• Home
  • »
  • News
  • »
  • maharashtra
  • »
  • दिल्ली में खुल गई मेट्रो, रेस्त्रां और सिनेमा हॉल, फिर मुंबई में कब तक रहेंगी पाबंदियां- कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा

दिल्ली में खुल गई मेट्रो, रेस्त्रां और सिनेमा हॉल, फिर मुंबई में कब तक रहेंगी पाबंदियां- कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा

मुंबई को कोरोना पाबंदियों से ढील देने की मांग. (File Pic)

मुंबई को कोरोना पाबंदियों से ढील देने की मांग. (File Pic)

Coronavirus in Mumbai: कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा (Milind Deora) ने कहा कि दिल्‍ली जैसे शहरों में मेट्रो 100 फीसदी क्षमता से चल रही है. सिनेमा हॉल खुले हैं, खाने-पीने की जगह भी रात 10 बजे तक खुली हैं.

  • Share this:

    मुंबई. देश में इस समय भी अधिकांश हिस्‍सों में कोरोना वायरस (Coronavirus) की स्थिति चिंताजनक है. हालांकि कई राज्‍यों में अपने यहां कोरोना के कारण लगाई गई पाबंदियों (Covid 19 Restrictions) में ढील दे दी है. इसमें रेस्‍तरां से लेकर स्‍कूल तक खुले हैं. वहीं दिल्‍ली में मेट्रो को भी 100 फीसदी की क्षमता के साथ चलाया जा रहा है. लेकिन मुंबई (Mumbai) में अब भी कोरोना की पाबंदियों पर कोई ढील नहीं दी गई है. लोकल ट्रेनों में भी सिर्फ फ्रंटलाइन वर्कर्स को सफर की अनुमति है. ऐसे में कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा (Milind Deora) ने मुंबई में भी इन पाबंदियों में ढील देने की मांग की है.

    मिलिंद देवड़ा ने अपने ट्विटर अकाउंट पर महाराष्‍ट्र सरकार की ओर से सोमवार को जारी नई गाइडलाइंस को शेयर किया. इसके साथ ही उन्‍होंने लिखा, ‘दिल्‍ली जैसे शहरों में मेट्रो 100 फीसदी क्षमता से चल रही है. सिनेमा हॉल खुले हैं, खाने-पीने की जगह भी रात 10 बजे तक खुली हैं. कई शहर स्‍कूलों को फिर से खोलने पर विचार कर रहे हैं. लेकिन मुंबई में ट्रेनें और सिनेमा हॉल पूरी तरह से बंद हैं. यह उनके लिए भी बंद हैं, जिन्‍हें वैक्‍सीन की दोनों डोज लग चुकी हैं. रेस्‍तरां भी शाम 4 बजे बंद हो जाते हैं.’

    बता दें कि महाराष्‍ट्र सरकार ने सोमवार को राज्‍य के 14 शहरों के लिए पहले से चली आ रही पाबंदियों को बढ़ा दिया है. इनमें पुणे, रत्‍नागिरी, सिंधुदुर्ग, सोलापुर, रायगढ़ जैसे शहर शामिल हैं. वहीं सरकार की ओर से कहा गया है कि मुंबई, मुंबई उपनगरीय क्षेत्र और ठाणे में कोरोना की पाबंदियां हटाने या कम करने का निर्णय वहां की डिजास्‍टर मैनेजमेंट अथॉरिटी कर सकती हैं.

    वहीं बॉम्बे हाईकोर्ट ने भी महाराष्ट्र सरकार से सोमवार को प्रश्न किया था कि कोरोना वायरस संक्रमण रोधी टीके की दोनों खुराक ले चुके लोगों को मुंबई में लोकल ट्रेनों में यात्रा करने की इजाजत क्यों नहीं दी जा सकती. मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति जीएस कुलकर्णी की पीठ ने कहा कि अगर संक्रमण रोधी टीके की खुराक लेने के बाद भी नागरिकों से घरों के अंदर रहने की उम्मीद की जाती है तो टीके की दोनों खुराक लेने का मतलब ही क्या है.

    पीठ ने महाराष्ट्र के महाधिवक्ता आशुतोष कुंभकोणि के कथन पर यह सवाल किया. कुंभकोणि ने पीठ को सूचित किया था कि राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकार सभी अधिवक्ताओं, न्यायिक क्लर्क और अदालत के कर्मचारियों को लोकल ट्रेनों में यात्रा करने की अनुमति देने का इच्छुक नहीं है. इस समय केवल अग्रिम मोर्चे के कर्मचारी और सरकारी कर्मचारियों को ही लोकल ट्रेनों का इस्तेमाल करने की अनुमति है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज