महाराष्ट्र : घोड़े पर ऑफ़िस आने की अनुमति मांगी नांदेड़ के एक स्टाफ ने, जानिए पूरा मामला

सांकेतिक फोटो

सांकेतिक फोटो

Maharashtra News: कलेक्टर को लिखे पत्र में व्यक्ति ने कहा है कि अगर वह घोड़े को ऑफ़िस लाता है तो उसे इस घोड़े को ऑफ़िस परिसर में बांधने की अनुमति दी जानी चाहिए.

  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोना महामारी के कारण देश में अधिकांश ऑफ़िस कई महीने तक बंद रहे और अब ये धीरे-धीरे खुलने लगे हैं. आवश्यक सेवाओं को छोड़ दें तो अधिकांश कर्मचारी अभी भी अपने घरों से काम कर रहे हैं और यातायात की सुविधा पर्याप्त नहीं होने की वजह से कई कर्मचारियों ने ऑफ़िस आने-जाने के लिए दोपहिया वाहनों और कारों का उपयोग शुरू कर दिया है. पर महाराष्ट्र के नांदेड़ में एक ऐसा भी कर्मचारी है जिसने घोड़े पर ऑफ़िस आने की अनुमति मांगी है. इसके लिए इस कर्मचारी ने सीधे कलेक्टर के ऑफ़िस को पत्र लिखा जो अब वायरल हो गया है.


सोशल मीडिया पर वायरल इस पत्र की खूब चर्चा हो रही है. पत्र लिखनेवाले का नाम है सतीश पंजाबराव देशमुख जो कि नांदेड़ के ज़िला कार्यालय में रोज़गार गारंटी योजना विभाग में सहायक अकाउंट अधिकारी के रूप में कार्य करते हैं. सतीश की पीठ में दर्द रहता है जिसकी वजह से वह बाइक से ऑफ़िस नहीं आ सकते.


इस समस्या के हल के लिए ही सतीश ने घोड़े की सवारी करने की सोची है और उन्होंने घोड़ा ख़रीदने का फ़ैसला किया है. अपने पत्र में सतीश ने लिखा है कि घोड़े से वह समय पर ऑफ़िस आ सकते हैं. उन्होंने कलेक्टर को लिखे पत्र में कहा है कि अगर वह घोड़े को ऑफ़िस लाते हैं तो उन्हें इस घोड़े को ऑफ़िस परिसर में बांधने की अनुमति दी जानी चाहिए. यह पत्र इस समय सोशल मीडिया में काफ़ी चर्चा में है और इस पर लोगों के चुटीले कमेंट्स अंधाधुंध आ रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज