कोरोना: वर्क फ्रॉम होम, बाहरी गतिविधियों पर बैन, जानें टास्क फोर्स की महाराष्ट्र पर सलाह

महाराष्‍ट्र में रोजाना कोरोना वायरस महामारी के रिकॉर्ड स्‍तर के मामले सामने आ रहे हैं. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर-AP)

महाराष्‍ट्र में रोजाना कोरोना वायरस महामारी के रिकॉर्ड स्‍तर के मामले सामने आ रहे हैं. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर-AP)

Maharashtra Task Force Advice Uddhav Govt: महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे शुक्रवार को राज्‍य के हालात को लेकर जिला कलेक्‍टरों के साथ बैठक करेंगे. इस बैठक से पहले महाराष्‍ट्र टास्‍क फोर्स ने महामारी के संबंध में राज्‍य सरकार से कई सिफारिशें की हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2021, 7:52 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्‍ट्र में कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Epidemic) की बढ़ती रफ्तार ने उद्धव सरकार की चिंता बढ़ा दी है. यहां हर दिन रिकॉर्ड स्‍तर के मामले सामने आ रहे हैं. महाराष्‍ट्र में ही नहीं मुंबई में भी अचानक संक्रमण के बढ़ने से फिर संपूर्ण लॉकडाउन का सवाल उठने लगा है. बता दें कि, राज्‍य में गुरुवार को 35,952 नए केस सामने आए थे जबकि इस दौरान 111 मरीजों की मौत हो गई थी. महाराष्‍ट्र सरकार द्वारा जारी प्रतिबंधों के बावजूद संक्रमण के मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है.

महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे शुक्रवार को राज्‍य के हालात को लेकर जिला कलेक्‍टरों के साथ बैठक करेंगे. इस बैठक से पहले महाराष्‍ट्र टास्‍क फोर्स ने महामारी के संबंध में राज्‍य सरकार से कई सिफारिशें की हैं.

महाराष्‍ट्र टास्‍क फोर्स द्वारा दिए गए सुझाव

- टास्‍क फोर्स ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर और इसका नया स्‍ट्रेन अधिक संक्रामक है और इससे बचने के लिए और ज्‍यादा इम्‍युनिटी पावर की आवश्‍यकता है. संक्रमण की संख्‍या में वृद्धि का एक यह भी बड़ा कारण हो सकता है.
- टास्‍क फोर्स ने महामारी को नियंत्रित करने और टीकाकरण को बढ़ाने के आधार पर अपनी सिफारिशें भेजी हैं.

Youtube Video


- टास्‍क फोर्स ने कहा कि टीकाकरण अभियान को बढ़ाने की आवश्यकता है. 18 से 45 वर्ष की आयु के लोग स्प्रेडर ग्रुप हैं और इसलिए सभी के लिए टीकाकरण की सिफारिश की गई थी. लेकिन सरकारी स्तर पर बाधाएं हैं.



- टास्क फोर्स ने कहा है कि परीक्षण बढ़ने के कारण अगले कुछ दिनों में मामलों की संख्या में और वृद्धि हो सकती है.

- टास्‍क फोर्स ने सुझाव दिया कि कोविड-उपयुक्त व्यवहार को कानून द्वारा लागू किया जाना चाहिए.

- अपने सुझाव में टास्‍क फोर्स ने '3 टी' और '1आई' पर जोर दिया. जिसका मतलब, टेस्‍ट, ट्रेस, ट्रिट एवं आइसोलेट है. चूंकि युवाओं को घर पर रखना मुश्किल है, इसलिए उन्हें इंस्‍टीट्यूशनल क्‍वारंटाइन होना चाहिए या घर पर ही ऐसा माहौल तैयार किया जाए, जिससे इसका सख्‍ती से पालन हो सके.

- कोविड के एक केस के 30 संपर्कों का 24 घंटे के अंदर पता लगाया जाए.

- अगर कोई विशेष काम न हो तो बाहर जाने से बचना चाहिए. सड़क के कोनों या चौराहों पर सुबह और शाम को लगने वाली भीड़ को रोका जाना चाहिए. सुबह और शाम की वॉक संबंधी गतिविधियों पर भी प्रतिबंध लगाना चाहिए.

- दफ्तर का वर्चुअल उपयोग करना चाहिए. वर्तमान में 50 फीसदी संख्‍या के साथ कार्यालय चल रहे हैं. लेकिन अगर शेष 50 फीसदी लोग भी अगर घर से काम कर सकें तो ऐसा करना चाहिए.

- कोरोना के लक्षण दिखने या महसूस होने पर इसकी अनदेखी नहीं करनी चाहिए. तत्‍काल परीक्षण कराना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज