CBI ने बॉम्‍बे हाईकोर्ट से कहा, देशमुख के खिलाफ जांच में सहयोग नहीं कर रही महाराष्ट्र सरकार

CBI ने बॉम्‍बे हाईकोर्ट में महाराष्‍ट्र सरकार के खिलाफ की शिकायत.

CBI की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने बताया कि बॉम्‍बे हाईकोर्ट (Bombay High Court) के आदेश के बाद से महाराष्‍ट्र (Maharashtra) के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) के खिलाफ जांच शुरू की गई थी.

  • Share this:
    मुंबई. मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह (Param Bir Singh) ने जिस तरह से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) को पत्र लिखकर तत्‍कालीन गृहमंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) पर गंभीर आरोप लगाए थे, उसके बाद से महाराष्‍ट्र की राजनीति में हलचल तेज हो गई थी. इस पूरे मामले में बॉम्‍बे हाईकोर्ट को सीबीआई जांच के आदेश देने पड़े थे. हालांकि अब सीबीआई एक बार फिर बॉम्बे हाईकोर्ट पहुंची है. सीबीआई ने बॉम्‍बे हाईकोर्ट से महाराष्‍ट्र सरकार की शिकायत करते हुए कहा है कि राज्‍य सरकार पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ जांच में सहयोग नहीं कर रही है.

    सीबीआई की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने बताया कि हाईकोर्ट के आदेश के बाद से महाराष्‍ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ जांच शुरू की गई थी. उन्‍होंने कहा कि इस जांच के जरिए पूरे राज्‍य में फैले भ्रष्‍टाचार को खत्‍म करने का एक मौका था, लेकिन महाराष्‍ट्र सरकार ने केंद्रीय जांच एजेंसी की ओर से की जा रही किसी भी जांच में सहयोग करने से इनकार कर दिया है. मेहता ने महाराष्‍ट्र सरकार की ओर से लगाए गए उन आरोपों का खंडन किया, जिसमें कहा गया था कि जांच एजेंसी पूर्व सहायक पुलिस निरीक्षक सचिन वाजे की बहाली और मुंबई पुलिस अधिकारियों के स्थानांतरण और तैनाती में अनिल देशमुख के अनुचित हस्तक्षेप के मुद्दे को शामिल कर होईकोर्ट के आदेश से बाहर जा रही है.

    इसे भी पढ़ें :- ED ने महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख पर कसा शिकंजा, मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज

    मेहता ने बॉम्‍बे हाईकोर्ट के सामने राज्य के वकील, वरिष्ठ अधिवक्ता रफीक दादा की ओर से लगाए गए उन आरोपों का पूरी तरह से खंडन किया है जिसमें कहा गया है कि सीबीआई अवैध फोन टैपिंग और पुलिस तैनाती से जुड़े दस्‍तावेजों को कथित तौर पर लीक करने के मामले में आईपीएस अधिकारी रश्मि शुक्ला के खिलाफ चल रही जांच में हाथ डालने की कोशिश कर रही है. वकील रफीक दादा ने आरोप लगाया था कि सीबीआई महाराष्‍ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख की जांच का इस्‍तेमाल कर राज्‍य के कई अन्‍य मामलों में हस्‍तक्षेप करने की कोशिश कर रही है.

    इसे भी पढ़ें :- SC ने परमबीर सिंह की याचिका की सुनवाई करते हुए कहा-जिनके घर शीशे के होते हैं वो...

    परमबीर सिंह ने अनिल देशमुख पर क्‍या लगाए थे आरोप
    मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह ने दावा किया है कि अनिल देशमुख ने सचिन वाझे को 100 करोड़ रुपये का टारगेट दिया था. परमबीर सिंह ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि 100 करोड़ रुपये टारगेट को पूरा करने के लिए मुंबई के बार, पब और रेस्टोरेंट से वसूली करने को कहा गया था. चिट्ठी के मुताबिक, इस टारगेट पर सचिन वाझे ने कहा था कि वो 40 करोड़ रुपये तो पूरा कर सकते हैं लेकिन 100 करोड़ बहुत ज्यादा है. परमबीर सिंह ने दावा किया कि 100 करोड़ का टारगेट पूरा करने के लिए अनिल देशमुख ने सचिन वाझे को दूसरे तरीके ईजाद करने के लिए कहा था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.