महाराष्ट्र बीजेपी प्रमुख बोले- MVA के नेताओं के खिलाफ अदालत की अवमानना का मुकदमा दायर करेगी पार्टी

चंद्रकांत पाटिल ने कहा, 'देशमुख के खिलाफ सीबीआई जांच बंबई उच्च न्यायालय के आदेशानुसार की जा रही है.' (File Photo)

चंद्रकांत पाटिल ने कहा, 'देशमुख के खिलाफ सीबीआई जांच बंबई उच्च न्यायालय के आदेशानुसार की जा रही है.' (File Photo)

Maharashtra Latest news in Hindi: चंद्रकांत पाटिल ने कहा, ''एमवीए के नेता यह कहकर लोगों को मूर्ख बना रहे हैं कि सीबीआई को देशमुख पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों के संबंध में 15 दिन में रिपोर्ट देने के लिये ही कहा गया है."

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 26, 2021, 8:36 PM IST
  • Share this:
पुणे. महाराष्ट्र भाजपा प्रमुख चंद्रकांत पाटिल (Chandrakant Patil) ने रविवार को महा विकास अघाड़ी (एमवीए) के नेताओं के खिलाफ अवमानना का मुकदमा दायर करने की चेतावनी देते हुए कहा कि वे अनिल देशमुख मामले (Anil Deshmukh case) में भाजपा पर सीबीआई का दुरुपयोग करने का आरोप लगा रहे हैं जबकि सीबीआई उच्च न्यायालय के आदेश पर देशमुख के खिलाफ जांच कर रही है.

पाटिल ने पत्रकारों से कहा, ''देशमुख के खिलाफ सीबीआई जांच बंबई उच्च न्यायालय के आदेशानुसार की जा रही है. लेकिन वे (एमवीए के नेता) आरोप लगा रहे हैं कि भाजपा सीबीआई का दुरुपयोग कर रही है. क्या आप उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ बोलना चाहते हैं? ये (एमवीए के आरोप) अदालत की अवमानना के समान हैं और हम अदालत की अवमानना का मामला दर्ज कराएंगे.''

महाराष्ट्र में है एमवीए की सरकार

महाराष्ट्र में एमवीए की सरकार है, जिसमें शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस शामिल हैं. सीबीआई ने मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों के संबंध में महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है. सीबीआई ने शनिवार को मुंबई और नागपुर में देशमुख के ठिकानों पर छापेमारी भी की थी.
Youtube Video


ये भी पढ़ेंः- 11 से 15 मई के बीच चरम पर होगी कोरोना की दूसरी लहर, देश में होंगे 35 लाख एक्टिव केस, IIT वैज्ञानिकों का अनुमान

जानिए क्या कहा हाईकोर्ट ने?



पाटिल ने कहा, ''एमवीए के नेता यह कहकर लोगों को मूर्ख बना रहे हैं कि सीबीआई को देशमुख पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों के संबंध में 15 दिन में रिपोर्ट देने के लिये ही कहा गया है. उच्च न्यायालय ने यह भी कहा है यदि आवश्यक हो तो मामला भी दर्ज किया जा सकता है. लिहाजा एमवीए नेताओं के आरोप बेबुनियाद हैं.''



गृह मंत्री अनिल देशमुख ने मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह के वसूली संबंधी आरोपों पर हाई कोर्ट द्वारा सीबीआई जांच का आदेश दिए जाने के बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. एनसीपी नेता नवाब मलिक ने प्रेंस कॉन्फ्रेंस के जरिए यह जानकारी साझा की थी कि देशमुख ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को अपना इस्तीफा सौंप दिया है. देशमुख ने भी इस्तीफे की एक प्रति ट्वीट कर बताया था कि अधिवक्ता जयश्री पाटिल की याचिका पर हाई कोर्ट ने आरोपों की सीबीआई जांच का आदेश दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज