मुंबई पुलिस का आरोप-सुशांत के परिवार ने जानबूझकर ओपी सिंह और DCP की चैट लीक की

सु्शांत के परिवार ने फरवरी में कोई शिकायत नहीं की: मुंबई पुलिस
सु्शांत के परिवार ने फरवरी में कोई शिकायत नहीं की: मुंबई पुलिस

SSR Suicide Case: सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के जीजा ओपी सिंह (O.P Songh) और बांद्रा के डीसीपी (DCP) के बीच हुई बातचीत का स्‍क्रीनशॉट भी सुर्खियों में है. जिस पर मुंबई पुलिस ने कहा कि सुशांत के परिवार वालों ने जानबूझकर मुंबई पुलिस के डीसीपी और ओपी सिंह के चैट को लिक किया है जो काफी सेलेक्टिव है. मुंबई पुलिस के डीसीपी परमजीत दहिया और ओपी सिंह एक दूसरे को जानते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 4, 2020, 5:23 PM IST
  • Share this:
मुंबई. मुंबई पुलिस (Mumbai Police) ने सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के पिता के उस दावे को खारिज कर दिया कि उन्‍होंने बेटे की जान को खतरा होने के बारे में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी. वहीं, अब सुशांत सिंह राजपूत के जीजा ओपी सिंह (O.P Songh) और बांद्रा के डीसीपी (DCP) के बीच हुई बातचीत का स्‍क्रीनशॉट भी सुर्खियों में है. जिस पर मुंबई पुलिस ने कहा कि सुशांत के परिवार वालों ने जान बूझकर मुंबई पुलिस के डीसीपी और ओपी सिंह के चैट को लीक किया है जो काफी सेलेक्टिव है. मुंबई पुलिस के डीसीपी परमजीत दहिया और ओपी सिंह एक दूसरे को जानते हैं.

मुंबई पुलिस का कहना है कि ओपी सिंह ने हमारे डीसीपी से कई बार वाट्सऐप पर पर्सनल मदद मांगी है जैसे- कार अरेंज कराने, पास दिलाने के लिए. ओपी सिंह ने यह मीडिया में क्‍यों नहीं लीक किया? मुंबई पुलिस एक दूसरे के पर्सनल चैट लीक नहीं करती है. जब मुंबई पुलिस ने सुशांत की मौत के बाद उनके परिवार वालों का स्टेटमेंट लिया था, तब भी ओपी सिंह मौजूद थे. ओपी सिंह ने तब क्‍यों नहीं वाट्सऐप के बारे में जानकारी दी. जिस समय पुलिस को इनफॉर्म करने की बात कही जा रही है, उस समय क्‍यों नहीं लिखित शिकायत दी गई. ओपी सिंह ने मुंबई पुलिस को स्‍टेटमेंट तक नहीं दिया है.

सुशांत के परिवार ने फरवरी में कोई शिकायत नहीं की: मुंबई पुलिस
मुंबई पुलिस ने सोमवार को सुशांत सिंह राजपूत के पिता के इस दावे को खारिज कर दिया कि उनके परिवार ने राजपूत की जान को खतरा होने के बारे में 25 फरवरी को पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी. राजपूत के पिता केके सिंह ने कहा है कि उन्होंने अपने बेटे की मौत से लगभग चार महीने पहले 25 फरवरी को बांद्रा पुलिस थाने में लिखित शिकायत की थी कि राजपूत की जान को खतरा है. मुंबई पुलिस ने एक प्रेस नोट में इस दावे को खारिज करते हुए कहा कि बांद्रा पुलिस के अधिकारियों को राजपूत की जान को खतरे के बारे में उनके परिवार से कोई शिकायत नहीं मिली.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज