Home /News /maharashtra /

कोरोनाः मुंबई में 5,885 में से 1 व्यक्ति हुआ दोबारा संक्रमित, 82 फीसदी को नहीं थी गंभीर बीमारी

कोरोनाः मुंबई में 5,885 में से 1 व्यक्ति हुआ दोबारा संक्रमित, 82 फीसदी को नहीं थी गंभीर बीमारी

शोधकर्ताओं ने पाया कि जो लोग दोबारा संक्रमण के शिकार होते हैं, उनके गले और नाक में बहुत ज्यादा वायरस होते हैं, और ये लोग दूसरों में बड़ी तेजी से वायरस संक्रमण को फैला सकते हैं. 
(File pic)

शोधकर्ताओं ने पाया कि जो लोग दोबारा संक्रमण के शिकार होते हैं, उनके गले और नाक में बहुत ज्यादा वायरस होते हैं, और ये लोग दूसरों में बड़ी तेजी से वायरस संक्रमण को फैला सकते हैं. (File pic)

Coronavirus in Mumbai Update: मुंबई में दोबारा संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले कोरोना की दूसरी लहर में डेल्टा वैरिएंट के चलते सामने आए हैं. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक दोबारा संक्रमित हुए 82 फीसदी मरीजों को कोई दूसरी गंभीर बीमारी नहीं थी. वहीं बाकी के 23 मरीजों में 12 को शुगर और 11 को हायपरटेंशन की समस्या थी. शोधकर्ताओं ने पाया कि जो लोग दोबारा संक्रमण के शिकार होते हैं, उनके गले और नाक में बहुत ज्यादा वायरस होते हैं, और ये लोग दूसरों में बड़ी तेजी से वायरस संक्रमण को फैला सकते हैं.

अधिक पढ़ें ...

    मुंबई. महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण (Coronavirus in Maharashtra) से ठीक हुए 5,885 में से 1 व्यक्ति या कहें कुल 0.02 फीसदी लोग दोबारा संक्रमण के शिकार हुए हैं. बीएमसी (Brihanmumbai Municipal Corporation) द्वारा विश्लेषित किए गए डाटा में ये आंकड़े सामने आए हैं. बीएमसी ने कुल 7.41 लाख कोविड मरीजों पर सर्वे किया था, इसकी शुरुआत 1 नवंबर से हुई थी, जिसमें कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद 126 मरीजों को कोविड से संक्रमित (Reinfection Cases in Mumbai) पाया गया है. सामान्य तौर समझें तो एक व्यक्ति पहले कोरोना वायरस संक्रमण का शिकार हुआ और फिर ठीक होने के बाद कोरोना वायरस के ही किसी दूसरे या उसके जैसे ही किसी और स्ट्रेन से संक्रमित हो गया है.

    बीएमसी के एडिशनल कमिश्नर सुरेश काकानी ने कहा, ‘लोगों के बीच कोरोना के अलग-अलग वैरिएंट से संक्रमित होने को लेकर भय व्याप्त है. हमें बहुत सारे अस्पतालों से स्वास्थ्यकर्मियों को बूस्टर शॉट की मंजूरी देने की सिफारिशें आ रही हैं. लेकिन जमीनी यथार्थ ये है कि दोबारा संक्रमण के मामले बेहद कम हैं.’ बता दें कि मुंबई में दोबारा संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले कोरोना की दूसरी लहर में डेल्टा वैरिएंट के चलते सामने आए हैं. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक दोबारा संक्रमित हुए 82 फीसदी मरीजों को कोई दूसरी गंभीर बीमारी नहीं थी. वहीं बाकी के 23 मरीजों में 12 को शुगर और 11 को हायपरटेंशन की समस्या थी.

    मुंबई के 24 वार्डों में केवल चार वार्ड – एक फोर्ट, दूसरा बायकुला, तीसरा परेल और चौथा गोरेगांव वेस्ट में दोबारा संक्रमण का कोई भी मामला सामने नहीं आया है. हालांकि के-वेस्ट (अंधेरी वेस्ट) में कोरोना वायरस से ठीक हो चुके 40 मरीजों में दोबारा संक्रमण का मामला सामने आया है. ये मुंबई के किसी भी वार्ड में सबसे ज्यादा है. वहीं एम-वेस्ट (चेम्बूर) में दोबारा संक्रमण के 15 मामले सामने आए हैं. इसके मुलुंड वार्ड में 14 मरीज दोबारा संक्रमित हुए हैं.

    SARS-CoV-2 Immunity and Reinfection Evaluation (SIREN) स्टडी में यह पाया गया कि पहले संक्रमण के बाद इम्युन रेस्पांस दोबारा वायरस संक्रमण की आशंका को 83 फीसदी तक कम कर देता है और यह कम से कम 5 महीने तक प्रभावी रहता है. हालांकि शोधकर्ताओं ने पाया कि जो लोग दोबारा संक्रमण के शिकार होते हैं, उनके गले और नाक में बहुत ज्यादा वायरस होते हैं, और ये लोग दूसरों में बड़ी तेजी से वायरस संक्रमण को फैला सकते हैं.

    नानावती अस्पताल में संक्रामक रोग विभाग में वरिष्ठ सलाहकार डॉ हेमलता अरोरा ने कहा, ‘महामारी के तौर पर देखें तो हमने दोबारा संक्रमण की शिकार आबादी में बहुत ज्यादा अंतर नहीं पाया. लेकिन, वैक्सीन ना लगवाने, वैक्सीन की एक डोज लेने वाले और कमजोर इम्युन सिस्टम वाले मरीजों में दोबारा संक्रमण के बाद गंभीर लक्षण दिखाई देते हैं.’ हालांकि डॉक्टरों ने यह भी कहा कि दोबारा संक्रमण के मामले पूरी तस्वीर स्पष्ट नहीं करते हैं, क्योंकि दोबारा संक्रमण के शिकार बहुत सारे लोग बिना लक्षणों के हो सकते हैं, जिनकी पहचान ना हुई हो.

    वहीं माहिम स्थित एसएल रहजा अस्पताल में कंसल्टेंट और क्रिटिकल केयर की हेड डॉ संजीथ ससीधरन ने कहा, ‘दरअसल ऐसे मामलों में व्यापक परीक्षण और निगरानी की कमी है और इसलिए हम दोबारा संक्रमण फैलने की दर को नहीं जानते हैं, ऐसे में इस बात की संभावना बेहद ज्यादा है कि दोबारा संक्रमण के शिकार हुए मरीजों में बिना लक्षणों वाले केस बहुत ज्यादा हों और जिनकी पहचान नहीं हो पाई है.’

    Tags: Coronavirus, Coronavirus in Mumbai

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर