महाराष्‍ट्र: ठाकरे सरकार का बड़ा एक्‍शन, 71.68 लाख ग्राहकों को कटेंगे बिजली कनेक्शन!

महाराष्‍ट्र में कृषि पंप ग्राहकों पर कंपनी का 45,498 करोड़ रुपये बकाया है, जबकि व्यावसायिक, औद्योगिक और घरेलू पर 8,485 करोड़ रुपये बकाया है.

महाराष्‍ट्र में कृषि पंप ग्राहकों पर कंपनी का 45,498 करोड़ रुपये बकाया है, जबकि व्यावसायिक, औद्योगिक और घरेलू पर 8,485 करोड़ रुपये बकाया है.

महाराष्‍ट्र (Maharashtra) की सरकारी बिजली कंपनी महावितरण के अनुसार, दिसंबर 2020 के आखिर तक लगभग 60,000 करोड़ रुपये बिलों (electricity bills) का बकाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 3, 2021, 11:04 PM IST
  • Share this:

मुंबई. महाराष्‍ट्र (Maharashtra) की उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) सरकार ने आम आदमी को बड़ा झटका देते हुए 71.68 लाख बिजली कनेक्‍शन (Electricity Connection) धारकों को नोटिस जारी कर दिया है. सरकारी बिजली कंपनी महावितरण की ओर से 71.68 लाख ग्राहकों को बिजली कनेक्शन काटने का नोटिस भेजा गया है. नोटिस में कहा गया है कि अगर जल्‍द से जल्‍द उन्‍होंने बिजली का बकाया बिल जमा नहीं किया तो वह कनेक्‍शन काट दिया जाएगा. सूत्रों के मुताबिक आज से बिजली काटने का काम भी शुरू हो जाएगा.

बता दें कि कोरोना काल के दौरान सभी सरकारी और निजी दफ्तर बंद चल रहे हैं. ज्‍यादातर लोग अपने घरों से ही काम कर रहे हैं. ऐसे भी सभी घरों के बिजली मीटर ने रफ्तार पकड़ ली है. लोगों के बिल कई गुना ज्यादा आने लगे हैं. ग्राहकों का कहना है कि लॉकडाउन के दौरान जब बिजली के बिल ज्‍यादा आने लगे थे जब राज्‍य के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे, ऊर्जा मंत्री नितिन राउत सहित तमाम नेताओं ने बिजली बिल में राहत देने का वादा किया था. यहां तक कि सरकार की ओर से बिजली के लिए 1000 करोड़ रुपये का प्रस्‍ताव देने की भी बात कही गई थी. सरकार की ओर से बिजली कंपनियों को आदेश दिए गए थे कि किसी भी हालत में बिजली का कनेक्‍शन नहीं काटा जाएगा.

Youtube Video

उस दौरान उद्धव सरकार ने 300 यूनिट तक बिजली बिल माफ करने की भी बात कही थी लेकिन अब सरकार अपनी बात से पलट गई है और ग्राहकों को बिजली बिल का भुगतान करने के लिए कहा गया है.
सरकारी बिजली कंपनी महावितरण के अनुसार, दिसंबर 2020 के आखिर तक लगभग 60,000 करोड़ रुपये बिलों का बकाया है. कंपनी का कहना है कि अगर ये बिल के भुगतान की रकम नहीं मिली तो आगे बिजली की सप्‍लाई नहीं हो सकेगी. कंपनी के रिकॉर्ड के अनुसार, बिजली के बिलों का भुगतान किसान नहीं कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :- महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा विवाद: कन्नड़ संगठनों की येडियुरप्पा से उद्धव सरकार के खिलाफ एक्शन की मांग 

किसका कितना रुपये है बकाया



कृषि पंप ग्राहकों पर कंपनी का 45,498 करोड़ रुपये बकाया है, जबकि व्यावसायिक, औद्योगिक और घरेलू पर 8,485 करोड़ रुपये बकाया है. इसके साथ ही ज्यादा बिजली खपत करने वाले उच्चवर्गीय ग्राहकों पर भी 2,435 करोड़ रुपये बिल बकाया है. बता दें कि बिजली कंपनी की ओर से 15 दिसंबर से बकाया बिल के भुगतान के लिए नोटिस भेजा जा रहा है, जबकि आज से बिल न देने वालों के कनेक्‍शन काटने की तैयारी है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज