कृषि कानूनः महाराष्ट्र के 21 जिलों से किसानों का मुंबई कूच, कल पवार की अगुवाई में प्रदर्शन

महाराष्ट्र में महा विकास अघाड़ी सरकार में साझेदार राष्ट्रवादी कांग्रेस प्रमुख शरद पवार के प्रदर्शन में हिस्सा लेने की उम्मीद है. ANI

Farmers Protest: दिल्ली बॉर्डर (Delhi Border) पर केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में महाराष्ट्र के किसान शरद पवार (Sharad Pawar) की अगुवाई में सोमवार को प्रदर्शन करेंगे.

  • Share this:
    नई दिल्ली. महाराष्ट्र (Maharashtra) के 21 जिलों से हजारों की संख्या में किसान मुंबई के लिए कूच कर गए हैं. इसी क्रम में केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों (New Farm Law) के खिलाफ सोमवार को मुंबई के आजाद मैदान (Azad Maidan) में प्रदर्शन करने के लिए नासिक से किसानों की एक बड़ी संख्या पैदल मार्च करते हुए आजाद मैदान पहुंची है. महाराष्ट्र में महा विकास अघाड़ी सरकार में साझेदार राष्ट्रवादी कांग्रेस प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) के प्रदर्शन में हिस्सा लेने की उम्मीद है. ANI की ओर से जारी किए गए विजुअल में ऑल इंडिया किसान सभा के बैनर तले दिल्ली बॉर्डर (Delhi Border) पर प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में किसानों का विशाल जनसमूह पैदल मार्च करता हुआ मुंबई पहुंचा. किसानों का ये विजुअल नासिक और मुंबई के बीच कसारा घाट का है.

    ऑल इंडिया किसान सभा के बैनर तले छोटे-छोटे किसान संगठनों का विशाल जन समूह रविवार शाम को मुंबई पहुंचा. दो हफ्ते पहले एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने दिल्ली बॉर्डर सहित देश के तमाम हिस्सों में कड़ाके की सर्दी में प्रदर्शन कर रहे किसानों का जिक्र करते हुए सरकार को चेताया था कि अगर किसानों की नहीं सुनी गई तो केंद्र को इसका खामियाजा भुगतने के लिए तैयार रहना होगा. पिछले महीने पवार ने एक बयान जारी करते हुए कहा था कि केंद्र सरकार को किसानों के धैर्य की परीक्षा नहीं लेनी चाहिए. नासिक के किसानों का मार्च उस समय हो रहा है, जब दिल्ली बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने गणतंत्र दिवस के दिन ट्रैक्टर रैली निकालने का ऐलान किया है.





    दिल्ली के विभिन्न हिस्सों से गुजरने वाली इस ट्रैक्टर रैली में हजारों की संख्या में ट्रैक्टरों के शामिल होने की उम्मीद है. पंजाब और हरियाणा के किसान बड़ी संख्या में अपने वाहनों के साथ दिल्ली बॉर्डर के लिए रवाना हुए हैं. ट्रैक्टर रैली दिल्ली के रिंग रोड पर होगी और दिल्ली पुलिस ने रैली के लिए अनुमति दे दी है. किसान संगठनों ने शनिवार को बताया था कि दिल्ली पुलिस की ओर से उन्हें ट्रैक्टर परेड के लिए अनुमति मिल गई है. हालांकि अभी उन्हें लिखित रूप से रूट की अनुमति का इंतजार है.

    केंद्र सरकार और किसान संगठनों के बीच कृषि कानून पर 11 दौर की बातचीत के बाद भी सहमति नहीं बन पाई है. ट्रैक्टर रैली के मसले पर केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि इससे देश को शर्मसार होना पड़ेगा. कोर्ट ने ट्रैक्टर रैली को रोकने के लिए दायर याचिका खारिज कर दी थी और अनुमति का फैसला दिल्ली पुलिस पर छोड़ दिया था.

    सुप्रीम कोर्ट ने इससे पहले कि सुनवाई में कहा था कि किसानों को शांतिपूर्ण प्रदर्शन का अधिकार है, जब तक संपत्ति और जान-माल का नुकसान ना हो.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.