लाइव टीवी

कोरोना वायरस के नाम पर हो रही ठगी, एक क्लिक आपको बना सकता है शिकार
Maharashtra News in Hindi

Ashish Singh | News18India
Updated: February 14, 2020, 1:17 PM IST
कोरोना वायरस के नाम पर हो रही ठगी, एक क्लिक आपको बना सकता है शिकार
कोरोना वायरस के कारण चीन में 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. (सांकेतिक तस्वीर)

महाराष्ट्र साइबर सेल के मुताबिक लोगों के मोबाइल और ईमेल पर कोरो नावायरस से बचने के उपायों वाला एक लिंक भेज कर उन्हें शिकार बनाया रहा है. इस लिंक पर क्लिक करते ही लोगों के बैंक खातों से जुड़ी जानकारी उन लोगों तक पहुंच रही है, जो इस साज़िश के पीछे हैं.

  • News18India
  • Last Updated: February 14, 2020, 1:17 PM IST
  • Share this:
पूरे विश्व में खौफ का पर्याय बन चुके कोरोना वायरस (Coronavirus) को ठगों ने अपना हथियार बना लिया है. कोरोना वायरस (Coronavirus) के नाम पर  न केवल आपके पर्सनल डाटा बल्कि आपके बैंक अकाउंट तक को साफ किया जा सकता है.

कोरोना वायरस से जुड़ी कोई जानकारी, सावधानियों से जुड़ा कोई भी मेल, मैसेज या वाट्सऐप पर आने पर, उस पर महज एक क्लिक ही आपको ठगी का शिकार बना सकता है. लगातार बढ़ रहे इन मामलों को लेकर महाराष्ट्र साइबर सेल ने लोगो को अलर्ट किया है.

महाराष्ट्र साइबर क्राइम के DIG हरीश बैजल ने ऐसी ठगी से बचने के लिए अलर्ट जारी किया है. महाराष्ट्र  साइबर सेल के मुताबिक लोगों के मोबाइल और ईमेल पर कोरोना वायरस से बचने के उपायों वाला एक लिंक भेजकर उन्हें शिकार बनाया रहा है. इस लिंक पर क्लिक करते ही लोगों के बैंक खातों से जुड़ी जानकारी उन लोगों तक पहुंच रही है, जो इस साज़िश के पीछे हैं. साइबर सेल ने बताया कि कई हैकर लोगों की इस जानकारी का इस्तेमाल उनके बैंक खातों में पड़ी रक़म पर सेंध लगाने में कर सकते हैं.

महज एक मेल,मैसेज,वाट्सएप आपको बना सकता है ठगों का शिकार

दरअसल पिछले साल नवंबर महीने में चीन के वुहान से फैले कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को हिला कर रख दिया है. हर कोई इस वायरस की खबर से डर हुआ है. यही डर हैकर्स का वो हथियार बना हुआ है जिसका इस्तेमाल कर वे चोरी किए गए डाटा से लोगो को कोरोना वायरस से जुड़ी हुई जानकारियां, सावधानी, पहचान के तरीके और बचने के लिए उपाय मेल, मैसेज, वाट्सऐप पर लिंक व आर्टिकल्स डालते हैं.

पिछले कुछ समय से जिस तरह कोरोना वायरस को लेकर पूरे देशभर में माहौल है. उसी के चलते लोग इन लिंक्स पर जहां क्लिक करते हैं. वैसे ही उस शख्स की सभी पर्सनल इन्फॉर्मेशन हैकर के पास पहुंच जाती है. इतना ही नही साथ साथ आपके डाटा, मेल, वाट्सऐप, मैसेज में मौजूद अन्य लोगों से जुड़ी जानकारी भी हैकर्स तक पहुंचती हैं जिसका इस्तेमाल वो अपने अगले टारगेट के तौर पर इस्तेमाल करते हैं.

ईमेल हैकर्स विश्वास बनाए रखने के लिए किसी एनजीओ या विश्व स्वास्थ्य संगठन के नाम पर मेल भेजते हैं ताकि कोई शक न हो. इसके अलावा ऐसी भाषा का भी प्रयोग करते हैं की लोग डर के या फिर उत्सुकता में मेल में दिये लिंक को क्लिक करें.ऐसी ठगी से बचने के लिए क्या सावधानियां बरतें
साइबर एक्सपर्ट अंकुर पुराणिक के मुताबिक, कोरोना वायरस से जुड़ा कोई भी संदेश जब यूजर्स क्लिक करता है तो वायरस मोबाइल में 'डाउनलोड' हो जाता है, जिसके ज़रिए मोबाइल की पूरी 'एक्सेस' हैकर को मिल सकती है. इसके जरिये हैकर आपके पेटीएम, डिजिटल मनी से जुड़े अकाउंट में आसानी से सेंध लगा सकता है. महाराष्ट्र साइबर क्राइम की सलाह है कि ऐसे किसी भी लिंक को क्लिक न करें.

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए महाराष्ट्र से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 14, 2020, 1:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर