• Home
  • »
  • News
  • »
  • maharashtra
  • »
  • लखीमपुर में हुई हिंसा के विरोध में महाराष्ट्र बंद, कहीं गुलाब देकर बंद कराईं दुकानें तो कहीं व्यापारी अड़े

लखीमपुर में हुई हिंसा के विरोध में महाराष्ट्र बंद, कहीं गुलाब देकर बंद कराईं दुकानें तो कहीं व्यापारी अड़े

लखीमपुर में हुई हिंसा के विरोध में दुकानें बंद

लखीमपुर में हुई हिंसा के विरोध में दुकानें बंद

महाविकास अघाड़ी सरकार के तीन दलों शिवसेना, कांग्रेस और राकांपा सदस्यों ने लखीमपुर की घटना के विरोध में महाराष्ट्र बंद का आह्वान किया है. राज्य के विभिन्न हिस्सों में स्कूल-कॉलेज बंद हैं.

  • Share this:

    मुंबई. उत्तर प्रदेश स्थित लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri Violence) में हुई हिंसा के विरोध में महाराष्ट्र (Maharashtra) में सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी (MVA) के तीन दलों कांग्रेस-शिवसेना-एनसीपी गठबंधन ने राज्य में बंद का आह्वान किया है. सत्ताधारी गठबंधन ने इस बंद को सफल बनाने के लिए जनता से भी समर्थन मांगा. स्थानीय बाजारों से लेकर मंडियां तक इस बंद के समर्थन में बंद रहीं. मिली जानकारी के पुणे में एपीएमसी बाजार बंद रहा. एपीएमसी मंडी के पदाधिकारी मधुकांत गरड़ ने कहा- ‘व्यापारियों ने बंद का पालन करने का फैसला किया. इसकी जानकारी किसानों को पहले ही दे दी गई थी.’ राज्य के औरंगाबाद में भी बंद देखने को मिला. जिले की दुकानें पूरी तरह से बंद थीं. उधर, बंद के दौरान किसी तरह से कानूनी व्यवधान ना पैदा हो इसके लिए जिला प्रशासन ने पुलिस के सहयोग से सुरक्षा के इंतजाम किए थे.

    हालांकि सोलापुर में शिवसैनिकों ने उग्र प्रदर्शन किया और टायर जलाकर अपना विरोध दर्ज कराया. यहां शिवसेना की युवा विंग के नेताओं ने उग्र प्रदर्शन किया और मामले में कड़ी कार्रवाई की मांग की. उधर बीड जिले में शिवसेना व्यापारियों को गुलाब देकर दुकानें बंद करने की अपील कर रही है. शिवसेना नेता परमेश्वर सतपुते, उप जिला प्रमुख गणेश वारेकर, हनुमान जगताप और बप्पासाहेब घुगे ने महाराष्ट्र बंद को सफल बनाने के लिए गांधीगिरी राह अपनाई. शिवसेना दुकानदारों से सुबह छह बजे से सड़कों पर उतरकर बंद में शामिल होने की अपील कर रही है. इस दौरान उन्होंने केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर मोदी सरकार का विरोध किया.

    मुंबई में व्यापारी बोले- हम किसानों के साथ लेकिन बंद नहीं करेंगे दुकान
    इन सबके बीच भाजपा ने व्यापारी और आम लोगों से अपील की है कि अगर कोई उन्हें दुकान बंद करने के लिए धमकाये या दबाव डाले तो लोग उन्हें सूचित करें. औरंगाबाद में भाजपा ने व्यापारियों से अपील की है कि कोई भी राजनीतिक दलों के दबाव में न आए और दुकानें बंद ना करें. बीजेपी जिलाध्यक्ष संजय केनेकर ने कहा है कि बीजेपी सड़कों पर उतरेगी और मुंहतोड़ जवाब देगी.

    इसके साथ ही मुंबई में डब्बा वालों के संगठन ने भी इस बंद का समर्थन किया है. वहीं, आज के बंद में मुंबई की बस सेवा बेस्ट (BEST) वर्कर्स यूनियन हिस्सा नहीं लेगी. BEST एक आवश्यक सेवा है. मजदूर नेता शशांक राव ने आरोप लगाया है कि बेस्ट राज्य सरकार के फैसले का उल्लंघन कर रही है. हालांकि मुंबई की सड़कों पर BEST की बसें बहुत कम संख्या में दिख रही हैं. मुंबई में कुछ व्यापारियों ने बंदी का विरोध किया है. उन्होंने बताया कि दुकानें खुली रहेंगे. व्यापारी वीरेन शाह ने कहा कि हम किसानों का समर्थन करते हैं लेकिन दुकानें बंद नहीं करेंगे.

    ठाणे में कुछ व्यापार संघों ने भी महाराष्ट्र बंद का विरोध किया है. इन व्यापार संघों ने कहा है कि वे महाराष्ट्र बंद का समर्थन नहीं कर रहे हैं. ठाणे में कुछ संगठनों ने यह कहा कि कोरोना के चलते दुकानें पहले ही बंद थीं, ऐसे में अब और नुकसान नहीं उठा सकते.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज