• Home
  • »
  • News
  • »
  • maharashtra
  • »
  • महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के ठिकानों पर CBI ने मारा छापा

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के ठिकानों पर CBI ने मारा छापा

सीबीआई टीम ने नागपुर में राज्य के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के आवास पर छापा मारा

सीबीआई टीम ने नागपुर में राज्य के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के आवास पर छापा मारा

CBI ने महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख और कुछ अन्य अज्ञात लोगों के खिलाफ आपराधिक साजिश रचने तथा भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम से संबंधित भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) ने महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) के कई परिसरों में सोमवार को छापेमारी शुरू की. अधिकारियों ने बताया कि ऐसा माना जा रहा है कि देशमुख के नागपुर और मुंबई स्थित परिसरों पर छापेमारी की जा रही है. एजेंसी ने इस संबंध में कोई जानकारी नहीं दी कि छापेमारी किस मामले में की जा रही है.

    CBI ने देशमुख और कुछ अन्य अज्ञात लोगों के खिलाफ आपराधिक साजिश रचने तथा भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम से संबंधित भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत ‘सार्वजनिक कर्तव्यों के अनुचित एवं बेईमानी पूर्ण निर्वहन के जरिए अनुचित लाभ अर्जित करने की कोशिश’ का मामला दर्ज किया है. मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह को हटाए जाने के बाद के घटनाक्रम में देशमुख के खिलाफ ये आरोप सामने आए थे.

    देशमुख के वकील और अपने सब इंस्पेक्टर को गिरफ्तार कर चुकी है CBI
    सीबीआई ने दो सितंबर को देशमुख के वकील आनंद डागा और अपने ही सब-इंस्पेक्टर अभिषेक तिवारी को देशमुख के खिलाफ प्रारंभिक जांच से संबंधित गोपनीय दस्तावेज कथित तौर पर लीक करने के आरोप में गिरफ्तार किया था. एजेंसी ने बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश पर एक शुरुआती जांच शुरू की थी अदालत ने देशमुख के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों पर एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए निर्देश जारी किए थे.

    देशमुख को कथित तौर पर क्लीन चिट देने की शुरुआती जांच की रिपोर्ट लीक हो गई थी जिससे एजेंसी को शर्मिंदगी उठानी पड़ी. सीबीआई ने इस रिपोर्ट के लीक होने की जांच शुरू की जिसमें सामने आया कि प्रारंभिक जांच के निष्कर्ष प्रभावित हैं.

    लीक हुए निष्कर्ष में सामने आया कि मामले की जांच कर रहे पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) ने कथित तौर पर कहा था कि देशमुख के खिलाफ कोई संज्ञेय अपराध नहीं बनता है. बाद में डीएसपी की राय विपरीत इसे FIR में बदल दिया गया. FIR में उल्लेखित राय में कहा गया है कि देशमुख के खिलाफ संज्ञेय अपराध बनता है. CBI की FIR में आरोप लगाया गया, ‘शुरुआती जांच में सामने आया कि मामले में संज्ञेय अपराध बनता है जहां महाराष्ट्र के तत्कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख और अज्ञात अन्य ने अपने सार्वजनिक कर्तव्य के अनुचित और बेईमान प्रदर्शन करते हुए अनुचित लाभ प्राप्त करने का प्रयास किया है.’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज