महाराष्‍ट्र में कोरोना के रिकॉर्ड 36,902 नए केस और 112 मौतें, मुंबई का भी बुरा हाल

महाराष्‍ट्र में कोरोना का कहर बढ़ता ही जा रहा है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर-AP)

महाराष्‍ट्र में कोरोना का कहर बढ़ता ही जा रहा है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर-AP)

COVID-19 Cases in Maharashtra: देश की आर्थिक राजधानी मुंबई के हालात भी काफी डराने वाले हैं. यहां एक दिन में कोरोना के 5513 नए केस सामने आए हैं. जिसके साथ ही मुंबई में कुल संक्रमितों की संख्‍या बढ़कर 3,85,628 हो गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2021, 10:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. महाराष्‍ट्र में लगातार बढ़ती कोरोना वायरस महामारी की रफ्तार अब डराने लगी है. हर दिन रिकॉर्ड स्‍तर के मामले सामने आ रहे हैं. संक्रमण के हालात को देखते हुए मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पूरे प्रदेश में 28 मार्च से नाइट कर्फ्यू घोषित कर दिया है. इस बीच, अगर बीते 24 घंटे की बात करें तो राज्‍य में 36,902 नए केस सामने आए हैं. जबकि इस दौरान 112 कोरोना संक्रमितों ने जान गवां दी. वहीं, 17,019 कोरोना मरीज स्‍वस्‍थ होकर घर भी लौटे हैं. महाराष्ट्र में कोरोना के कुल 26,37,735 मामले हो गए हैं. अभी तक 23,00,056 लोग महामारी को मात दे चुके हैं और अभी 2,82,451 एक्टिव केस हैं. हालांकि 53,907 मरीजों की जान भी जा चुकी है.

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई के हालात भी काफी डराने वाले हैं. यहां एक दिन में कोरोना के 5513 नए केस सामने आए हैं. जिसके साथ ही मुंबई में कुल संक्रमितों की संख्‍या बढ़कर 3,85,628 हो गई है.

महाराष्ट्र ने होली, ईस्टर, गुडफ्राइडे के लिए दिशा-निर्देश जारी
महाराष्ट्र सरकार ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों को ध्यान में रखते हुए राज्य के लोगों को होली सादे तरीके से मनानी चाहिए और भीड़ लगाने से बचना चाहिए. इस साल होली का त्योहार 28 मार्च को और रंग पंचमी उसके अगले दिन 29 मार्च को मनायी जानी है.
ये भी पढ़ें: Corona In Maharashtra: महाराष्‍ट्र में कोरोना का कहर, 28 मार्च से पूरे राज्य में नाइट कर्फ्यू



ये भी पढ़ें: कोरोना: वर्क फ्रॉम होम, बाहरी गतिविधियों पर बैन, जानें टास्क फोर्स की महाराष्ट्र पर सलाह

सरकार द्वारा जारी बयान के अनुसार, 'त्योहार सादे तरीके से मनाया जाना चाहिए, दो गज की दूरी का पालन किया जाना चाहिए और कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए जमावड़ों से बचना चाहिए. रंग पंचमी भी सादे तरीके से मनायी जानी चाहिए.' इस बात को रेखांकित करते हुए कि राज्य के कोंकण क्षेत्र में होली पर परंपरागत रूप से 'पालकी' निकाली जाती है, राज्य सरकार ने कहा कि यह परंपरा मंदिरों तक सीमित रहे. साथ ही उसने स्थानीय प्रशासन से उचित व्यवस्था करने को भी कहा है.

सरकार ने कहा, 'होली या रंग पंचमी के दिन किसी बड़े धार्मिक या सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन ना हो.' राज्य सरकार ने ईसाई समुदाय से भी आग्रह किया कि वे गुड फ्राइडे (दो अप्रैल) और ईस्टर (चार अप्रैल) सादे तरीके से मनाएं और संक्रमण को फैलने से रोकें. सरकार ने कहा कि 28 मार्च से चार अप्रैल तक अगर चर्च में जगह पर्याप्त है तो अधिकतम 50 लोग प्रार्थना में शामिल हों. अगर चर्च छोटा है तो 10-25 लोगों द्वारा ही प्रार्थना की जाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज