सुशांत केस: वकील को मिली जमानत अर्जी की ऑर्डर कॉपी, ड्रग्‍स केस में शोविक-रिया का कबूलनामा दर्ज
Mumbai News in Hindi

सुशांत केस: वकील को मिली जमानत अर्जी की ऑर्डर कॉपी, ड्रग्‍स केस में शोविक-रिया का कबूलनामा दर्ज
शोविक और रिया ने ड्रग्‍स मामले में कबूल किए आरोप.

Sushant Singh rajput case: आरोपी रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) ने अपने बयान के दौरान ड्रग्स की खरीद फरोख्त के बारे में भी खुलासा किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 15, 2020, 11:20 AM IST
  • Share this:
मुंबई. सुशांत सिंह राजपूत केस (Sushant singh rajput case) से जुड़े ड्रग्‍स मामले में गिरफ्तार रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) की जमानत याचिका अदालत ने 11 सितंबर को खारिज कर दी थी. अदालत की डिटेल आर्डर की कॉपी रिया चक्रवर्ती के वकील को सोमवार को दी गई है. इसमें साफ लिखा है कि जांच के दौरान सामने आया कि रिया के भाई शोविक ने बताया कि वो ड्रग्स पेडलर अब्दुल बासित परिहार के जरिए ड्रग्स की व्‍यवस्‍था कर रहा था. वह बासित, कैजान और जैद के संपर्क में था. वो बासित को ड्रग्स दे रहे थे और ये ड्रग्स सुशांत सिंह राजपूत तक पहुंचाई जा रही थी.

कोर्ट के आर्डर में साफ लिखा है कि ये सभी बातें रिया चक्रवर्ती जानती थीं. इतना ही नहीं, इन ड्रग्‍स का पेमेंट भी रिया ही करती थीं. कभी-कभी ये बताती थीं कि आखिरकार कौन सी ड्रग्स लानी है. NCB के पास आरोपी रिया के खिलाफ कुछ व्हाट्सएप चैट और इलेक्ट्रॉनिक एविडेंस भी मौजूद हैं. इतना ही नहीं ड्रग्स के लिए कुछ पैसों की ट्रांजेक्शन तो खुद रिया ने अपने क्रेडिट कार्ड से की है. मामले की जांच अभी जारी है.

यह भी पढ़ें: क्‍या टापू पर बने सुशांत सिंह राजपूत के फार्म हाउस पर होती थीं 'ड्रग्‍स पार्टी'? जांच में जुटी NCB



आरोपी रिया ने अपने बयान के दौरान ड्रग्स की खरीद फरोख्त के बारे में भी खुलासा किया है. उन्‍होंने ये भी बताया है कि वह कैसे सैमुअल मिरांडा, दीपेश सांवत और शोविक के जरिए ड्रग्स मंगवा रही थीं. आर्डर की कॉपी में साफ लिखा है कि ये सभी एक ड्रग सिंडिकेट के एक्टिव मेंबर हैं. ये सभी ड्रग्स सुशांत को दी जा रही थी.

इस आर्डर की कॉपी में आखिर में साफ लिखा है कि जांच अभी जारी है. अगर आरोपी रिया को जमानत पर रिहा किया गया तो वो बाकी के लोगों को सतर्क करेगी और वो बाकी बचे सुबूत भी नष्ट कर सकती है. वह सबूतों के साथ छेड़छाड़ कर सकती हैं. जांच अभी शुरुआती दौर में है. इन सभी तथ्यों को देखते हुए जमानत याचिका खारिज की जाती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज