बेकाबू कोरोना के बीच रेमडेसिवीर की कालाबाजारी पर मुंबई क्राइम ब्रांच की बड़ी कार्रवाई

रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी पर क्राइम ब्रांच का छापा

रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी पर क्राइम ब्रांच का छापा

Remdesivir: रेमडेसिवीर इंजेक्शन कोरोना के मरीजों को लगाया जाता है. मुम्बई में इस वक़्त बढ़ते कोरोना मामलों की वजह से इस इंजेक्शन की बहुत मांग है, जिसका फायदा कुछ लोग उठाकर इसकी कालाबाजारी कर रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 9, 2021, 12:30 AM IST
  • Share this:
मुंबई सहित पूरे महाराष्ट्र में बढ़ते कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामलों के बीच लगातार हो रही रेमडेसिवीर इंजेक्शन (Remdesivir Injection) की कालाबाजारी पर मुंबई क्राइम ब्रांच ने बड़ी कार्रवाई की. मुंबई क्राइम ब्रांच ने जोगेश्वरी इलाके में छापा मारते हुए एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है जो बड़ी संख्या में रेमडेसिवीर इंजेक्शन कालाबाजारी करने की फिराक में था. इस मामले में क्राइम ब्रांच ने गिरोह के पास से अब तक 12 रेमडेसिवीर इंजेक्शन बरामद किया है और कुछ और इंजेक्शन के बरामद होने की आशंका है. इस मामले में गिरोह के एक सदस्य को गिरफ्तार भी किया गया है.

क्राइम ब्रांच के आला अधिकारियों से मिली जानकारी के मुताबिक उन्हें अपने मुखबीरों से यह जानकारी मिली थी कि जोगेश्वरी और अंधेरी के बीच एक इलाके में एक गिरोह बड़ी मात्रा में रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने की फिराक में है. इस जानकारी के मिलते ही क्राइम ब्रांच यूनिट-10 की टीम ने इलाके में छापा मारा और इस छापेमारी में एक दर्जन रेमडेसिवीर इंजेक्शन बरामद किया. इस मामले में जिस शख्स के यहां यह रेमडेसिवीर इंजेक्शन बरामद किया गया है, उसे गिरफ्तार कर लिया गया है.

बता दें कि यह इंजेक्शन कोरोना के मरीजों को लगाया जाता है. मुम्बई में इस वक़्त बढ़ते कोरोना मामलों की वजह से इस इंजेक्शन की बहुत मांग है, जिसका फायदा कुछ लोग उठाकर इसकी कालाबाजारी कर रहे हैं. इस इंजेक्शन की आम तौर पर कीमत करीब 1200 रुपये है, लेकिन ब्लैक मार्केटिंग में इसे 5500-6000 रुपये में बेचा जा रहा है. कालाबाजारी की शिकायतों को लेकर राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने रेमडेसिवीर इंजेक्शन बनाने वाली 7 कंपनियों के साथ आज बैठक भी की थी, ताकि इसे रोका जा सके. वहीं मुम्बई क्राइम ब्रांच यह पता लगाने में जुटी हुई है कि आखिर इतनी मात्रा में यह इंजेक्शन कहां से लाया गया था और इसकी सप्लाई कहां की जानी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज