मुंबई में कोरोना के नए मामलों पर नहीं लगी लगाम, तो लग सकता है आंशिक लॉकडाउन

बृहन्नमुंबई म्युनिसिपल कॉरपोरेशन ने सोमवार को कहा कि मुंबई में अतिरिक्त प्रतिबंध लगाने की कोई योजना नहीं है. फाइल फोटो

बृहन्नमुंबई म्युनिसिपल कॉरपोरेशन ने सोमवार को कहा कि मुंबई में अतिरिक्त प्रतिबंध लगाने की कोई योजना नहीं है. फाइल फोटो

Covid-19 in Maharashtra: बृहन्नमुंबई म्युनिसिपल कॉरपोरेशन ने सोमवार को कहा कि मुंबई में अतिरिक्त प्रतिबंध लगाने की कोई योजना नहीं है. चाहे वो लॉकडाउन हो या नाइट कर्फ्यू.

  • Share this:
नई दिल्ली. महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) सरकार मुंबई में लॉकडाउन (Lockdown) लगाने पर विचार कर रही है, लेकिन ये लॉकडाउन पिछले 2020 के लॉकडाउन की तरह नहीं होगा, बल्कि टुकड़ों में लगाया जा सकता है. दरअसल मुंबई में कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं और नए मामलों की संख्या शहर में चार महीने के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है. शहर के गॉर्डियन मंत्री असलम शेख ने टाइम्स ऑफ इंडिया से कहा कि अगले 10 दिनों में संक्रमण के मामले नियंत्रण में नहीं आते हैं तो आंशिक तौर पर लॉकडाउन लगाया जा सकता है. मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट मीटिंग में इस बारे में चर्चा हुई है, जिन्होंने चिंता जताई कि मुंबई में संक्रमण के मामलों की संख्या सितंबर के स्तर पर पहुंच गई है.

लग सकता है भारी जुर्माना
रिपोर्ट्स के मुताबिक असलम शेख ने कहा कि राज्य सरकार पहले संक्रमण को कंट्रोल करने का प्रयास करेगी, इसके लिए मास्क ना पहनने, मैरिज हॉल और पब में भीड़ पर भारी जुर्माना लगाया जा सकता है. साथ ही संस्थागत क्वारंटीन का विकल्प भी आजमाया जा सकता है. उन्होंने कहा कि टेस्टिंग की संख्या बढ़ाने के साथ टीकाकरण कार्यक्रम को व्यापक स्तर पर बढ़ाया जा सकता है. शेख ने कहा कि अगर संक्रमण के मामले बढ़ते रहे तो आंशिक तौर पर लॉकडाउन लगाया जा सकता है.

बीएमसी की कोई योजना नहीं
हालांकि बृहन्नमुंबई म्युनिसिपल कॉरपोरेशन ने सोमवार को कहा कि मुंबई में अतिरिक्त प्रतिबंध लगाने की कोई योजना नहीं है. चाहे वो लॉकडाउन हो या नाइट कर्फ्यू. बीएमसी के चीफ इकबाल सिंह चहल ने नेटवर्क 18 सीएनबीसी टीवी18 से कहा कि मौजूदा कोविड-19 गाइडलाइंस का पालन किया जाएगा और उन्होंने लोगों से सहयोग की अपील की.



संस्थागत क्वारंटीन का विकल्प
कैबिनेट बैठक में उपस्थित एक मंत्री ने कहा कि आंशिक लॉकडाउन से पहले होम आइसोलेशन की जगह संस्थागत क्वारंटीन के विकल्प को आजमाया जाएगा. मौजूदा वक्त में कोरोना वायरस मरीजों को घर में आइसोलेट किया जाता है. हालांकि रिपोर्ट्स ऐसी भी आ रही है कि कोरोना वायरस मरीजों के परिजन पर्याप्त सावधानी नहीं बरत रहे हैं और इसकी वजह से मामले लगातार बढ़ रहे हैं. मंत्री ने कहा कि मुंबई और आसपास के इलाकों में सोशल डिस्टैंसिंग का पालन मुश्किल हो रहा है.

बता दें कि मुंबई में पिछले दो दिनों से लगातार 10 हजार से ज्यादा कोरोना वायरस संक्रमण के मामले दर्ज किए गए हैं. रविवार को महाराष्ट्र में 11 हजार से ज्यादा मामले दर्ज किए गए. मुंबई में नए मामलों की बात करें तो ये 131 दिनों में सबसे ज्यादा 1,361 रहा है.

इसके अलावा चिंता की बात ये है कि राज्य में अप्रैल तक 2 लाख से ज्यादा कोरोना वायरस के एक्टिव केस हो सकते हैं.

अगर मामले ऐसे ही बढ़ते रहे तो केंद्र सरकार की टीम राज्य का दौरा कर इस बात का निरीक्षण करेगी, राज्य में संक्रमण के मामले लगातार क्यों बढ़ रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज