कोश्यारी प्लेन विवाद पर महाराष्ट्र में बवाल, बीजेपी और MNS ने उद्धव सरकार को घेरा

राज्यपाल कोश्यारी विमान प्रकरण पर महाराष्ट्र में बढ़ा बवाल (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

राज्यपाल कोश्यारी विमान प्रकरण पर महाराष्ट्र में बढ़ा बवाल (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

महाराष्‍ट्र के राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी को सरकारी विमान से देहरादून की यात्रा करने की अनुमति नहीं देने का मामला तूल पकड़ने लगा है. राज्‍य के पूर्व मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने उद्धव सरकार पर निशाना साधा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 11, 2021, 5:13 PM IST
  • Share this:
पुणे. भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगह सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) को सरकारी विमान से देहरादून की यात्रा करने की अनुमति नहीं देने को लेकर राज्य सरकार की गुरुवार को आलोचना की. उन्होंने शिवसेना नीत गठबंधन सरकार पर आरोप लगाया कि वह अहंकारी है और 'बचकाना हरकतें' कर रही है. पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस ने यह आरोप भी लगाया कि राज्य सरकार ने राज्यपाल के संवैधानिक पद का अपमान किया है. एमएनएस ने भी इसे राज्यपाल का अपमान बताकर उद्धव ठाकरे सरकार को घेरा है. एमएनएस नेता बाला नांदगांवकर ने कहा, 'जो कुछ हुआ वह बहुत बुरा है. महाराष्ट्र में पहले कभी ऐसा नहीं हुआ. राज्यपाल का पद संवैधानिक है और उनका सम्मान करना चाहिए. साथ ही राज्यपाल को भी राज्य सरकार का सम्मान करना चाहिए. मुख्यमंत्री और राज्यपाल अहम पद हैं और दोनों को एक दूसरे का सम्मान करना चाहिए.'

सूत्रों के मुताबिक कोश्यारी का गुरुवार को राज्य सरकार के एक विमान से पूर्वाह्न 10 बजे देहरादून (उत्तराखंड) की यात्रा करने का कार्यक्रम था, लेकिन उड़ान के लिए अनुमति नहीं दी गई और बाद में उन्हें वाणिज्यिक उड़ान से रवाना होना पड़ा, जिसने दोपहर करीब 12 बज कर 15 मिनट पर देहरादून के लिए उड़ान भरी. फडणवीस ने यहां संवाददाताओं से कहा, 'यह एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना है. इस तरह की घटना राज्य में पहले कभी नहीं हुई थी. राज्यपाल कोई व्यक्ति नहीं है, बल्कि वह एक पद है. लोग आते-जाते रहेंगे, लेकिन पद कायम रहेगा. राज्यपाल राज्य के प्रमुख हैं. राज्यपाल ही मुख्यमंत्री और उनके मंत्रिमंडल को नियुक्त करते हैं.'

उन्होंने कहा, 'मुझे पता चला है कि राज्यपाल की पूरी यात्रा का कार्यक्रम सामान्य प्रशासन विभाग को भेजा गया था. मुख्य सचिव इस बारे में जानते थे और मुख्यमंत्री के पास भी एक फाइल गई थी. लेकिन जानबूझ कर, राज्यपाल को विमान में बैठने तक की अनुमति नहीं दी गई और आखिरकार उन्हें विमान से उतरना पड़ा.' उन्होंने आरोप लगाया, 'यह सरकार बचकाना हरकतें कर रही है. मेरे मुताबिक मुख्यमंत्री और सरकार का इस तरह का अहंकारी रवैया दिखाना गलत है...' उन्होंने कहा, 'इस घटना से राज्य की छवि धूमिल होगी.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज