महाराष्ट्र के बिजली मंत्री ने माना, ड्रैगन ने किया था साइबर हमला, अब चीनी उपकरणों का नहीं करेंगे उपयोग


एक रिपोर्ट में संशय प्रकट किया गया था कि मुम्बई में बड़े पैमाने पर बिजली गुल होना, कहीं इस ऑनलाइन घुसपैठ का परिणाम तो नहीं था. ANI

एक रिपोर्ट में संशय प्रकट किया गया था कि मुम्बई में बड़े पैमाने पर बिजली गुल होना, कहीं इस ऑनलाइन घुसपैठ का परिणाम तो नहीं था. ANI

Nitin Raut on Cyber Attack: महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री नितिन राउत ने कहा कि बिजली गुल हो जाने की इस घटना की जांच के लिए अलग अलग समितियां बनायी थीं और उनकी रिपोर्टें मिल गयी हैं.

  • Share this:
मुम्बई. महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री नितिन राउत (Nitin Raut) ने प्राथमिक सूचना का हवाला देते हुए कहा कि पिछले साल अक्टूबर में ‘‘साइबर हमले’’ के चलते मुम्बई बड़े पैमाने पर अचानक बिजली गुल हो गयी थी और यह ‘‘विध्वंस’’ का कृत्य था. पिछले साल 12 अक्टूबर को ग्रिड फेल हो जाने से यहां बड़े पैमाने पर बिजली चली गयी थी, ट्रेनें जहां थीं, वहीं रूक गयी थीं, कोविड-19 महामारी के चलते घर से काम करने वालों का काम बाधित हो गया था और आर्थिक गतिविधि पर बुरा असर पड़ा था. महाराष्ट्र विधान भवन के बाहर राउत ने कहा कि राज्य सरकार, महाराष्ट्र विद्युत विनियामक आयोग और केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण ने बिजली गुल हो जाने की इस घटना की जांच के लिए अलग अलग समितियां बनायी थीं और उनकी रिपोर्टें मिल गयी हैं.

SCADA यूनिट से मिला सबूत

नितिन राउत ने बुधवार को 12 अक्टूबर को मुंबई पावर ग्रिड फेल होने के मामले में महाराष्ट्र साइबर सेल की रिपोर्ट को सदन में पेश किया. उन्होंने कहा कि SCADA यूनिट से पता चला है कि चीन, ब्रिटेन और अन्य जगहों से 8 ट्रोजन हार्स मालवेयर की एंट्री का पता चला है. SCADA यूनिट सप्लाई और डिमांड के बीच बैलेंस बनाती है.

Youtube Video

'चीनी उपकरणों का इस्तेमाल नहीं'

उन्होंने कहा कि इस मालवेयर ने 8 जीबी का डेटा चुराया है और हमारा डिपार्टमेंट अब चीनी उपकरणों का इस्तेमाल नहीं करेगा. उन्होंने कहा, ‘‘तब हमने साइबर सेल से शिकायत की थी और उनकी रिपोर्ट का इंतजार है. लेकिन, मेरे पास जो प्राथमिक सूचना है, उसके हिसाब से निश्चित ही यह साइबर हमला था और यह विध्वंस था.’’ कांग्रेस के मंत्री राउत ने अधिक ब्योरा नहीं दिया.

ड्रैगन के निशाने पर ग्रिड प्रणाली



राउत की टिप्पणी अमेरिका की एक कंपनी की रिपोर्ट के बीच आयी है, जिसमें दावा किया गया है कि पिछले साल लद्दाख में सीमा पर तनाव के बीच चीन सरकार से संबद्ध एक समूह ने मालवेयर के मार्फत भारत की अहम विद्युत ग्रिड प्रणाली को निशाना बनाया था.



उस रिपोर्ट में यह संशय प्रकट किया गया था कि मुम्बई में बड़े पैमाने पर बिजली गुल होना, कहीं इस ऑनलाइन घुसपैठ का परिणाम तो नहीं था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज