Home /News /maharashtra /

26/11 Mumbai Attack: नवाज शरीफ ने 'स्वीकारी' थी भूमिका, 13 साल बाद भी पाकिस्तान ने ईमानदारी नहीं दिखाई!

26/11 Mumbai Attack: नवाज शरीफ ने 'स्वीकारी' थी भूमिका, 13 साल बाद भी पाकिस्तान ने ईमानदारी नहीं दिखाई!

मुंबई हमले को 13 साल पूरे हो रहे हैं. फाइल फोटो

मुंबई हमले को 13 साल पूरे हो रहे हैं. फाइल फोटो

26/11 Mumbai Terror Attack: खुफिया एजेंसियों द्वारा जुटाई गई जानकारी के मुताबिक कसाब ने कहा था कि सभी हमलावर पाकिस्तान से आए थे और उन्हें नियंत्रित करने वाले कंट्रोलर्स भी पाकिस्तानी थे, जो सीमा पार से सबकुछ ऑपरेट कर रहे थे. हमले के 10 साल बाद पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ (Nawaz Sharif) ने एक सनसनीखेज खुलासे में संकेत दिया था कि 2008 के मुंबई हमले में इस्लामाबाद ने भी सक्रिय भूमिका निभाई थी.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. 26 नवंबर 2021 को मुंबई हमले (26/11 Mumbai Terror Attack) के 13 साल पूरे हो गए हैं. देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में चार जगहों पर पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा (Lashkar-e-Taiba) के 10 आतंकी ने 12 हमलों को अंजाम दिया था. इस हमले ने हिंदुस्तान ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया था. ऑइकॉनिक ताजमहल पैलेस होटल, नरीमन प्वाइंट, मेट्रो सिनेमा और छत्रपति शिवाजी टर्मिनस के साथ कई अन्य स्थानों पर आतंकियों के हमले में 15 देशों के 166 लोग मारे गए थे. नवंबर 2008 में हुए मुंबई हमले को 26/11 हमला भी कहा जाता है, ये शायद पहली बार था, जब पूरे विश्व ने आतंकी हमले की व्यापक रूप से निंदा की थी, जिसकी अब तक अनदेखी की गई थी.

    वहीं केंद्र सरकार को आतंकवाद विरोधी अभियानों को गंभीर रूप से बढ़ाने और इसके कई पहलुओं की फिर से जांच करने के साथ पाकिस्तान के साथ पहले से ही तनावपूर्ण चल रहे संबंधों की समीक्षा के लिए प्रेरित किया. इस हमले के मुख्य आरोपी अजमल कसाब को सुरक्षा बलों ने धर दबोचा था, बाद में इस हमले की योजना बनाने और इसे अंजाम देने में पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा की भूमिका की पुष्टि भी हुई.

    नवाज शरीफ ने ‘स्वीकारी’ थी पाकिस्तान की भूमिका
    खुफिया एजेंसियों द्वारा जुटाई गई जानकारी के मुताबिक कसाब ने कहा था कि सभी हमलावर पाकिस्तान से आए थे और उन्हें नियंत्रित करने वाले कंट्रोलर्स भी पाकिस्तानी थे, जो सीमा पार से सबकुछ ऑपरेट कर रहे थे. हमले के 10 साल बाद पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ (Nawaz Sharif) ने एक सनसनीखेज खुलासे में संकेत दिया था कि 2008 के मुंबई हमले में इस्लामाबाद ने भी सक्रिय भूमिका निभाई थी. मौजूदा समय में उपलब्ध साक्ष्य बताते हैं कि तीन आतंकियों अजमल कसाब (Ajmal Kasab), डेविड हेडली और जबीउद्दीन अंसारी से पूछताछ में यह साफ हो गया था कि मुंबई हमला पाकिस्तानी सरकार द्वारा प्रायोजित था.

    13 साल बाद भी न्याय का इंतजार
    बावजूद इसके कि पाकिस्तानी हुक्मरानों ने मुंबई हमले में अपनी संलिप्पता सार्वजनिक रूप से स्वीकार की है, और सभी आवश्यक सबूत मौजूद हैं. पाकिस्तान ने मुंबई हमले के 13 साल बाद भी न्याय दिलाने में ईमानदारी नहीं दिखाई है. इस हमले में मारे गए लोगों के परिजनों को अभी भी न्याय का इंतजार है. बीते 7 नवंबर को एक पाकिस्तानी कोर्ट ने 6 आतंकियों को रिहा कर दिया था, ये सभी लोग मुंबई हमले में संलिप्त थे, और इनका सरगना कुख्यात आतंकी हाफिज सईद था, जिसे संयुक्त राष्ट्र ने आतंकी घोषित कर रखा है और जो लश्कर ए तैयबा का संस्थापक है, जो अब जमात उद दावा के नाम से आतंकी संगठन चलाता है.

    पाकिस्तान की सियासत में आतंकियों का दखल
    जकी उर रहमान लखवी, लश्कर ए तैयबा का कमांडर था और 2008 के मुंबई हमले का मास्टर माइंड भी, जो 2015 से बेल पर है. जिसे पाकिस्तान की पंजाब सरकार ने आतंकी गतिविधियों को वित्तीय सहायता देने के लिए गिरफ्तार किया था.

    संयुक्त राष्ट्र ने लखवी को भी आतंकी घोषित कर रखा है, जिसे इसी साल जनवरी में एक बार फिर गिरफ्तार किया गया था, लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि पाकिस्तान की सियासत में इन लोगों का दखल न्याय के रास्ते में रोड़ा बन जाता है.

    Tags: 26/11 mumbai attack, Ajmal Kasab, Lashkar-e-taiba, Nawaz sharif, Pakistan

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर