विस्फोटक मिलने और कारोबारी की मौत के मामले में कोर्ट ने सचिन वाजे को भेजा जेल

मुंबई की कोर्ट ने सचिन वाजे को भेजा जेल (फोटो साभार- News18 English)

मुंबई की कोर्ट ने सचिन वाजे को भेजा जेल (फोटो साभार- News18 English)

Explosives Case: विशेष न्यायाधीश पी आर सितरे ने निलंबित सहायक पुलिस निरीक्षक (एपीआई) सचिन वाजे को 23 अप्रैल तक की न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

  • Share this:
मुंबई. मुंबई के एक पॉश इलाके में एक एसयूवी से विस्फोटक मिलने और कारोबारी मनसुख हिरेन की मौत के मामले में यहां एक विशेष एनआईए अदालत (NIA Court) ने शुक्रवार को निलंबित पुलिस अधिकारी सचिन वाजे (Sachin Waze) को 23 अप्रैल तक की न्यायिक हिरासत में भेज दिया. वाजे को 13 मार्च को गिरफ्तार किया गया था और उसकी एनआईए हिरासत समाप्त होने के बाद एक विशेष अदालत के समक्ष पेश किया गया था.

विशेष न्यायाधीश पी आर सितरे ने निलंबित सहायक पुलिस निरीक्षक (एपीआई) वाजे को 23 अप्रैल तक की न्यायिक हिरासत में भेज दिया. एनआईए ने उसे अपनी हिरासत में और रखने पर जोर नहीं दिया. आरोपी 13 मार्च को गिरफ्तारी के बाद से एनआईए की हिरासत में था.

सचिन वाजे के आरोपों पर अनिल परब का पलटवार

इससे पहले, निलंबित पुलिस अधिकारी सचिन वाजे के दावे पर उद्धव सरकार के मंत्री अनिल परब ने कहा कि महाराष्ट्र के मंत्रियों को बदनाम करने की साजिश रची जा रही है. वाजे ने बुधवार को दावा किया कि राज्य के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख ने मुंबई पुलिस में उनकी सेवा जारी रखने के लिए उनसे दो करोड़ रुपये मांगे थे. साथ ही, एक अन्य मंत्री अनिल परब पर आरोप लगाया है कि उन्होंने ठेकेदारों से वसूली करने को कहा था.
वाजे के आरोपों पर अनिल परब ने कहा कि पिछले 2 दिनों से, भाजपा कार्यकर्ता कह रहे थे कि अनिल परब का नाम सामने आएगा और उन्हें इस्तीफा देना होगा. उन्हें कैसे पता चला कि सचिन वाजे एक पत्र देंगे. यह स्पष्ट है कि ये महाराष्ट्र के मंत्रियों को बदनाम करने की योजना है. अनिल परब ने कहा, "सचिन वाजे ने पहले इस बारे में बात क्यों नहीं की? उन्होंने पहले मेरा नाम क्यों नहीं लिया. अचानक, वह एक पत्र लिखते हैं. इसका मतलब है कि सरकार को बदनाम करने के लिए ऐसा किया गया है." परब ने कहा कि "मैं किसी भी तरह की जांच के लिए तैयार हूं. मैं नार्को टेस्ट के लिए भी तैयार हूं."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज