ACB को देखा तो पकड़े जाने के डर से रिश्वत में लिए रुपये चबा गया क्लर्क

चार्जशीट के बदले सेशन कोर्ट के क्लर्क ने मांगे थे 1500 रुपये, एंटी करप्‍शन की टीम पकड़ने पहुंची तो रुपये चबाने लगा लेकिन उसे पकड़ कर रिश्वत की रकम बरामद कर ली गई और उसे गिरफ्तार कर लिया.

News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 1:41 PM IST
ACB को देखा तो पकड़े जाने के डर से रिश्वत में लिए रुपये चबा गया क्लर्क
पुलिस को आरोपी की नाक पकड़ कर मुंह से रुपये निकलवाने पड़े.
News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 1:41 PM IST
पुणे के सेशन कोर्ट में कार्यरत एक क्लर्क को जब ऐंटी करप्‍शन ब्यूरो ने रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा तो उसने कुछ ऐसा किया कि एसीबी के अधिकारी भी सकते में आ गए. इस क्लर्क ने रिश्वत में लिए रुपये एसीबी के अधिकारियों को देख कर चबा लिए और निगलने की कोशिश की. लेकिन वह ऐसा करने में कामयाब नहीं हो सका और एसीबी की टीम ने उसे रंगे हाथ पकड़ गिरफ्तार कर लिया.

फोटोकॉपी के बदले मांगी थी रिश्वत
पुलिस ने बताया कि आरोपी क्लर्क का नाम प्रसन्नकुमार भागवत है. भागवत ने एक केस में दायर चार्जशीट की फोटोकॉपी देने के एवज में एक व्यक्ति से 1500 रुपये की रिश्वत मांगी थी. शिकायतकर्ता ने एक सप्ताह पहले भागवत से अनुरोध किया था कि उसे चार्जशीट की कॉपी उपलब्‍ध करवाई जाए लेकिन भागवत ने ऐसा नहीं किया और कई दिनों तक शिकायतकर्ता को चक्कर लगवाए. बाद में उसने फोटोकॉपी के बदले 1500 रुपये रिश्वत की मांग की. ‌इसके बाद शिकायतकर्ता ने एसीबी में इस मामले की शिकायत की.

जाल बिछाया

शिकायत मिलने के बाद एसीबी ने शिकायतकर्ता को क्लर्क को पैसे देने के लिए कोर्ट के ही एक गेट पर दोपहर में बुलाया. यहां पर एसीबी ने जाल बिछा रखा था. जैसे ही क्लर्क वहां पहुंचा और रिश्वत के पैसे अपने हाथ में लिए एसीबी की टीम उसकी ओर बढ़ी. खतरा देख कर वह 500-500 के तीन नोट चबा गया. लेकिन एसीबी के अधिकारियों ने क्लर्क को पकड़ा और झुकाकर उसकी नाक बंद कर दी. जिसके बाद उसने नोट उगल दिए.

ये भी पढ़ें- रविकिशन ने की भोजपुरी को 8वीं अनुसूची में शामिल करने की मांग

आजम के बाद सपा सांसद एसटी हसन ने दिया आपत्तिजनक बयान
First published: July 5, 2019, 12:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...