BMC जॉइंट कमिश्नर ने पानी की जगह गलती से पिया हैंड सैनिटाइजर, सामने आया VIDEO

बीएमसी जॉइंट कमिश्नर ने गलती से पिया हैंड सैनिटाइजर (Photo- ANI Videograb)

बीएमसी जॉइंट कमिश्नर ने गलती से पिया हैंड सैनिटाइजर (Photo- ANI Videograb)

BMC official drinks sanitiser: बीएमसी का बजट पेश करने जा रहे जॉइंट कमिश्नर रमेश पवार ने गलती से हैंड सैनिटाइजर को पानी समझ कर पी लिया, हालांकि गलती का एहसास होते ही उन्होंने तुरंत उसे थूक दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 3, 2021, 11:02 PM IST
  • Share this:

मुंबई. बृह्नमुंबई नगरपालिका (Brihanmumbai Municipal Corporation) के जॉइंट कमिश्नर रमेश पवार ने बुधवार को गलती से पानी की जगह हैंड सैनिटाइजर (Hand Sanitiser) पी लिया. ये घटना तब हुई जब बीएमसी के जॉइंट कमिश्नर बजट पेश करने जा रहे थे. इस घटना से जुड़ा एक वीडियो भी सामने आया है जिसमें पवार हैंड सैनिटाइजर पीते दिख रहे हैं. इस बीच लोग उन्हें रोकने के लिए आते हैं हालांकि तब तक वह घूंट भर चुके होते हैं. लेकिन तुरंत ही वह उसे उगल देते हैं. फिर वहां मौजूद लोग उन्हें पानी की बोतल देते हैं. इसके बाद पवार कुल्ला करने के लिए जाते हैं.

घटना के बाद पवार ने एएनआई को बताया, "मैंने सोचा कि मैं अपना बजट भाषण शुरू करने से पहले पानी पी लेता हूं इसलिए मैंने बोतल उठाई और पी लिया. वहां पानी और सैनिटाइजर दोनों की ही बोतलें रखी हुई थीं, जो दिखने में एक जैसी थीं. जैसे ही मैंने उसे पिया, मुझे गलती का अहसास हुआ और मैंने उसे गटका नहीं, उगल दिया."


महाराष्ट्र से सोमवार को ही हैंड सैनिटाइजर पीने से संबंधित एक हैरान कर देने वाली घटना सामने आई थी. जहां यवतमाल जिले में 12 बच्चों को पोलियो की खुराक देने के स्थान पर हैंड सैनिटाइजर पीने के लिए दे दिया गया. बच्चों की हालत स्थिर बताई जा रही है. यवतमाल के कलेक्टर एमडी सिंह ने बताया कि यह घटना रविवार को कापसीकोपरी गांव के भानबोरा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में हुई जहां एक से पांच साल के बच्चों के लिए राष्ट्रीय पल्स पोलियो टीकाकरण अभियान चल रहा था. घटना की जांच पूरी कर ली गई है. सरकार को एक रिपोर्ट सौंपी जाएगी और राज्य स्तर पर उचित कार्रवाई की जाएगी.

Youtube Video

यवतमाल जिला परिषद के सीईओ श्रीकृष्ण पांचाल ने सोमवार को कहा कि पांच साल से कम उम्र के 12 बच्चों को पोलियो की खुराक की जगह सैनिटाइजर की दो बूंदें दे दी गईं. उन्होंने कहा कि इसके बाद, बच्चों में से एक ने उल्टी और बेचैनी की शिकायत की. प्रभावित बच्चों को बाद में सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया. उन्होंने कहा, ‘‘बच्चों को 48 घंटे तक डॉक्टरों की निगरानी में रखा गया. वे ठीक हैं और उन्हें आज छुट्टी दे दी जाएगी.’’ उन्होंने कहा कि घटना की जांच पूरी कर ली गई है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज