी जांच की मांग की गई है. फाइल फोटो

Celebrities pushback tweets on Farmers protest: महाराष्ट्र कांग्रेस के नेताओं ने इस मामले में पुलिस से जांच कराने की मांग की थी कि कहीं ये हस्तियां बीजेपी के दबाव में ट्वीट करके सोशल मीडिया पर केंद्र सरकार का पक्ष तो नहीं रख रही हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 8, 2021, 8:57 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कृषि कानून (New Farm Law) के खिलाफ किसान आंदोलन (Farmers Movement) पर पॉप स्टार रिहाना और पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग के ट्वीट और देश के आंतरिक मामलों में विदेशी हस्तक्षेप के खिलाफ खुलकर सामने आने वाली मशहूर हस्तियों के ट्वीट की जांच के मामले में नया मोड़ आ गया है. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) के फोन के बाद महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) ने सफाई दी है. देशमुख ने सोमवार को कहा, "भारत रत्न पाने वाली हस्तियां हमारे लिए सम्मानित हैं. लेकिन, सवाल ये है कि बीजेपी के किन लोगों ने सम्मानित हस्तियों पर ट्वीट के लिए दबाव बनाया. कांग्रेस पार्टी ने ऐसे नेताओं की जांच की मांग की है." दरअसल, महाराष्ट्र सरकार द्वारा सेलेब्रिटी हस्तियों के ट्वीट प्रकरण की जांच कराने की खबर आने के बाद एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने अनिल देशमुख से बात की और पूरे मामले की जानकारी ली. देशमुख ने पवार से कहा कि किसी भी व्यक्तिगत सेलेब्रिटी की जांच नहीं होगी, बल्कि कुछ सेलेब्रिटी के ट्वीट के शब्द एक जैसे हैं. इसकी जांच की मांग की गई है.

इससे पहले महाराष्‍ट्र सरकार ने मशहूर भारतीय हस्तियों के ट्वीट की जांच कराने के संकेत दिए थे. हालांकि कोई आदेश नहीं निकाला था. किसान आंदोलन को लेकर ट्वीट करने वालों में भारत रत्न लता मंगेशकर, पूर्व क्रिकेटर और भारत रत्न से सम्मानित सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar), बॉलीवुड एक्‍टर अक्षय कुमार (Akshay Kumar) और सुनील शेट्टी जैसे कई फिल्मी सितारे भी शामिल हैं. किसान आंदोलन को लेकर किए गए ट्वीट के मामले में कांग्रेस नेता सचिन सावंत ने देशमुख से हुई बातचीत का हवाला देते हुए कहा, 'गृहमंत्री ने कहा है कि यह गंभीर मामला है. इन हस्तियों के ट्वीट्स एक जैसे कैसे हो सकते हैं. इन पर ट्वीट करने के लिए कोई दबाव तो नहीं डाला गया. इसकी जांच होनी चाहिए.' सावंत ने साथ ही बताया था कि देशमुख ने इंटेलिजेंस को यह ज़िम्मेदारी दी है.

महाराष्ट्र कांग्रेस के नेताओं ने इस मामले में पुलिस से जांच कराने की मांग की थी कि कहीं ये हस्तियां बीजेपी के दबाव में ट्वीट करके सोशल मीडिया पर केंद्र सरकार का पक्ष तो नहीं रख रही हैं. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सावंत ने कहा, 'सचिन तेंदुलकर, अक्षय कुमार, सुनील शेट्टी और साइना नेहवाल जैसे सेलिब्रिटीज के ट्वीट का पैटर्न बिलकुल एक जैसा है. साइना नेहवाल और अक्षय कुमार के ट्वीट का कंटेंट एक है, जबकि सुनील शेट्टी ने ट्वीट में बीजेपी नेता को टैग किया था. ये दर्शाता है कि सेलिब्रिटीज और सत्‍ताधारी पार्टी के नेताओं के बीच संपर्क था. इस बात की जांच होनी चाहिए कि क्‍या बीजेपी की ओर से देश के इन हीरोज पर कोई दबाव था. अगर ऐसा था तो इन सेलिब्रिटीज को अधिक सुरक्षा देने की जरूरत है.'

अमेरिकी पॉप स्‍टार रिहाना और पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग ने किसान आंदोलन के पक्ष में ट्वीट किए थे. इसके बाद इस मामले ने काफी तूल पकड़ा था और फिर कई भारतीय सेलिब्रिटीज ने किसान आंदोलन को भारत का अंदरूनी मामला बताते हुए ट्वीट किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज