4 साल के बच्‍चे के यौन उत्‍पीड़न के दोषी बुजुर्ग दंपती को बॉम्‍बे हाईकोर्ट ने दी जमानत

बॉम्‍बे हाईकोर्ट ने दी जमानत. (File pic)

बॉम्‍बे हाईकोर्ट ने दी जमानत. (File pic)

Maharashtra: मार्च में एक विशेष अदालत ने 2013 के एक मामले में अश्विन (87) और विमलाबेन पारीख (81) को यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण कानून (पॉक्सो) के तहत दोषी पाया था

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 13, 2021, 5:21 PM IST
  • Share this:
मुंबई. पिछले महीने एक विशेष अदालत द्वारा 80 साल से अधिक उम्र के एक दंपती को यौन शोषण (Sexual Assault) के मामले में 10 साल की सजा सुनाए जाने के बाद बॉम्‍बे हाईकोर्ट (Bombay High court) ने उन्हें जमानत दे दी है. दंपती पर चार वर्षीय पड़ोसी का यौन शोषण करने का आरोप है. जस्टिस रेवती मोहिते डेरे की एकल पीठ ने पिछले सप्ताह दंपती को जमानत दी और कहा कि रिकॉर्ड पर पेश किए गए सबूतों में कई विसंगतियां थीं.

इस साल मार्च में एक विशेष अदालत ने 2013 के एक मामले में अश्विन (87) और विमलाबेन पारीख (81) को यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण कानून (पॉक्सो) के तहत दोषी पाया था और उन्हें 10 साल की सजा सुनाई थी.

Youtube Video


दंपती ने विशेष अदालत के फैसले को चुनौती देते हुए बॉम्‍बे हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था और जमानत की याचिका दायर की थी. अदालत द्वारा आठ अप्रैल को पारित आदेश के अनुसार, पीड़ित स्कूल से वापस लौटते समय सितंबर 2013 में दंपती के घर गया था जहां उन्होंने उसका यौन शोषण किया.


पीड़ित की मां ने उसी शाम पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी. दंपती के वकील दिनेश तिवारी ने अदालत को बताया कि उनके मुवक्किलों के विरुद्ध आरोप गलत हैं और उनका मकान हड़पने के चक्कर में बच्चे के माता पिता ने उन पर आरोप लगाया है. अदालत ने कहा कि रिकॉर्ड पर मौजूद साक्ष्यों में कई विसंगतियां हैं. अदालत ने दंपती को पचीस-पचीस हजार रुपये का मुचलका भरने का आदेश देते हुए जमानत दी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज