पुणे में कोरोना का कहर- पूरा परिवार संक्रमित, 72 घंटे के भीतर दो भाइयों की मौत; अस्पताल में भर्ती हैं पिता

बिहार में कोरोना से 100 से अधिक मौत (प्रतीकात्मक तस्वीर)

बिहार में कोरोना से 100 से अधिक मौत (प्रतीकात्मक तस्वीर)

महाराष्ट्र के पुणे (Pune News) में पिंपरी-चिंचवाड़ के अकुर्दी इलाके में 72 घंटे के भीतर दो भाइयों की कोविड -19 से मौत हो गई. वहीं पिता अस्पताल में भर्ती हैं. तो दूसरी ओर पूरा परिवार कोविड संक्रमित है.

  • Share this:

पुणे. महाराष्ट्र के पुणे (Pune News) में पिंपरी-चिंचवाड़ के अकुर्दी इलाके में 72 घंटे के भीतर दो भाइयों की कोविड -19 से मौत हो गई.28 वर्षीय आदित्य विजय जाधव और 25 वर्षीय अपूर्व विजय जाधव वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे और उन्हें कोविड निमोनिया था. दोनों को और कोई रोग नहीं था.  इतना ही नहीं उनके कोविड संक्रमित पिता का भी इलाज चल रहा है. उनको अभी तक मौतों की सूचना नहीं दी गई है. अपूर्व की अब तक शादी नहीं हुई थी. लेकिन आदित्य की शादी एक साल पहले हुई थी. अपूर्व को 1 मई को पता चला था कि वह कोविड संक्रमित हैं.

अंग्रेजी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार दिवंगत भाइयों के मामला हेमंत कोंडे ने कहा कि अपूर्व पुणे नगर निगम (पीएमसी) के अतिक्रमण रोधी विभाग में काम कर रहा था. उन्होंने कहा, 'महामारी के कारण अपूर्व को भवानी पेठ के पीएमसी अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया था. हमें लगता है कि वह इसी दौरान संक्रमित हो गए होंगे.' अपूर्व को रावेत के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

पूरा परिवार है कोविड संक्रमित

कोंडे ने कहा कि अपूर्व दो-तीन दिनों तक घर पर रहे और जब उन्हें दिक्कत हुई तो परिवार ने उसे एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया. इसके बाद उनके परिवार के सभी सदस्य माता, पिता, भाई और भाई की पत्नी भी कोविड संक्रमित पाए गए.
कोंडे ने बताया कि परिवार के तीन सदस्यों को घरकुल कोविड केयर सेंटर में भर्ती कराया गया है. उन्होंने कहा 'जब आदित्य को दिक्कत हुई, तो उन्हें जंबो अस्पताल में भर्ती कराया गया और कुछ दिनों बाद, उनके पिता को YCM अस्पताल में भर्ती कराया गया.' कोंडे के अनुसार अपूर्व शुरू में ठीक थे लेकिन 'बाद में उनका ऑक्सीजन लेवल नीचे चला गया, उन्हें आईसीयू में ले गए और वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया.'


कोंडे ने  आरोप लगाया कि आदित्य का ठीक से इलाज नहीं किया गया. कोंडे ने कहा कि 'आदित्य ने शिकायत की कि ठीक इलाज नहीं हो रहा है. परिवार ने कुछ दिनों बाद एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया जहां वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया. लेकिन 72 घंटे के अंतराल में दोनों की मौत हो गई. अपूर्व की गुरुवार को और आदित्य की शनिवार को मौत हो गई.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज