• Home
  • »
  • News
  • »
  • maharashtra
  • »
  • पुणे गैंगरेप केस : बॉम्बे हाईकोर्ट ने बरकरार रखी तीन लोगों की उम्रकैद की सज़ा

पुणे गैंगरेप केस : बॉम्बे हाईकोर्ट ने बरकरार रखी तीन लोगों की उम्रकैद की सज़ा

बॉम्बे हाईकोर्ट. (फाइल फोटो)

बॉम्बे हाईकोर्ट. (फाइल फोटो)

Pune Gangrape 2010: पुणे सत्र न्यायालय ने रंजीत गाडे, गणेश कांबले और सुभाष भोसले को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी. अदालत ने मामले में जिरह के दौरान बचाव पक्ष के वकीलों और न्यायाधीश के आचरण पर कुछ कड़ी टिप्पणियां कीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    मुंबई. पुणे गैंगरेप केस (Pune Gangrape 2010) को लेकर बॉम्बे हाईकोर्ट ने तीन दोषियों की सज़ा बरकरार रखने का फैसला किया है. साल 2011 में पुणे सत्र अदालत ने इस केस में उम्र कैद की सज़ा सुनाई थी. न्यायालय ने मामले में बचाव पक्ष के वकीलों और न्यायाधीश के खिलाफ आलोचनात्मक टिप्पणी की. बता दें कि एक अप्रैल, 2010 को पुणे के बाहरी इलाके वाकाड के मनकर चौक में आईटी पार्क के पास आरोपी द्वारा उस समय पीड़िता के साथ सामूहिक बलात्कार किया गया था, जब उसने अपनी कार में उसे लिफ्ट दी थी. पुणे सत्र न्यायालय ने रंजीत गाडे, गणेश कांबले और सुभाष भोसले को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी.

    अदालत ने मामले में जिरह के दौरान बचाव पक्ष के वकीलों और न्यायाधीश के आचरण पर कुछ कड़ी टिप्पणियां कीं. हाई कोर्ट ने कहा कि मौजूदा मामले में, सत्र न्यायाधीश पीड़िता की गरिमा की रक्षा के लिए अपने कर्तव्य को निभाने में नाकाम रहे. पीड़िता ने एमबीए की पढ़ाई की थी. उसके साथ पुणे के हिंजेवाड़ी क्षेत्र में सामूहिक बलात्कार किया गया था.

    ये भी पढ़ें:- अमित शाह से मुलाकात के एक दिन बाद NSA अजीत डोभाल से मिलने पहुंचे कैप्टन अमरिंदर

    उच्च न्यायालय ने कहा कि आरोपी व्यक्तियों का बचाव करने वाले वकीलों ने अन्य बातों के अलावा, ये सुझाव देने की कोशिश की थी कि पीड़िता ने शराब पी थी और उसने आरोपी के साथ सहमति से यौन संबंध बनाए थे. उच्च न्यायालय ने इस तरह की जिरह के दौरान अभियोजन पक्ष की चुप्पी पर सवाल उठाया. न्यायालय ने टिप्पणी की कि मामले की सुनवाई करने वाले सत्र न्यायाधीश को उस समय निष्क्रिय नहीं रहना चाहिए था और जब वकीलों ने पीड़िता, मामले में प्राथमिक गवाह से अनुचित जिरह की और उन्हें हस्तक्षेप करना चाहिए था.

    पीड़िता हिंजेवाडी इलाके में किराए के मकान में अकेली रहती थी. युवती के पति अमेरिका में काम करते थे. एक दिन शाम को घर जाने के लिए वो गाड़ी का इंतजार कर रही थी, तभी एक कार में बैठे युवकों ने उसे लिफ्ट दी. युवती को कार में बिठाकर तीनों उसे एक सुनसान जगह पर ले गए और उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया. इसके बाद तीनों उसे वहीं छोड़कर भाग गए. पीड़िता ने अगले दिन पुलिस को इसकी खबर दी. (एजेंसी इनपुट के साथ)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज