महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ CBI ने दर्ज किया केस, कई जगहों पर छापेमारी

अनिल देशमुख पर लगे हैं करोड़ों की वसूली के आरोप (ANI)

अनिल देशमुख पर लगे हैं करोड़ों की वसूली के आरोप (ANI)

सीबीआई ने महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) और अन्य के खिलाफ FIR दर्ज की है. इसके बाद शनिवार को घर पर छापेमारी की गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 26, 2021, 8:39 PM IST
  • Share this:
मुंबई.  महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) के घर शनिवार सुबह सीबीआई (CBI) ने छापा मारा. इससे पहले शुक्रवार को केंद्रीय जांच एजेंसी ने उनके खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया था. देशमुख के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों की सीबीआई ने प्रारंभिक जांच शुक्रवार को पूरी कर ली थी.

केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के सूत्रों ने बताया कि एजेंसी की एक टीम शुक्रवार रात नागपुर पहुंची थी और शनिवार सुबह से छापेमारी की जा रही है. देशमुख का घर नागपुर के सिविल लाइन्स इलाके में जीपीओ स्कॉयर में है. उन्होंने बताया कि सीबीआई की टीम देशमुख के निर्वाचन क्षेत्र कातोल कस्बे का भी दौरा कर सकती है जो नागपुर से 60 किलोमीटर दूर है. सीबीआई मुंबई में देशमुख से जुड़े परिसरों के अलावा कई अन्य स्थानों पर तलाश कर रही है.

Youtube Video


जांच एजेंसी ने मुंबई के पूर्व शीर्ष पुलिस अधिकारी परमबीर सिंह द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों से जुड़ा एक मामला दर्ज किया है. मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट ने सीबीआई को जांच सौंप दी गई थी. अदालत ने जांच एजेंसी को यह तय करने के लिए 15 दिन का समय दिया था कि भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया जा सकता है या नहीं. मामला दर्ज करने के बाद, सीबीआई ने शनिवार को कई जगहों पर छापेमारी की.
इससे पहले बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश पर 14 अप्रैल को सीबीआई ने महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ लगे भ्रष्टाचार के आरोपों के संदर्भ में प्रारंभिक जांच के तहत बुधवार को उनसे आठ घंटे पूछताछ की. देशमुख के खिलाफ मुंबई पुलिस के पूर्व प्रमुख परमबीर सिंह ने भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं.

राज्य सरकार की छवि खराब करने की कोशिश- सूत्र

सूत्रों ने बताया कि देशमुख ने पूछताछ के दौरान सिंह द्वारा उन पर लगाए गए आरोपों से इनकार किया और अधिकारियों से कहा कि यह राज्य सरकार की छवि खराब करने की कोशिश है.



मुंबई पुलिस आयुक्त के पद से पिछले महीने हटने के बाद सिंह ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर कहा था कि देशमुख ने वाजे सहित कुछ पुलिस अधिकारियों को रेस्तरां और बार से हर महीने 100 करोड़ रुपये की उगाही करने का लक्ष्य दे रखा है. देशमुख ने इन आरोपों से इंकार किया था.



बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश पर सीबीआई देशमुख के मामले में प्रारंभिक जांच कर रही है. प्रारंभिक जांच के आदेश के बाद देशमुख ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. सीबीआई ने अभी तक सिंह, सचिन वाजे, पुलिस उपायुक्त राजू भुजबल, सहायक पुलिस आयुक्त संजय पाटिल, वकील जयश्री पाटिल और होटल मालिक महेश शेट्टी के बयान दर्ज किए हैं. केन्द्रीय एजेंसी ने देशमुख के निजी सहायक कुंदन शिंदे और निजी सचिव संजीव पांडेय से रविवार को पूछताछ की थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज