कोरोना की दूसरी लहर उतार पर, महाराष्ट्र, पंजाब और गुजरात में टूरिस्ट स्पॉट गुलजार

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी. फाइल फोटो

Tourist spots full of travellers: कोरोना की दूसरी लहर के दौरान स्टेचू ऑफ़ यूनिटी को पर्यटकों लिए बंद रखा गया था और अब फिलहाल आठ जून से पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है.

  • Share this:
मुंबई. बारिश का मौसम लगभग आ पहुंचा है और इसने प्रकृति को कई रंगों में रंग दिया है. पहाड़ों की चोटियों पर सूर्य अपनी चमक बिखेर रहा है और पहाड़ फिर से पर्यटकों को लुभाने लगे हैं. महाराष्ट्र के साथ-साथ भारत के सभी राज्यों में स्थानीय प्रशासन ने लॉकडाउन के दौरान लगायीं गयीं पाबंदियों को कम करने का निश्चय किया है. देखने पर ऐसा लगता है कि कोरोना की दूसरी लहर के बाद शायद यही वह चीज थी, जिसका सभी लोग बेसब्री से इंतज़ार कर रहे थे. जैसे ही यह अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हुई लोगों की भीड़ ने पर्यटन स्थलों की तरफ जाना शुरू कर दिया.

बारिश के तुरंत बाद, आसपास के रहने वाले अनेक पर्यटकों ने शनिवार और रविवार के दिन छुट्टी मनाने के लिए लोनावला, नवी मुंबई के पहाड़ी क्षेत्र में भीड़ बढ़ा दी. मुंबई निवासियों ने लोनावला और पुणे के आसपास के पहाड़ी क्षेत्रों की ओर भी अपना रुख किया. लायंस पॉइंट, टाइगर पॉइंट पर्यटकों की भीड़ और गहमागहमी से भरे दिखाई दिए. पुलिस की मौजूदगी के बावजूद जहाँ तहाँ पर्यटकों की भीड़ दिखाई दे रही थी, जो लोनावला की सड़कों पर ट्रैफिक जाम के रूप में दिखाई दिया. सरकार के नियमों के अनुसार टूरिस्ट स्पॉट्स बंद रखने के बावजूद, पर्यटक दीवार फांद कर और दूसरे रास्तों से इन क्षेत्रों में घुस गए.

नासिक और रत्नागिरी में भी तस्वीर कुछ ऐसी ही थी. मानसून का लुत्फ़ उठाने के लिए सैकड़ों पर्यटक रत्नागिरी ज़िले के खेड़ में रघुवीर घाट पर इकट्ठे हो गए. टाइगर रिज़र्व में स्थित यह घाट एक प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है. यहाँ भ्रमण करने के लिए यह उपयुक्त समय है, मगर इन पर्यटक स्थलों पर टूरिस्ट बिना मास्क पहने और जरूरी शारीरिक दूरी बनाने के नियमों को धता बताते हुए बड़े गैरजिम्मेदाराना रवैये के साथ पेश आ रहे हैं.

गुजरात
राज्य में कोरोना केस अब कम होने लगे हैं, जो बढ़ते टूरिज्म के रूप में दिखाई देने लगा है. शनिवार और रविवार के दिन स्टेचू ऑफ़ यूनिटी पहुँचने वाले पर्यटकों की संख्या ने रिकॉर्ड तोड़ दिया. अभी भी राज्य में लगभग 500 के करीब कोरोना केस हैं. राज्य सरकार ने 11 जून से सभी प्रतिबंधों में ढील दे दी है. एक तरफ जहाँ संक्रमण दर कम हुई है, वहीं दूसरी ओर घरों में कैद लोग अब प्रकृति में डूबने का आनंद ले रहे हैं. पूरे कोरोना काल में रजिस्टर किये गए पर्यटकों ने रविवार के दिन राज्य के सबसे बड़े टूरिस्ट आकर्षण "स्टेचू ऑफ़ यूनिटी" में रिकॉर्ड संख्या दर्ज करवाई. शनिवार और रविवार के दिन आने वाले पर्यटकों की संख्या पिछले डेढ़ सालों में सर्वाधिक रही.

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान स्टेचू ऑफ़ यूनिटी को पर्यटकों लिए बंद रखा गया था और अब फिलहाल आठ जून से पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है. राज्य में कोरोना महामारी का प्रकोप कुछ कम हुआ है, जिसकी वजह से लोग जो पिछले चार महीनों से घर में बंद थे, अब लोग पर्यटक स्थलों की ओर आने लगे हैं. वर्तमान में केवाड़िया कॉलोनी स्थित दुनिया की सबसे ऊँची मूर्ती "स्टेचू ऑफ़ यूनिटी" पर्यटकों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र बन गयी है. पिछले शनिवार और इतवार को डेढ़ सालों की अवधि में सर्वाधिक पर्यटकों ने आमद दर्ज कराई है और यह आंकड़ा 7000 से भी अधिक है.

पंजाब-हिमाचल सीमा
क्षेत्र के लोगों के लिए पसंदीदा ग्रीष्मकालीन गंतव्य हिमाचल प्रदेश को फिर से खोलने के कारण चंडीगढ़ से शिमला जाने वाले रूट पर कारों की गिनती करना मुश्किल हो रहा है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, शिमला में अक्सर ट्रैफिक जाम देखने को मिल रहा है. कल तक यहाँ कोई जाम नहीं था. सोलन के रास्ते हिमाचल के रास्ते में भी पूरे दिन कारों की लंबी कतारें लगी रहीं, क्योंकि राज्य में पर्यटकों की भीड़ लगी रही.

- इनपुट पंजाब और गुजरात से भी

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.