Viral Video: हाथरस मामले में विरोध प्रदर्शन कर रहे कांग्रेसी आपस में ही लड़े, बीजेपी ने उठाए सवाल

वसई की घटना का वीडियो ग्रैब
वसई की घटना का वीडियो ग्रैब

उत्तर प्रदेश स्थित हाथरस (Hathras News) के एक गांव में 14 सितंबर को 19 वर्षीय दलित लड़की से अगड़ी जाति के चार लड़कों ने कथित रूप से बलात्कार किया था. इस लड़की की 29 सितंबर को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान मृत्यु हो गयी थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 12:52 PM IST
  • Share this:
मुंबई. उत्तर प्रदेश स्थित हाथरस (Hathras News) में कथित गैंगरेप पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए देश भर में आंदोलन जारी है. कांग्रेस समेत कई राजनीतिक दल सरकार के दोषियों को सजा देने और प्रशासन द्वारा की गई लापरवाहियों पर कार्रवाई करने की मांग की है. इस बीच महाराष्ट्र स्थित कोंकण के वसई का एक वीडियो सामने आया है, जहां कांग्रेस कार्यकर्ता हाथरस के मामले पर विरोध प्रदर्शन कर रहे थे. वहां किसी बात पर कांग्रेस के ही दो गुटों में आपसी झगड़ा हो गया. इस पर भारतीय जनता पार्टी के राज्य प्रवक्ता रामकदम ने ट्वीट कर वीडियो जारी किया. उन्होंने सवाल उठाया कि क्या वाकई कांग्रेस इस मामले पर गंभीर है?

रामकदम ने लिखा- 'कांग्रेस के गुट विरोध प्रदर्शन वाली जगह पर भिड़ गए, जो उनके असली मकसद को उजागर करता है. बलात्कार की  घटना निंदनीय है, लेकिन वसई में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के इन आंतरिक झगड़ों पर एक गंभीर सवाल उठता है. क्या वे वास्तव में हाथरस में पीड़ितों के लिए बुरा महसूस करते हैं या फिर वह सिर्फ प्रचार में ही व्यस्त हैं?' रामकदम ने अपने ट्वीट में कांग्रेस नेता राहुल को ट्वीट करते हुए यह सवाल पूछा है.

क्या है पूरा मामला?
बता दें हाथरस में 14 सितंबर को 19 साल की एक दलित लड़की से कथित रूप से सामूहिक बलात्कार किया गया था. इस दौरान उसके साथ मारपीट भी की गयी थी. लड़की को पहले अलीगढ़ के जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था, जहां से तबीयत खराब होने पर उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में दाखिल कराया गया था, जहां इलाज के दौरान 29 सितंबर को उसकी मौत हो गयी थी.





लड़की के शव का 29/30 सितंबर की दरम्यानी रात को अंतिम संस्कार किया गया था. परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने शव को जबरन पेट्रोल डालकर जलाया था, जबकि पुलिस का दावा है कि परिजनों की रजामंदी से ही अंतिम संस्कार किया गया था.

बहरहाल, हाथरस मामले को लेकर राजनीतिक सरगर्मियां खासी तेज हैं. इस मुद्दे को लेकर तमाम विपक्षी दलों ने सरकार को घेरा है. राज्य सरकार ने इसकी सीबीआई जांच की भी सिफारिश की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज