सुशांत सिंह मामला: ग्रांट थोर्नटन को बनाया गया फोरेंसिक ऑडिटर

सुशांत सिंह केस में ग्रांट थोर्नटन बने फोरेंसिक ऑडिटर
सुशांत सिंह केस में ग्रांट थोर्नटन बने फोरेंसिक ऑडिटर

Sushant Singh Rajput Case: सुशांत के पिता के. के. सिंह (K.K Singh) ने पटना में एक प्राथमिकी दर्ज कराई थी जिसमें सुशांत के खाते से बड़ी रकम निकाले जाने का दावा किया गया है. इन आरोपों के बाद मुंबई पुलिस (Mumbai Police) ने वित्तीय फोरेंसिक विशेषज्ञों की एक टीम गठित करने का फैसला किया जो पता लगाएगी कि कहीं कोई संदिग्ध लेन-देन तो नहीं हुआ.

  • Share this:
मुंबई. मुंबई पुलिस (Mumbai Police) ने मंगलवार को ग्रांट थोर्नटन को सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत के मामले में फोरेंसिक ऑडिटर नियुक्त किया है. एक पुलिस अधिकारी ने यह जानकारी दी. पुलिस इस मामले में कथित पेशेवर दुश्मनी, अवसाद और वित्तीय लेनदेन जैसे अनेक पहलुओं की जांच कर रही है. सुशांत के पिता के. के. सिंह ने पटना में एक प्राथमिकी दर्ज कराई थी जिसमें सुशांत के खाते से बड़ी रकम निकाले जाने का दावा किया गया है. इन आरोपों के बाद मुंबई पुलिस ने वित्तीय फोरेंसिक विशेषज्ञों की एक टीम गठित करने का फैसला किया जो पता लगाएगी कि कहीं कोई संदिग्ध लेन-देन तो नहीं हुआ.

अधिकारी ने कहा, 'इसी दिशा में पुलिस ने मंगलवार को ग्रांट थोर्नटन को मामले में फोरेंसिक ऑडिटर नियुक्त किया है.' मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने सोमवार को संवाददाताओं से कहा कि बिहार पुलिस की प्राथमिकी के अनुसार सुशांत सिंह के खाते से 15 करोड़ रुपये गलत तरह से निकाले गये. उन्होंने कहा था, 'जांच के दौरान हमें पता चला कि उनके खाते में 18 करोड़ रुपये थे जिसमें से करीब साढ़े चार करोड़ रुपये अब भी खाते में हैं.' सिंह ने कहा कि रिया चक्रवर्ती के खाते में सीधे पैसों के हस्तांतरण की अभी कोई पुष्टि नहीं हुई है. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने धनशोधन की जांच के सिलसिले में राजपूत के सीए से पूछताछ की थी.

बिहार सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की, रिया के वकील ने अधिकार क्षेत्र से परे बताया
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि राज्य सरकार ने मंगलवार को सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में सीबीआई जांच की सिफारिश की है, जिसे अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती के वकील ने चुनौती देते हुए कहा कि राज्य को इस तरह की सिफारिश करने का अधिकार नही है. नीतीश ने ट्वीट किया, 'राज्य सरकार ने दिवंगत सुशांत सिंह राजपूत के पिता के के सिंह द्वारा दर्ज मामले में सीबीआई जांच के लिए अपनी सिफारिश भेजी है.' राजपूत की सनसनीखेज मौत के मामले में कानून के तहत जांच करने के अधिकार को लेकर पटना और मुंबई पुलिस के बीच खींचतान चल रही है. इस बीच नीतीश कुमार ने कहा था कि उनकी सरकार ने सुशांत के पिता की मंजूरी के बाद मामला केंद्रीय जांच एजेंसी को सौंपने का फैसला किया है.
राजपूत के पिता ने पटना में 25 जुलाई को रिया चक्रवर्ती और उनके परिवार के अन्य सदस्यों के खिलाफ अभिनेता को खुदकुशी के लिए उकसाने के आरोप में शिकायत दर्ज कराई है. नीतीश कुमार ने संवाददाताओं से कहा, 'आज सुबह ही हमारे डीजीपी (गुप्तेश्वर पांडेय) से उनकी (के के सिंह) बातचीत हुई है और उन्होंने अपनी सहमति दे दी है, जिसकी सूचना डीजीपी ने दी तथा तुरंत सीबीआई जांच के लिए अनुशंसा यहां से जा रही है. सुशांत के पिता जी ने यहां प्राथमिकी दर्ज करायी थी जिसके आधार पर बिहार पुलिस ने जांच का काम शुरू किया.' उन्होंने कहा, 'अब उन्होंने स्वीकृति दे दी है तो मैंने डीजीपी से आज ही सारी औपचारिकताएं पूरी करने को कहा है और सरकार आज ही सिफारिशें भेज देगी.'



बिहार पुलिस के साथ गलत व्‍यवहार हुआ: नितिश कुमार
नीतीश ने कहा, 'बिहार पुलिस के साथ वहां बिल्कुल गलत व्यवहार हुआ. जहां भी प्राथमिकी दर्ज होगी, कानूनी रूप से हमारे राज्य की पुलिस की जिम्मेदारी थी और उसके हिसाब से वे जांच के लिए वहां (मुंबई) गए. वहां तो सहयोग करना चाहिए था.' रिया चक्रवर्ती के वकील सतीश मानशिंदे ने एक बयान में कहा कि इस मामले का स्थानांतरण नहीं किया जा सकता है और इसमें बिहार पुलिस को शामिल करने का कोई कानूनी आधार नहीं है. ज्यादा से ज्यादा 'जीरो एफआईआर' दर्ज होगी जो मुंबई पुलिस को स्थानांतरित की जाएगी. उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों को सीबीआई को स्थानांतरित करने का कोई कानूनी आधार नहीं है जिसमें उनका (बिहार पुलिस का) कोई अधिकार क्षेत्र नहीं हो.

उन्होंने कहा कि बिहार सरकार को एहसास हो रहा है कि उसके पास मामले की जांच करने का अधिकार नहीं है तो वह अब मामले को सीबीआई को सौंपने की सिफारिश करने का 'अवैध तरीका' अपना रही है. चक्रवर्ती ने उच्चतम न्यायालय में एक याचिका दायर करके दावा किया था कि बिहार पुलिस के पास मामले की जांच करने का अधिकार नहीं है, क्योंकि मुंबई पुलिस पहले ही दुर्घटनावश मौत रिपोर्ट (एडीआर) दर्ज कर चुकी है. राजपूत (34) 14 जून को बांद्रा के अपने फ्लैट में फंदे से लटके मिले थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज