कांग्रेस की महिला MLA का अस्पताल में हाई वोल्टेज ड्रामा, पुलिसवालों को कहा भला-बुरा

यशोमती शुक्रवार को मुंबई के सेंट जॉर्ज अस्पताल पहुंचीं और यहां पर पुलिस के साथ बहस की. वे कर्नाटक कांग्रेस के विधायक श्रीमंत पाटिल से मिलने की कोशिश कर रही थीं. इस दौरान वे अस्पताल प्रबंधन से भी भिड़ गईं.

News18Hindi
Updated: July 20, 2019, 8:41 AM IST
कांग्रेस की महिला MLA का अस्पताल में हाई वोल्टेज ड्रामा, पुलिसवालों को कहा भला-बुरा
इस दौरान यशोमती ने पुलिसकर्मियों से काफी तेज आवाज में बात की. एक महिला पुलिसकर्मी ने उन्हें रोकने और समझाने का प्रयास किया तो वे बोलीं कि मुझे टच मत करो.
News18Hindi
Updated: July 20, 2019, 8:41 AM IST
शायद इनके लिए न कोई नियम है और न ही ये पुलिस को मानती हैं. ये हैं महाराष्ट्र कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष और तिवसा की विधायक यशोमती ठाकुर. पहले भी इनकी चर्चा रही है, कभी बैठक में अधिकारियों को अपशब्द कहने को लेकर तो कभी गस्से में लोगों पर ‌चिल्लाने को लेकर. अब वे अस्पताल में हंगामा करती नजर आई हैं.

यशोमती शुक्रवार को मुंबई के सेंट जॉर्ज अस्पताल पहुंचीं और यहां पर पुलिस के साथ बहस की. वे कर्नाटक कांग्रेस के विधायक श्रीमंत पाटिल से मिलने की कोशिश कर रही थीं. इस दौरान वे अस्पताल प्रबंधन से भी भिड़ गईं. उन्होंने कहा कि यहां पर कार्डिएक यूनिट नहीं है तो दिल संबंधी बीमारी का इलाज यहां पर कैसे किया जा रहा है.

पैसे खाने में कर रहे हो मदद
इस दौरान यशोमती ने पुलिसकर्मियों से काफी तेज आवाज में बात की. एक महिला पुलिसकर्मी ने उन्हें रोकने और समझाने का प्रयास किया तो वे बोलीं कि मुझे टच मत करो. इस दौरान उन्होंने पुलिस अधिकारी से कहा कि नहीं जाऊंगी जो करना है करो. उन्होंने पुलिस पर आरोप लगाया कि वर्दी में आप लोग मदद कर रहे हो उन्हें पैसे खाने के लिए. उनका साफ इशारा पाटिल की तरफ था. इस दौरान उन्होंने कहा कि मैं हर हाल में अपने विधायक से मिलूंगी, देखना चाहती हूं कि उनकी तबियत कितनी खराब है.




प्रबंधन के व्यक्ति को पकड़ा
इस दौरान अस्पताल प्रबंधन का एक व्यक्ति यशोमती को समझाने पहुंचा तो वे उससे भी भिड़ गईं. उन्होंने कहा कि तुम लोगों ने उन्हें यहां पर कैसे रख रखा है. यहां पर दिल संबंधी बीमारी की सुविधा ही नहीं है तो उनका इलाज यहां पर कैसे हो सकता है. इसके बाद उनका गुस्सा और बढ़ गया और उन्होंने प्रबंधन के व्यक्ति का हाथ पकड़ लिया. इस दौरान पुलिसकर्मियों ने बीच बचाव कर उन्हें रोका और हाथ छुड़ाकर अस्पताल कर्मचारी को वहां से हटाया. इस दौरान उन्होंने कई बार पुलिस और अस्पताल कर्मी को अपशब्द भी कहे.

पहले भी कर चुकी हैं ऐसा
इससे पहले जल संसाधनों को लेकर हुई बैठक के दौरान भी यशोमती ने अधिकारियों से काफी बदसलूकी की थी. इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को गालियां दी थीं और तोड़फोड़ भी की थी. उन्होंने अधिकारियों को धमकियां दी थीं और लोगों के समझाने पर उन्हें भी अंजाम भुगतने की बात कही थी.

ये भी पढ़ें - शिवसेना के टिकट पर चुनाव लड़ सकते हैं ये पुलिस अफसर



...जब ट्रेन रोककर पटरियों पर पेशाब करने लगा ड्राइवर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 20, 2019, 8:34 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...